उपचुनाव: में भी मोदी की लहर का असर बरकरार, 10 में से 7 पर खिला कमल

नई दिल्ली। 9 अप्रैल को आठ राज्यों की दस विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के आज आने हैं और इसकी काउंटिंग शुरु हो चुकी है। अभी तक जो रूझान सामने आए हैं

बड़ी खुशखबरी : अब ट्रेन में जहां चाहेंगे उस सीट पर बैठ सकेंगे आप

उसके मुताबिक दस में से सात सीटों पर बीजेपी आगे चल रही है। दिल्ली की राजौरी गार्डन सीट से बीजेपी-अकाली गठबंधन के उम्मीदवार मनजिंदर सिंह सिरसा आगे चल रहे हैं। जबकि आम आदमी पार्टी तीसरे नंबर पर हैं। वहीं कांग्रेस उम्मीदवार दूसरे नंबर है। हिमाचल प्रदेश की भोरंज सीट से बीजेपी उम्मीदवार ने जीत दर्ज की है। राजस्थान की धौलपुर सीट के शुरुआती रुझान में भी बीजेपी को बढ़त मिल रही है। पहले राउंड की काउंटिंग में बीजेपी उम्मीदवार आगे चल रहे हैं।

उपचुनाव के नतीजे आज आने हैं, सुबह आठ बजे से वोटों की काउंटिंग शुरु हो चुकी है

वहीं जम्मू-कश्मीर की श्रीनगर लोकसभा सीट के लिए हिंसा के बीच वोट डाले गए थे। यहां सिर्फ 7.14% वोटिंग दर्ज की गई। ये अब तक की सबसे कम वोटिंग रही। हिंसक भीड़ पर काबू पाने के लिए फोर्सेज ने फायरिंग की। इस दौरान 8 लोगों की मौत हो गई थी। वहीं श्रीनगर लोकसभा क्षेत्र के 38 मतदान केंद्रों पर आज फिर से वोटिंग कराई जा रही है।

मध्यप्रदेश

अटेर विधानसभा की बात करें तो यहां कुल 21 प्रत्याशी मैदान में हैं। कांग्रेस से हेमन्त कटारे मैदान में हैं, जबकि बीजेपी से अरविन्द भदौरिया उम्मीदवार हैं। समाजवादी पार्टी से दिनेश भदौरिया चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि इस बार बीएसपी ने उपचुनाव से दूरी बनाकर रखी है। निर्दलीय उम्मीदवारों की संख्या 18 है। मुख्य मुकाबला कांग्रेस और बीजेपी के बीच ही बताया जा रहा है। बांधवगढ़ की बात करें तो यहां 5 प्रत्याशी मैदान में हैं। जिसमें कांग्रेस से सावित्री सिंह और भाजपा के शिवनारायण सिंह के बीच सीधा मुकाबला है।
 
झारखंड 

पिछले 40 सालों से इस सीट पर झारखंड मुक्ति मोर्चा का कब्जा रहा है। बीजेपी ने उपचुनावों में इस सीट को हासिल करने की काफी कोशिश की है। उप चुनाव के मद्देनजर झारखंड के मुख्यमंत्री रघुबर दास ने भी खुद पांच दिनों तक पार्टी उम्मीदवार के लिए प्रचार किया था। बीजेपी ने झारखंड मुक्ति मोर्चा के पूर्व नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री हेमलाल मुरमु को मैदान में उतारा है जबकि झारखंड मुक्ति मोर्चा की ओर से कद्दावर नेता सिमोन मरांडी किस्मत आजमा रहे हैं।

असम 
असम की धेमाजी विधानसभा सीट के लिए उपचुनाव में 66.97 फीसदी वोटिंग हुई. इस उपचुनाव की खास बात रही कि राज्य में पहली बार मतदान के लिए वोटर वेरिफिएबल पेपर ऑडिट ट्रायल (वीवीपीएटी) मशीनों का इस्तेमाल किया गया.

असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल के अपने संसदीय सीट से इस्तीफा देने के बाद भारतीय जनता पार्टी के विधायक प्रधान बरुआ के लखीमपुर निर्वाचन क्षेत्र से संसद सदस्य चुने जाने के बाद यहां उप चुनाव जरूरी हो गया था.

You May Also Like

English News