एडिटर्स राउंड टेबल’: उमा भारती बोलीं- कांग्रेस के कहने पर इस्तीफा नहीं दूंगी…

मोदी सरकार के तीन साल पूरे होने पर सरकार की अब तक की सफलता-असफलता पर सवाल-जवाब के लिए ‘आजतक एडिटर्स राउंड टेबल’ का आयोजन किया जा रहा है. ये कार्यक्रम आज नई दिल्ली में आयोजित किया जा रहा है. जिसमें बीजेपी अध्यक्ष और मोदी सरकार के मंत्री हिस्सा ले रहे हैं.एडिटर्स राउंड टेबल': उमा भारती बोलीं- कांग्रेस के कहने पर इस्तीफा नहीं दूंगी...

 

यह भी पढ़े: BJP की पाठशाला, मोदी सरकार के गुणगान के दिए जाएंगे टिप्स

केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती 

-2014 के लोकसभा चुनाव में गंगा मुद्दा नहीं थी, वो हमारे घोषणा पत्र में जरूर थी.
-गंगा मुद्दा तब बनी जब वाराणसी पहुंचकर मोदी जी ने कहा कि मुझे गंगा मां ने बुलाया है.
-गंगा की सफाई को लेकर हम टाइमलाइन पर चल रहे हैं, गंगा की अविरलता में 7 साल लगेंगे, जबकि निर्मलता अगले साल अक्टूबर तक हो जाएगी.
-मैं किसी के दबाव में नहीं आने वाली, जब तक पूरी संतुष्टि नहीं होगी चवन्नी खर्च नहीं करूंगी.
-कांग्रेस के कहने पर इस्तीफा नहीं दूंगी.

कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया

-मैं कांग्रेस का कार्यकर्ता हूं और जो भी जिम्मेदारी दी जाएगी उसका निर्वाहन करूंगा.
-मैं नहीं मानता की चुनाव में मोदी की सफलता की वजह राहुल गांधी का विफल होना थी.
-राहुल गांधी में पार्टी और देश का नेतृत्व करने की पूरी क्षमताएं.
-कांग्रेस की सोच और विचारधारा हरएक व्यक्ति की, न कि किसी जाति या धर्म की.
-मोदी सरकार पाक को लेकर साड़ी और शॉल की डिप्लोमेरी कर रही है.
-चीन भारत को चारों तरफ से घेर रहा है लेकिन मोदी सरकार बेबस है.
-रोजगार के अवसरों पर मोदी सरकार विफल, दो करोड़ नौकरियों का वायदा था लेकिन पैदा हुईं सिर्फ एक लाख.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह

-नीतीश कुमार की बेवजह निंदा क्यों करें.
-राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार तय नहीं हुआ है.
-आडवाणी के नाम पर जवाब देने से बचे अमित शाह.
-रजनीकांत चाहें तो राजनीति में आएं.
-हम हर अच्छे व्यक्ति का बीजेपी में स्वागत करते हैं.
-रजनीकांत जी से मेरी बातचीत नहीं हुई.
-जो पार्टी EVM पर सवाल उठा रहे हैं, वो इसी मशीन से चुनाव जीते हैं.
-हमारी पार्टी के सिद्धांतों में कोई फर्क नहीं आया.
-परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टिकरण से बीजेपी ने देश को मुक्ति दिलाई.
-भागवत जी ने राष्ट्रपति पद को लेकर खुद स्पष्ट कर दिया.
-सबूत के आधार पर नेताओं पर कार्रवाई हुई.
-ओडिशा, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल में परिवर्तन होगा.
-ममता बनर्जी को बंगाल में मेरी एंट्री से परेशानी है.
-मैं बार-बार बंगाल जाऊंगा और वहां हमारी सरकार बनेगी.
-गंगा सफाई पर उत्तराखंड और यूपी सरकार मिलकर अच्छा काम करेंगी.
-मोदी सरकार ने नक्सलवाद को खत्म करने के लिए सफल लड़ाई लड़ी है.
-नक्सल समस्या काफी कम हुई है.
-नक्सलियों से लड़ाई का टारगेट तय नहीं किया जा सकता.
-पाकिस्तान ने रिश्ते बेहतर करने के लिए पीएम मोदी ने बहुत प्रयास किए.
-सीमा और सम्मान के बाद पड़ोसियों के अच्छे रिश्ते चाहते हैं.
-‘ऑपरेशन हुर्रियत’ के लिए आजतक को बधाई.

-कश्मीर पर हमारी पैनी नजर.

-कश्मीर को लेकर बिल्कुल चिंता की जरूरत नहीं.
-कांग्रेस ने कश्मीर समस्या को जन्म दिया.
-कश्मीर के लोगों का दिल जीतने के लिए बहुत कुछ किया.
-बाढ़ के दौरान भारतीय सेना ने बड़ा काम किया.
-कश्मीर समस्या सिर्फ साढ़े तीन जिलों की है.
-सवा सौ करोड़ के देश में सिर्फ नौकरियां देकर बेरोजगारी दूर नहीं होती.
-हमने रोजगार के बजाय स्वरोजगार बनाने का काम किया.
-कांग्रेस सरकार के हिसाब हमारा मूल्यांकन करना गलता है.
-सोमवार को कोई समस्या खड़ो हो तो मंगलवार को समाधान मुमकिन नहीं.
-मोदी सरकार का बड़ा समय पूर्व की सरकार की खामियां सुधारने में गया.
-आज देश का हर गरीब मोदी सरकार को अपनी सरकार मानता है.
-28 करोड़ बैंक खाते खुले, आज हर परिवार के पास बैंक खाता है.
-17 हजार गांवों में 70 साल में बिजली नहीं पहुंची थी, हमने 13 हजार गांवों में पहुंचा भी दी.
-देश में 2014 तक 12 करोड़ गैस कनेक्शन बंटे थे. हमने 2019 तक पांच करोड़ कनेक्शन गरीबों को देने का लक्ष्य रखा है. दो करोड़ दे भी दिए हैं. .
-देश में 4.5 करोड़ गरीबों के घर में शौचालय बनवाए जिसे कोई समस्या मानता ही नहीं था.
-कश्मीर पर बीजेपी सरकार पैनी निगाह रखे हुए हैं.
-कश्मीर समस्या को 1989 से 2017 तक पूर्ण रूप से देखना होगा.
-कश्मीर समस्या पर कांग्रेस को बोलने का हक नहीं, बो बताएं कि ये समस्या पैदा किसने की.
-कश्मीर समस्या के लिए आजादी के वक्त के गलत फैसले जिम्मेदार हैं.
-कश्मीर पर किंचित मात्र भी चिंता करने की जरूरत नहीं, मोदी सरकार इसे काबू में लेगी.
-ऑपरेशन हुर्रियत के जरिए इंडिया टुडे ने बहुत अच्छा काम किया है और अलगाववादियों को बेनकाब किया है.
-पाक और भारत के रिश्ते अच्छे करने के लिए मोदी सरकार ने जितनी कोशिश की, उतनी किसी ने नहीं की.
-मोदी सरकार की कोशिशों का पाक की ओर से उचित जवाब नहीं मिला.
-हम सभी पड़ोसियों से अच्छे संबंध चाहते हैं लेकिन सीमाओं की सुरक्षा और सम्मान के साथ.
-बीजेपी ने राष्ट्रपति पद का कैंडिडेट अभी तय नहीं किया है, सहयोगी पार्टियों से भी चर्चा होनी है
-हम नक्सलियों के साथ लड़ रहे हैं, लड़ाई में दोनों पक्षों का नुकसान होता है.
-नक्सलियों के उन्मूलन की कोई तारीख या टारगेट तय नहीं किया जा सकता.
-रोजगार के लिए ही नहीं, बल्कि खेती पर निर्भर लोगों की संख्या घटाने के लिए भी हमने बड़ा कदम उठाया.
-7 करोड़ लोगों को हम स्वरोजगार देंगे जिनमें से अधिकतर कृषि पर आधारित लोग होंगे.
-रजनीकांत राजनीति में कब आएंगे इसका फैसला वो खुद करेंगे.
-हर अच्छे व्यक्ति के लिए हमारी पार्टी के दरवाजे खुले हैं. 

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी

-मैं टॉयलेट पेपर का ऑर्डर भी बिना टेंडर नहीं देता.
-मैंने 6 हजार हार्ट ऑपरेशन फ्री में किए.
-मैं 80 फीसद सामाजिक काम करता हूं.
-मैंने 5 साल पहले टॉयलेट का पानी 18 करोड़ में बेच दिया.
-मनोहर पर्रिकर भी गोवा जाना चाहते थे.
-शिवसेना से मतभेद पर उद्धव जी ही बताएंगे.
-मैं महाराष्ट्र में पूरे तरीके से नहीं जाना चाहता. -मैं अलग किस्म का व्यक्ति हूं, अपना एजेंडा अलग चलाता हूं.
-मैं दिल्ली से रात को एयर इंडिया की फ्लाइट से सस्ती टिकट लेकर मुंबई लौट जाता था.
-दिल्ली में अब मेरा दिल लग गया है.
-गोवा में सरकार बनाने पर गडकरी ने बोला कि मैं डील नहीं करता, लड़ाई करता हूं.

-मैं मर्द हूं, पैसे वैसे देने का काम नहीं करता हूं.
-पार्टी अध्यक्ष के रूप में अमित शाह सफलतम हैं.
-लगातार जीत अमित शाह के यशस्वी नेतृत्व का नतीजा है.
मेरी असफलता ये है कि मेरे मंत्री बनने के बाद 4 फीसद सड़क हादसे बढ़े हैं.
-भारत में सड़क निर्माण का नया रिकॉर्ड बना है.
-12 हजार करोड़ की लागत से चारधाम रोड नेटवर्क बनाया जा रहा है.
-मैंने मानसरोवर तक लोगों को सड़क से ले जाना का सपना देखा है.
-गंगा में 4 हजार करोड़ के काम शुरू हो गए हैं.
-दिसंबर 2018 से पहले गंगा का काम पूरा हो जाएगा.

इन तीन वर्षों में मोदी सरकार के अच्छे दिनों के वादे पर चर्चा के लिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ‘कितने अच्छे दिन?’ सत्र में शामिल होंगे. ‘नमामि गंगे’ पर चर्चा के लिए जल संसाधन मंत्री उमा भारती भी मौजूद रहेंगी.

एडिटर्स राउंड टेबल में कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी, विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह, मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, पीएमओ में राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह, सूचना एवं दूरसंचार राज्यमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर, केंद्रीय फूड प्रोसेसिंग मंत्री हरसिमरत कौर बादल, केंद्रीय ऊर्जा राज्य मंत्री पीयूष गायेल और केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद शामिल होंगे. शाम 7:45 बजे कार्यक्रम का समापन होगा.

‘आजतक एडिटर्स राउंड टेबल’ में शामिल मेहमानों से राजदीप सरदेसाई, राहुल कंवल, अंजना ओम कश्यप, पद्मजा जोशी, अशोक सिंघल, प्रीति चौधरी, गौरव सावंत, मंजीत सिंह नेगी, मीनाक्षी कंडवाल और निशांत चतुर्वेदी सवाल करेंगे. कार्यक्रम के दौरान शिक्षा, ऊर्जा, खाद्य, कानून, सूचना प्रसारण समेत कश्मीर मसले पर चर्चा की जाएगी.

You May Also Like

English News