उरी में हुए आतंकी हमले की अमेरिकी सांसदों ने की कड़ी…..

वॉशिंगटन: शीर्ष अमेरिकी सांसदों ने जम्मू्-कश्मीर के उरी में एक सैन्य शिविर पर हुए आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करते हुए हमलावरों को न्याय के दायरे में लाए जाने की अपील की है। इस हमले में 18 जवान शहीद हो गए हैं।

126173-uriattack700

‘सीनेट इंडिया कॉकस’ के सह अध्यक्ष डेमोक्रेटिक सीनेटर मार्क वार्नर ने कहा, ‘मैं जम्मू कश्मीर के उरी में भारतीय सैन्य शिविर पर हुए भीषण आतंकवादी हमले की निंदा करता हूं जिसके कारण 18 भारतीय जवानों की जान चली गई। इस कायराना कृत्य को अंजाम देने वाले आतंकवादियों को न्याय के दायरे में लाया जाना चाहिए।’ वार्नर ने कहा, ‘मैं हमले में जान गंवाने वाले जवानों के परिजन एवं उनके मित्रों के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं।’ रिपब्लिकन सीनेटर टॉम कॉटन ने कहा कि भारतीय सेना के जवानों पर भोर से पहले जब हमला हुआ तब वे सो रहे थे। यह एक कायराना कृत्य है जिसकी कड़े से कड़े शब्दों में निंदा की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘मैं भारत सरकार एवं मृतकों के परिजन के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं।’ कॉटन ने कहा, ‘कट्टरपंथी इस्लामी आतंकवाद के खतरे से हमारे लोकतंत्रों की रक्षा करने में अमेरिका और भारत दोनों का अहम साझा हित है। हमारे दोनों देशों को सुरक्षा साझेदारी गहरी करने के प्रति पूरी तरह प्रतिबद्ध होना चाहिए ताकि कट्टरपंथी जिहादियों को हराया जा सके और क्षेत्र की स्थिरता कायम रखी जा सके।’

‘हाउस कमेटी ऑन रूल्स’ के अध्यक्ष पीटर सेशंस ने कहा, ‘मैं भारत में हुए आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा करता हूं। हम आतंकवाद के खिलाफ मिलकर जो लड़ाई लड़ रहे हैं, उस पर इन हमलों का असर नहीं पड़ने देंगे।’ कांग्रेस के रिपब्लिकन सदस्य टेड पो ने कहा कि उरी हमला विश्व के लोकतांत्रिक देशों को यह याद दिलाता है कि आतंकवाद शांतिप्रिय समाज को हर जगह नष्ट करना चाहता है।

उन्होंने कहा, ‘यह अभी तक अस्पष्ट है कि यह आतंकवादी हमला किस आतंकवादी संगठन ने किया लेकिन एक बात निश्चित है कि सभी प्रकार के जिहादी आतंकवादी समूहों को परिचालन के लिए जगह मुहैया कराने और उन्हें सहयोग देने की पाकिस्तान की लंबे समय से चली आ रही गैरजिम्मेदाराना नीति का यह ताजा परिणाम है।’ आतंकवाद, परमाणु अप्रसार एवं व्यापार पर सदन की विदेशी मामलों की उप समिति के उपाध्यक्ष पो ने कहा कि इस संबंध में पाकिस्तान का लापरवाही पूर्ण व्यवहार उसके पड़ोसियों की सुरक्षा के लिए एक गंभीर खतरा है और दुर्भाग्यवश भारत को अक्सर इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है।

पो ने कहा, ‘हम इस त्रासद हमले और इन हमलों को अंजाम देने वालों जैसे कई अपराधियों के लिए पाकिस्तान के समर्थन की निंदा करते हैं और भारत में हमारे मित्रों के प्रति हमारी प्रतिबद्धता को लेकर मजबूती से खड़े हैं। भारत में लोकतंत्र को खतरे का मतलब हर जगह लोकतंत्र को खतरा है।’ सदन की विदेशी मामलों की उप समिति के वरिष्ठ सदस्य ब्रैड शेरमैन ने कहा कि उरी में हुआ आतंकवादी हमला अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मौजूद आतंकवाद से पैदा हो रहे खतरे की एक बार फिर याद दिलाता है।

एशिया एवं प्रशांत संबंधी मामलों पर उपसमिति के रैंकिंग सदस्य शेरमैन ने कहा, ‘मैं क्षेत्र की सरकारों को प्रोत्साहित करता हूं कि वे इन हमलों को अंजाम देने वाले आतंकवादियों को खोजने के लिए हरसंभव प्रयास करें और उन्हें न्याय के दायरे में लाएं। अमेरिका को इन सरकारों को सहायता देना जारी रखना चाहिए और यह सुनिश्चित करना चािहए कि वे आतंकवाद के खतरों को नष्ट कर सकें।’

You May Also Like

English News