#bypoll: उपचुनाव के नतीजों के बाद अखिलेश व केजरीवाल ने भाजपा पर कसा तंज, जानिए क्या कहा!

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के नूरपुर में सपा और कैराना में सपा व रालोद के गठबंधन की जीत पर अखिलेश यादव ने खुशी जताते हुए जनता को बधाई दी है। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने जीत के बाद पार्टी कार्यालय पर प्रेस वार्ता की। उन्होंने कहा कि देश को और समाज को बांटने वाली सरकार का खात्मा हुआ है। किसानों, बेरोजगारों ने भाजपा को जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि कैराना लोकसभा और नूरपुर के मतदाताओं को धन्यवाद और बधाई।

किसानों.गरीबों को बदाई जिन्होंने सामाजिक सद्भाव को विजयी बनाया है। बसपा के योगदान के सवाल पर उन्होंने कहा कि जिस तरह से रालोद को सभी ने समर्थन दिया उससे साफ है कि बसपा, आपए कांग्रेस सभी ने हमें समर्थन दिया है। पीस पार्टी, निषाद पार्टी समेत सभी पार्टियों को धन्यवाद जिन्होंने हमें विजयी बनाया।

प्रचार न करने के सवाल पर उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि मैं मुख्यमंत्री के भाषण से डर गया था इसलिए प्रचार करने नहीं गया। अखिलेश ने ट्वीट भी किया है कि कैराना और नूरपुर की जनता, कार्यकर्ताओं, उम्मीदवारों व सभी एकजुट दलों को जीत की हार्दिक बधाई! कैराना और नूरपुर समेत तमाम सीटों पर हुए उप चुनाव में जिस तरह के नतीजे आए हैं उसे बीजेपी के लिए खासा बुरा संकेत माना जा रहा है।

ऐसे में विपक्ष हर तरफ से भाजपा को घेरने में लगा है। ऐसे में आखिर केजरीवाल कैसे मौका छोड़ देते। केजरीवाल ने भी भाजपा और मोदी सरकार पर तंज कसा। केजरीवाल ने ट्वीट कर लिखा आज के नतीजे दिखाते हैं कि देशभर में मोदी सरकार के खिलाफ लोगों में बहुत ज्यादा गुस्सा है। अभी तक लोग पूछते थे विकल्प क्या है अब लोग कह रहे हैं कि मोदी जी विकल्प नहीं हैं पहले इन्हें हटाओ।

देश की 4 लोकसभा और 10 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे आज आ रहे हैं। इन सभी सीटों में से सबसे ज्यादा नजर उत्तर प्रदेश की कैराना लोकसभा सीट पर है। यहां भाजपा को हराने के लिए विपक्षी पार्टियां रालोद उम्मीदवार का समर्थन कर रही हैं। 2019 लोकसभा चुनाव की ओर बढ़ रहे देश में विपक्षी पार्टियां कैराना में भाजपा को हरा एक बड़ा संदेश देना चाहती थीं जो अब लगभग विपक्षी पार्टियां दे चुकीं हैं।

जिन लोकसभा सीटों पर उपचुनाव के नतीजे आने हैं उनमें यूपी की कैराना, महाराष्ट्र की भंडारा.गोंदिया और पालघर और नगालैंड की एक लोकसभा सीट शामिल है। वहीं विधानसभा की 10 सीटों पर उपचुनाव हुए हुए। पलुस कादेगांव महाराष्ट्रद्ध, नूरपुर यूपीद्ध, जोकीहाट बिहार, गोमिया और सिल्ली झारखंड, चेंगानूर केरल,अंपाती मेघालय,शाहकोट पंजाब,थराली उत्तराखंड, और मेहेशतला पश्चम बंगाल कैराना लोकसभा सीट भाजपा से छिन गई है।

यहां सपा और रालोद गठबंधन प्रत्याशी तबस्सुम हसन ने भाजपा प्रत्याशी मृगांका सिंह को भारी मतों से पराजित किया है। वहींए नूरपुर विधानसभा उपचुनाव में सपा का परचम लहराया है। पार्टी के नईमुल हसन ने छह हजार से भी अधिक वोटों से भाजपा प्रत्याशी अवनि सिंह को परास्त किया है।

बता दें कि कैराना लोकसभा सीट के उपचुनाव पर देश के राजनीतिक दलों की निगाहें थीं क्योंकि 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले हो रहे इस चुनाव की नतीजे देश की सियासत को नया संदेश देने वाले हैं। गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीट के उपचुनाव से विपक्षी दलों का गठबंधन बना।

कैराना उपचुनाव में गठबंधन की तरफ से मुस्लिम प्रत्याशी सपा विधायक नाहिद हसन की मां तबस्सुम हसन को रालोद के टिकट पर चुनाव लड़ाया और 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए नए समीकरण की परख की गई। रालोद अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह और उपाध्यक्ष जयंत चौधरी लगातार जाट बिरादरी के बीच पकड़ बनाने में लगे रहे।

You May Also Like

English News