एनजीओ से करोड़ों कमाने वाले सलमान की धोखाधड़ी, ब्लैकलिस्टेड हुई ‘बीइंग ह्यूमन’

बॉलीवुड सुपरस्टार सलमान खान की फिल्में जहां बॉक्सऑफिस पर धुआंधार कमाई करती हैं वहीं वह सोशल वर्क करने के लिए भी लगातार चर्चा में रहते हैं। सलमान ने सोशल वर्क के लिए 2007 में एनजीओ बीइंग ह्यूमन फाउंडेशन की स्थापना की लेकिन अब उनके इस एनजीओ पर गंभीर आरोप लगे हैं।एनजीओ से करोड़ों कमाने वाले सलमान की धोखाधड़ी, ब्लैकलिस्टेड हुई 'बीइंग ह्यूमन'

दरअसल, सलमान की एनजीओ बीइंग ह्यूमन बीएमसी के निशाने पर हैं और एनजीओ को ब्लैकलिस्टेड कर दिया है। बीइंग ह्यूमन पर आरोप है कि उसने बीएमसी के साथ वादाखिलाफी की है जिसके बाद बीएमसी ने कारण बताओ नोटिस भेजा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीइंग ह्यूमन फाउंडेशन को बांद्रा इलाके में डायलसिस यूनिट लगाने थे, जिससे गरीबों को सस्ते इलाज की सुविधा मिले लेकिन एनजीओ ने इन यूनिट्स को नहीं लगाया।

बीएमसी के अस्पतालों में डायलसिस कराने का खर्च 350 रुपए आता है। इसको कम करने के लिए बीएमसी ने दूसरे एनजीओ से भी सेवा लेने का टेंडर निकाला था जिसमें बीइंग ह्यूमन ने भी आवेदन किया था। सलमान के फाउंडेशन ने डायलसिस की लागत 339.25 रुपए ऑफर की थी लेकिन वह अपना वादा पूरा नहीं कर पाई।

बता दें कि, दिसंबर 2016 में बीएमसी ने पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप यानी पीपीपी के तहत 199 डायलसिस यूनिट लगाने का प्रोजेक्ट बनाया था। जिसमें से 24 यूनिट बीइंग ह्यूमन फाउंडेशन को पाली हिल इलाके में लगाने थे।

You May Also Like

English News