एफ-1 इवेंट में दिखे माल्या, कहा- मेरे लिए सुरक्षित है ब्रिटेन, भारत वापसी का कोई ग्राउंड नहीं

देश के बैंकों से 9 हजार करोड़ रुपए का लोन लेकर भारत से भागे वांछित कारोबारी विजय माल्या ने ब्रिटेन में फॉर्मूला वन की अपनी टीम सहारा फोर्स इंडिया को लॉन्च किया। विजय माल्या के साथ उनकी टीम के दो ड्राइवर सर्जियो पेरेज और स्टेबेन ओकेन भी साथ थे। फोर्स इंडिया ने अपनी वेबसाइट पर इस कार्यक्रम से जु़ड़ी तस्वीरें अपलोड की हैं। माल्या की फॉर्म्युला टीम की नई कार बुधवार को सिल्वरस्टोन में लॉन्च की गई। इसके बाद उन्होंने गुरुवार को ट्वीट कर इंडियन मीडिया, भाजपा और कांग्रेस का बिना नाम लिए निशाना साधा। उन्होंने कहा, “भारतीय अधिकारियों के पास मुझे ब्रि‍टेन से भारत ले जाने के लिए कोई कानूनी आधार नहीं है। जब तक मैं दोषी करार नहीं दिया जाता तब तक इस देश के कानून के तहत मैं सुरक्षित हूं।”उन्होंने कहा कि मुझे चुनावी भाषण में देश की दो बड़ी पार्टियों ने राजनीतिक फुटबॉल बना दिया है।

माल्या अभी भारत छोड़कर लंदन में रह रहे हैं। विजय माल्या ने गुरुवार को कई ट्वीट किए। उन्होंने कहा, “यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि इंडियन मीडिया फॉर्मूला वन में भारत की एंट्री पर फोकस ही नहीं किया। बल्कि यह देश के लिए गर्व की बात है। सहारा फोर्स इंडिया को लॉन्च कर मुझे गर्व महसूस हो रहा है। सहारा फोर्स इंडिया टीम पर इंडियन मीडिया के कमेंट्स से मैं दुखी हूं।”

इससे पहले भारत और ब्रिटेन के बीच मंगलवार को प्रत्यर्पण व द्विपक्षीय कानूनी सहायता पर विचार विमर्श हुआ, जिसमें विजय माल्या के मुद्दे पर भी चर्चा हुई है। नवंबर, 2016 में ब्रिटिश पीएम थेरेसा मे की भारत यात्रा के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी के साथ बैठक में यह मामला उठा था कि दोनों देशों के बीच अपराधियों के प्रत्यर्पण को लेकर और सहयोग स्थापित होना चाहिए। उसके बाद ही यह बैठक हुई है।

विदेश मंत्रालय की तरफ से दी गई जानकारी के मुताबिक, दोनों पक्ष प्रत्यर्पण के मामले में होने वाली देरी और इस बारे में विश्वस्तरीय मापदंडों का अध्ययन करेंगे और उसे लागू करेंगे ताकि अपराधियों पर जल्द से जल्द कानूनी शिकंजा कसा जा सके। तय किया गया है कि इस बारे में जो भी प्रगति होगी उसे हर छह महीने पर एक दूसरे को जानकारी दी जाएगी।

भारतीय बैंकों से तकरीबन 9000 करोड़ रुपए लेकर फरार विजय माल्या अभी ब्रिटेन में हैं। उनका मामला भारत में एक बड़ा राजनीतिक विषय बना हुआ है। केंद्र सरकार व प्रमुख विपक्षी दल उनके देश से भागने को लेकर एक दूसरे पर आरोप लगाते रहते हैं, जबकि देश के कई न्यायालयों के अलावा सीबीआई व प्रवर्तन निदेशालय में भी माल्या के खिलाफ मामला चल रहा है।

 

loading...

You May Also Like

English News