उन्नाव कांड में सीबीआइ के गवाह का शव घरवाले कब्र से निकलवाने को तैयार नहीं

भारतीय जनता पार्टी के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के सामूहिक दुष्कर्म तथा पीडि़ता के पिता की जेल में मौत के मामले में संलिप्तता की जांच कर रही सीबीआई अब नया कदम बढ़ाने जा रही है। इस प्रकरण में सीबीआई के गवाह की मौत के मामले में सीबीआई अब मृतक के शव को कब्र से निकालकर जांच करने की तैयारी में है।भारतीय जनता पार्टी के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के सामूहिक दुष्कर्म तथा पीडि़ता के पिता की जेल में मौत के मामले में संलिप्तता की जांच कर रही सीबीआई अब नया कदम बढ़ाने जा रही है। इस प्रकरण में सीबीआई के गवाह की मौत के मामले में सीबीआई अब मृतक के शव को कब्र से निकालकर जांच करने की तैयारी में है।   उन्नाव के माखी थाना क्षेत्र के इस कांड के गवाह का शव कब्र से निकाला जाएगा। सीबीआइ के मुख्य गवाह यूनुस की मौत पर सवाल खड़े होने को लेकर चल रहे बवाल के बाद जिलाधिकारी देवेंद्र कुमार पाण्डेय ने क्रब की खोदाई कराने का आदेश दिया है। शव को कब्र से निकलवाने के दौरान माखी थाना क्षेत्र के कब्रिस्तान में भारी सुरक्षा बल तैनात है। पुलिस फोर्स के साथ पीएसी तथा एसडीएम व सीओ सफीपुर की निगरानी में कब्र को खोदवाकर यूनुस का शव बाहर निकाला जाएगा। इस दौरान गांव में भारी भीड़ को देखते हुए सुरक्षा के कड़े प्रबंध हैं।  घरवाले शव को कब्र से निकलवाने को तैयार नहीं   उन्नाव कांड के मुख्य गवाह की मौत मामले में डीजीपी ने भेजा सीबीआइ को पत्र यह भी पढ़ें डीएम के निर्देश के बाद सीबीआई के गवाह यूनुस का शव कब्र से निकलवाने सीओ सफीपुर, एसडीएम हसनगंज, एसडीएम सदर पूजा अग्निहोत्री के साथ माखी व मौरावां थाना की फोर्स ने मृतक यूनुस के घर पहुंच कर परिवार के लोगों से बात की। यूनुस के परिवार के लोग शव को कब्र के बाहर निकलवाने को राजी नहीं है। इन लोगों ने यूनुस की बीमारी से मौत का बार-बार हवाला देते हुए कहा कि यह हमारे शरियत में नहीं है हम उसके विरुद्ध नहीं काम करने देंगे। जिसके बाद अफसरों की टीम फिर थाना लौट गई है। वहां पर इस प्रकरण पर विचार हो रहा है।      भाजपा विधायक कुलदीप समेत तीन पर धोखाधड़ी का मुकदमा यह भी पढ़ें डीजीपी ने सीबीआइ निदेशक को भेजा पत्र  उन्नाव कांड में सीबीआइ के गवाह यूनुस की रहस्मय हालात में हुई मौत के मामले में डीजीपी ओपी सिंह ने सीबीआइ निदेशक को पत्र भेजकर पूरी स्थिति बताई है। साथ ही पीडि़त किशोरी के चाचा तथा यूनुस की पत्नी की ओर से उन्नाव पुलिस को दी गईं तहरीरें भी भेजी हैं। डीजीपी ने मामले में सीबीआइ निदेशक पर निर्णय छोड़ दिया है।   उन्नाव विधायक कांड में सीबीआइ के मुख्य गवाह की रहस्यमय मौत, उठे सवाल यह भी पढ़ें   उल्लेखनीय है कि उन्नाव कांड में सीबीआइ के गवाह की मौत को लेकर आरोप-प्रत्यारोप शुरू हो गए हैं। पीडि़त किशोरी के चाचा ने गवाह यूनुस की हत्या का संदेह जताते हुए मामले की जांच के लिए उन्नाव पुलिस को तहरीर दी है। यूनुस की पत्नी ने भी उन्नाव पुलिस को तहरीर देकर कहा है कि उन्हें आठ लाख रुपये का प्रलोभन देकर गलत बयान के लिए कहा जा रहा है। उसके पति की मौत बीमारी से हुई है।   उन्नाव सामूहिक दुष्कर्म : सीबीआइ के लिए तमाम साक्ष्य लेकर पहुंचा पीडि़ता का चाचा यह भी पढ़ें यूनुस के भाई चांद मुहम्मद ने भी पुलिस से उसके भाई का शव कब्र से निकलवाकर उसका पोस्टमार्टम कराए जाने की मांग की है। चूंकि उन्नाव कांड की जांच सीबीआइ के हवाले है, लिहाजा डीजीपी ने भी इस प्रकरण को सीबीआइ के ही पाले में डाल दिया है। उधर, इस बीच उन्नाव पुलिस ने मामले में डीएम से यूनुस के शव को कब्र से निकलवाकर उसका पोस्टमार्टम कराए जाने की बात कही है। सीबीआइ जांच के लिहाज से पुलिस अपना एक-एक कदम संभालकर बढ़ा रही है।

उन्नाव के माखी थाना क्षेत्र के इस कांड के गवाह का शव कब्र से निकाला जाएगा। सीबीआइ के मुख्य गवाह यूनुस की मौत पर सवाल खड़े होने को लेकर चल रहे बवाल के बाद जिलाधिकारी देवेंद्र कुमार पाण्डेय ने क्रब की खोदाई कराने का आदेश दिया है। शव को कब्र से निकलवाने के दौरान माखी थाना क्षेत्र के कब्रिस्तान में भारी सुरक्षा बल तैनात है। पुलिस फोर्स के साथ पीएसी तथा एसडीएम व सीओ सफीपुर की निगरानी में कब्र को खोदवाकर यूनुस का शव बाहर निकाला जाएगा। इस दौरान गांव में भारी भीड़ को देखते हुए सुरक्षा के कड़े प्रबंध हैं।

घरवाले शव को कब्र से निकलवाने को तैयार नहीं

डीएम के निर्देश के बाद सीबीआई के गवाह यूनुस का शव कब्र से निकलवाने सीओ सफीपुर, एसडीएम हसनगंज, एसडीएम सदर पूजा अग्निहोत्री के साथ माखी व मौरावां थाना की फोर्स ने मृतक यूनुस के घर पहुंच कर परिवार के लोगों से बात की। यूनुस के परिवार के लोग शव को कब्र के बाहर निकलवाने को राजी नहीं है। इन लोगों ने यूनुस की बीमारी से मौत का बार-बार हवाला देते हुए कहा कि यह हमारे शरियत में नहीं है हम उसके विरुद्ध नहीं काम करने देंगे। जिसके बाद अफसरों की टीम फिर थाना लौट गई है। वहां पर इस प्रकरण पर विचार हो रहा है। 

डीजीपी ने सीबीआइ निदेशक को भेजा पत्र

उन्नाव कांड में सीबीआइ के गवाह यूनुस की रहस्मय हालात में हुई मौत के मामले में डीजीपी ओपी सिंह ने सीबीआइ निदेशक को पत्र भेजकर पूरी स्थिति बताई है। साथ ही पीडि़त किशोरी के चाचा तथा यूनुस की पत्नी की ओर से उन्नाव पुलिस को दी गईं तहरीरें भी भेजी हैं। डीजीपी ने मामले में सीबीआइ निदेशक पर निर्णय छोड़ दिया है।

उल्लेखनीय है कि उन्नाव कांड में सीबीआइ के गवाह की मौत को लेकर आरोप-प्रत्यारोप शुरू हो गए हैं। पीडि़त किशोरी के चाचा ने गवाह यूनुस की हत्या का संदेह जताते हुए मामले की जांच के लिए उन्नाव पुलिस को तहरीर दी है। यूनुस की पत्नी ने भी उन्नाव पुलिस को तहरीर देकर कहा है कि उन्हें आठ लाख रुपये का प्रलोभन देकर गलत बयान के लिए कहा जा रहा है। उसके पति की मौत बीमारी से हुई है।

यूनुस के भाई चांद मुहम्मद ने भी पुलिस से उसके भाई का शव कब्र से निकलवाकर उसका पोस्टमार्टम कराए जाने की मांग की है। चूंकि उन्नाव कांड की जांच सीबीआइ के हवाले है, लिहाजा डीजीपी ने भी इस प्रकरण को सीबीआइ के ही पाले में डाल दिया है। उधर, इस बीच उन्नाव पुलिस ने मामले में डीएम से यूनुस के शव को कब्र से निकलवाकर उसका पोस्टमार्टम कराए जाने की बात कही है। सीबीआइ जांच के लिहाज से पुलिस अपना एक-एक कदम संभालकर बढ़ा रही है।

You May Also Like

English News