एटमी शक्ति में भारत से आगे निकला पाक- एक रिपोर्ट

 भारत का पड़ोसी देश पाकिस्तान जल्द ही एटम शक्ति से परिपूर्ण होने वाला है, एक समाचार एजेंसी के मुताबिक पाकिस्तान के पास जल्द ही दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा एटमी जखीरा होगा. सैन्य इतिहास और वैश्विक मामलों के जानकार जोसेफ वी मिकलेफ के हवाले से ये दावा किया है.इस्लामाबाद: भारत का पड़ोसी देश पाकिस्तान जल्द ही एटम शक्ति से परिपूर्ण होने वाला है, एक समाचार एजेंसी के मुताबिक पाकिस्तान के पास जल्द ही दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा एटमी जखीरा होगा. सैन्य इतिहास और वैश्विक मामलों के जानकार जोसेफ वी मिकलेफ के हवाले से ये दावा किया है.  मिकलेफ ने अपने लेख में लिखा है कि पाकिस्तान का बड़ी एटमी शक्ति बनना एशियाई देशों की सुरक्षा को खतरे में डालने वाला है, उन्होंने लिखा है कि एटमी शक्ति बढ़ने से पाकिस्तान में जिहादी और आतंकी संगठन अधिक शक्तिशाली हो सकते हैं.  गौरतलब है कि पाकिस्तान का तालिबान, तहरीक ए जिहाद इस्लामी, जैश ए मोहम्मद और लश्कर ए तैयबा और हिज्बुल मुजाहिद्दीन जैसे आतंकी संगठनों से रिश्ता रहा है. यही नहीं अलकायदा समर्थित अंसार गजवत उल हिंद का नाम भी भारत में आतंकी हमलों को अंजाम देने में आता रहा है.  मिकलेफ ने इस बात पर चिंता जताई है कि पाकिस्तान बीते 48  सालों से लगातार गुपचुप तरीके से एटमी हथियार बना रहा है और इस मामले में चीन उसकी सहायता कर रहा है, उन्होंने लिखा है कि इस वक़्त पाकिस्तान के पास करीब 150 एटमी हथियार हैं, जबकि भारत के पास 130 . एटमी हथियारों की गिनती में सबसे आगे रूस है, जिसके पास 6800 एटम बम है, साथ ही विश्व शक्ति कहे जाने वाले अमेरिका के पास 6600 एटमी हथियार हैं.

मिकलेफ ने अपने लेख में लिखा है कि पाकिस्तान का बड़ी एटमी शक्ति बनना एशियाई देशों की सुरक्षा को खतरे में डालने वाला है, उन्होंने लिखा है कि एटमी शक्ति बढ़ने से पाकिस्तान में जिहादी और आतंकी संगठन अधिक शक्तिशाली हो सकते हैं.  गौरतलब है कि पाकिस्तान का तालिबान, तहरीक ए जिहाद इस्लामी, जैश ए मोहम्मद और लश्कर ए तैयबा और हिज्बुल मुजाहिद्दीन जैसे आतंकी संगठनों से रिश्ता रहा है. यही नहीं अलकायदा समर्थित अंसार गजवत उल हिंद का नाम भी भारत में आतंकी हमलों को अंजाम देने में आता रहा है.

मिकलेफ ने इस बात पर चिंता जताई है कि पाकिस्तान बीते 48  सालों से लगातार गुपचुप तरीके से एटमी हथियार बना रहा है और इस मामले में चीन उसकी सहायता कर रहा है, उन्होंने लिखा है कि इस वक़्त पाकिस्तान के पास करीब 150 एटमी हथियार हैं, जबकि भारत के पास 130 . एटमी हथियारों की गिनती में सबसे आगे रूस है, जिसके पास 6800 एटम बम है, साथ ही विश्व शक्ति कहे जाने वाले अमेरिका के पास 6600 एटमी हथियार हैं. 

You May Also Like

English News