एबीवीपी रैली में बोला शिक्षा को चुनावी एजेंडे का हिस्सा बनाओ और बाज़ारीकरण रोको

राजधानी स्थित काल्विन तालुकेदार्स कालेज परिसर में एबीवीपी की हुँकार रैली में आज क्षेत्रीय संगठन मंत्री धर्मपाल सिंह ने कहा कि छात्रों को बेरोजगारी भत्ता नहीं रोजगार चाहिए। उन्होंने कहा कि एबीवीपी ने सरकार से हमेशा ही शिक्षा के बाज़ारीकरण को बंद करने की मांग की है। लेकिन किसी भी सरकार ने इस पर गंभीरता से विचार नहीं किया।

शिक्षा को चुनावी एजेंडे का हिस्सा बनाओ और बाज़ारीकरण रोको

रैली में मंच पर तो एबीवीपीके पदाधिकारी है, लेकिन बीजेपी के कई बड़े नेता मौजूद है,जिसमें बीजेपी के प्रदेश संगठन मंत्री सुनील बंसल, प्रदेश महामंत्री अशोक कटारिया, राष्ट्रिय सचिव डॉ महेंद्र सिंह, अनूप गुप्ता, राकेश त्रिपाठी समेत कई भाजपा के नेता मौजूद हैं।

अरविंद केजरीवाल पर चलेगा आपराधिक मानहानि का केस

साफ़ है विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी युवाओं की समस्याओं को मुद्दा बनाकर छात्र को एकजुट कर इसका चुनावी लाभ भी लेना चाहती है। सह संगठन मंत्री श्रीनिवास ने कहा यूपी का इतिहास बदलेगा। छात्रशक्ति ने हुंकार भर दिया है। अखिल भारतीय विद्यार्थी ने इसकी शुरुआत कर दी है। अगर इस रैली से सत्ता परिवर्तन संभव हुआ तो हम वह भी करेगे।

उन्होंने कहा कि देश के खिलाफ आवाज उठाने वालों के खिलाफ एबीवीपी कार्यकर्ता ही आवाज उठता है। एबीवीपी समता स्थापित करने नहीं, समाज बदलने को निकाला है। इस हुंक्कर रैली से अगर सत्ता परिवर्तन करना पड़े तो सत्ता परिवर्तन भी होगा। विद्यार्थी परिषद यूपी में सरकार बदलने का काम भी करेगी।

 

You May Also Like

English News