एक और बड़ा खुलासा: साहूकार का काम भी करता था राम रहीम, लेनदेन करती थी हनीप्रीत

जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा गुरमीत राम रहीम और उसकी खास राजदार हनीप्रीत इंसान को लेकर अब एक और बड़ा खुलासा हुआ है. गुरमीत राम रहीम और उसकी खास राजदार हनीप्रीत इंसान पर आरोप है कि दोनों साहूकार बन कर लोगों को ब्याज की मोटी रकम के बदले लोन भी देते थे.एक और बड़ा खुलासा: साहूकार का काम भी करता था राम रहीम, लेनदेन करती थी हनीप्रीतBig News: ममता बनर्जी का बड़ा बयान, नहीं करायेंगी सिमकार्ड को आधार से लिंक!

सूत्रों के मुताबिक पंचकूला पुलिस ने सिरसा और गुरुसर मोडिया से जितने भी दस्तावेज बरामद किए थे उनसे भरे दो बैग प्रवर्तन निदेशालय को सौंप दिये हैं. इन दस्तावेजों में दूसरे महत्वपूर्ण दस्तावेजों के अलावा लोगों के लेन-देन से जुड़े कई अहम दस्तावेज भी मौजूद है. सूत्रों के मुताबिक गुरमीत राम रहीम लोगों को किसी बैंक की तरह ब्याज पर लोन भी उपलब्ध करवाता था.

सूत्रों के मुताबिक गुरमीत राम रहीम ने अपने जाननवालों को करोड़ों रुपये की धनराशि ऋण के रूप में उपलब्ध करवाई थी. आरोप है कि मनी लॉन्ड्रिंग के साथ-साथ गुरमीत राम रहीम पैसा कमाने के लिए साहूकार भी बन जाता था.

सूत्रों के मुताबिक प्रवर्तन निदेशालय को सौंपे कागजों में डेरे की सभी संपत्तियों और लेनदेन की जानकारी भी है. यह संपत्तियां हरियाणा के 11 जिलों और देश के विभिन्न 7 राज्यों में भी स्थित है. इसके अलावा प्रवर्तन निदेशालय ने हरियाणा विकास प्राधिकरण (हूडा) को एक पत्र लिखकर गुरमीत राम रहीम के नाम अलॉट की गई साइट्स की जानकारी भी मांगी गई है.

गुरुसर मोडिया और सिरसा से बरामद दस्तावेजों की जांच से सामने आया है कि गुरमीत राम रहीम ने हरियाणा के अलावा पंजाब, दिल्ली ,राजस्थान और हिमाचल प्रदेश सहित कई और राज्यों में भी संपत्तियां खरीदी. 

गुरमीत राम रहीम जमीन की खरीद- फरोख्त के धंधे में भी शामिल था. डेरा के कुछ पूर्व सेवादारों के मुताबिक गुरमीत राम रहीम अपने अनुयायियों से बहुत कम पैसों में जमीन खरीद कर खुद डेरा को उसे मोटे दामों पर बेचता था. पुलिस को मिले दस्तावेजों के आधार पर जमीन की खरीद के लिए दिए गए पैसे और अपने विश्वासपात्र लोगों के नाम से बनाई गई फर्मों के फर्जी बिल और लेन-देन के कागज शामिल है.

उधर प्रवर्तन निदेशालय के सूत्रों के मुताबिक हरियाणा पुलिस ने ईडी को एक हार्ड डिस्क भी सौंपी है, जिसमें लेनदेन की कई जानकारियां हैं. प्रवर्तन निदेशालय इन कागजों की छानबीन करने के बाद गुरमीत राम रहीम और उसके लेनदेन को संभालने वाली उसकी खास राजदार हनीप्रीत इंसान को भी पूछताछ के लिए बुला सकता है.

ईडी की जांच के बाद गुरमीत राम रहीम और हनीप्रीत इंसान का एक और गोलमाल सामने आया है. डेरा से जुड़े सूत्रों के मुताबिक गुरमीत राम रहीम हनीप्रीत इंसान की सलाह के बाद ही नए कारोबार में कदम रखता था. हनीप्रीत के जिम्मे डेरा की आमदनी बढ़ाने के अलावा उसका प्रबंधन भी शामिल था. अब तक मिले दस्तावेजों के आधार पर गुरमीत राम रहीम ने कई संपत्तियां हनीप्रीत इंसान के नाम पर भी खरीदी थी. फिलहाल प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारी पंचकूला से बरामद दस्तावेजों के दो बैग लेकर छानबीन में जुटी है.

loading...

You May Also Like

English News