एल्डिको ग्रीन कालोनी में एक बार फिर बदमाशों का धावा

acr468-566aeed21dfa7chor11-copyलखनऊ , 9 दिसम्बर । गोमतीनगर की पॉश माने जाने वाले एल्डिको ग्रीन में एक बार फिर बदमाशों ने nधावा बोला। इस बार बदमाशों के निशान पर एक कारोबारी रणवीर कपूर का घर रखा। आधा दर्जन से अधिक बदमाश घर के अंदर घुसे और आधे घंटे से अधिक समय तक वहां सामान खंगालते रहे। इस बीच कारोबारी के परिवार को बदमाशों की मौजूदगी का एहसास हुआ तो उन लोगों ने फौरन सूचना पुलिस कंट्रोल रूम व अपने एक परिचित को दे दी। सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस पहुंची तो बदमाश कारोबारी के पड़ोसी के घर से कूदकर भाग निकले। पुलिस ने किसी तरह एल्डिको ग्रीन कालोनी के आसपास के इलाके से पांच बदमाशों को धर लिया। एक बदमाश के पैर में चोट भी लगी है। पुलिस ने उनके पास से तमंचा, बांका, कारोबारी के घर में लगा सीसीटीवी कैमरे का डीवीआर व अन्य सामान बरामद किया है।
सीओ गोमतीनगर सत्यसेन यादव ने बताया कि एल्डिको ग्रीन कालोनी के मकान नम्बर 264 में कारोबारी रणवीर कपूर अपने परिवार के साथ रहते हैं। मौजूदा समय में कारोबारी शहर से बाहर गये हुए है। घर पर उनकी पत्नी बीना और दो बेटे अभिनव व विभव मौजूद थे। बताया जाता है कि देर रात आधा दर्जन से अधिक बदमाश एसी की खिड़की में लगी जाली काटकर उनके घर के अंदर घुस गये। घर के एक कमरे में बीना व उनके दोनों बेटे सोये हुए थे। देर रात उन लोगों को खटपट की आवाज का एहसास हुआ पर वह लोग कुछ समझ नहीं सके। कुछ देर के बाद उन लोगों को फिर से खटपट की आवाज सुनायी दी तो इस बार वह लोग समझ गये कि घर में बदमाश घुसे हैं। उन लोगों ने सबसे पहले बेडरूम का दरवाजा बंद किया। इसके बाद अभिनव ने पुलिस कंट्रोल रूम को फोन करने के साथ ही अपने एक साथी विजयतखण्ड निवासी आलोक सिंह को फोन कर दिया। कुछ ही मिनटों के बाद पुलिस की गाड़ी व आलोक सिंह मौके पर पहुंच गये। पुलिस की गाड़ी का साइरन सुनते ही सभी बदमाश घर से बाहर निकले और पड़ोसी भास्कर जायसवाल के मकान में अंदर बने सर्वेट क्वार्टर की छत पर कूद कर भाग निकले। बदमाशों के भागते ही पुलिस ने उन लोगों को दौड़ा। सभी बदमाश अलग-अलग दिशों में भागे। इसके बाद पुलिस ने दो बदमाशों के एक खाली प्लाट से पकड़ा, दो बदमाश एक निर्माणाधीन भवन के बेसमेंट से पकड़े गये,जबकि एक बदमाश को पुलिस ने गाली में भागते हुए दबोच लिया। एल्डिको ग्रीन कालोनी में बदमाशों के धावे की सूचना मिलते ही मौके पर एसपी नार्थ विजय ढुल व सीओ गोमतीनगर सत्यसेन
यादव भी पहुंच गये। पुलिस को पकड़े गये बदमाशों के पास से एक तमंचा, बांका, कारतूस, बेलचा और झाडिय़ों में फेंका गया कारोबारी के घर के सीसीटीवी कैमरे का डीवीआर बरामद किया। पुलिस अब मौके से फरार हुए बदमाशों के बारे में पता लगा रही है। बदमाश कारोबारी रणवीर कूपर के घर से लाखों के जेवरात, नकदी, रोलेक्स कम्पनी की घड़ी, लैपटाप, मोबाइल फोन व अन्य कुछ सामान उठा ले गये हैं। जंगल में मिले पुलिस को 6 पिट्टू बैग बदमाशों की तलाश में पुलिस ने जब एल्डिको ग्रीन कालोनी के सामने बने जंगल में काम्बिंग शुरू की तो पुलिस को जंगल से 6 पिट्टू बैग मिले। सभी बैग में कपड़े व अन्य सामान रखा था। पुलिस का कहना है कि जंगल से मिले बैग बदमाशों के ही हैं। घर में खाना तक खाया बदमाशों कारोबारी के घर में घुसे बदमाशों ने किचन में रखा खाना खाया, डाइनिंग टेबिल पर रखे सेब व बिस्कुट भी बदमाशों ने नहीं छोड़े। यहां तक कि बदमाशों ने फ्रिज को भी खोला और उसमें भी रखे खाने के सामान को नहीं छोड़ा। इस तरह घर में घुसे थे बदमाश
कारोबारी के रणवीर कपूर के घर में सबसे पहले एक बदमाश मैनगेट फांद करअंदर घुसा। इसके बाद उसने गेट पर लगे कुण्डे को तोड़कर गेट खोल दिया। गेट खुलते ही बाकी सारे बदमाश अंदर पहुंच गये। घर के अंदर पहुंचने के बाद बदमाश ने एसी के लिए बने डक्ट में लगी जाली निकली और फिर एक के एक बादसभी बदमाश उसी डक्ट के रास्ते अंदर घुस गये।
एक बदमाश के पैर में लगी गंभीर चोट कारोबारी के घर में बदमाशों के होने की सूचना पर जब पुलिस की गाड़ी साइरन बजाते हुए पहुंची तो बदमाश खबरा गये। उन लोगों बाहर निकले तो देखा किपुलिस की गाड़ी बाहर खड़ी है। इसके बाद वह लोग कारोबारी के घर के खुलेहुए जीने की मदद से पड़ोसी भास्कर जायसवाल के नौकर नन्नकऊ के लिए बने सर्वेन्ट क्वार्टर की छत पर कूदकर भागे। सर्वेन्ट क्वार्टर की छत सीमेंट
वाली चादर से बनी थी। एक के बाद एक बदमाश के कूदने से चादर कमजोर हो गयीऔर आखिरी में जब बदमाश बदमाश उस पर कूदे तो चादर टूट गयी। इस हादसे में एक बदमाश के पैर में गंभीर चोट लगी है।मार्डन कंट्रोल रूम की सक्रियता से पकड़े गये लुटेरे कारोबारी के घर में घुसे बदमाशों की आहट लोगों ने सबसे पहले 3.30 मिनट परमहसूस की थी पर वह लोग कुछ समझ नहीं सके। इसके बाद कुछ ही देर के बाद जब परिवार वालों को एहसास हुआ कि घर के अंदर बदमाश मौजूद हैं तो उन लोगों ने 4 बजे पुलिस कंट्रोल रूम और फिर अपने एक परिचित आलोक सिंह को फोन किया। पुलिस कंट्रोल रूम पर फोन आते ही मार्डन कंट्रोल रूम की एक गाड़ी 4.20 मिनट पर मौके पर पहुंच गयी और कारोबारी के घर का घेर लिया। पुलिस की इसी सक्रियता की वजह से बदमाश वहां से भागे और फिर पुलिस ने किसी तरह उन लोगों को दौड़ाकर धर लिया। सबसे वीआईपी कालोनी और सबसे ज्यादा असुरक्षित गोमतीनगर की एल्डिको ग्रीन कालोनी शहर की सबसे पॉश कालोनी में से एक है। बावजूद इसके यहां पर आये दिन होने वाली वारदात में इस कालोनी को अब असुरक्षित बना दिया है। इस कालोनी में पहले भी कई बार घरों में चोरियां हुई है। वहीं बीते 4 जनवरी 2016 को इस कालोनी में रहने वाले आईएएसअधिकारी हृदय शंकर तिवारी व उनके पूरे परिवार को बंधक बनाकर बदमाशों ने डकैती की वारदात को अंजाम दिया। इस मामले में पुलिस ने बदमाशों को पकडऩे के लिए खूब हाथ-पैर चलाये पर नतीजा आज तक सिफर ही रहा। एक बार फिर कालोनी के लोगों ने उठायी सुरक्षा की मांग एल्डिको ग्रीन कालोनी में रहने वाले लोगों ने एक बार फिर कालोनी में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किये जाने की मांग उठायी है। 4 जनवरी को आईएएस के घर डकैती के बाद इस कालोनी में कुछ सुरक्षा के बंदोबस्त किये गये थे पर वह नाकाफी साबित हुए। लोगों का कहना है कि कालोनी के सामने बने जंगल
में अक्सर अराजक तत्वों का जमावड़ा लगा रहता है। वहीं बदमाशों के लिए भी जंगल सबसे सुरक्षित जगह है। इसके अलावा कालोनी के पास ही बने फन मॉल में आने वाले लोग भी कालोनी के कैम्पस में अपनी गाडिय़ां खड़ी कर देते है। लोगों का यह कहना है कि इससे इस बात का पता नहीं चल पाता है कि कालोनी में खड़ी गाडिय़ां मॉल घूमने वाले लोगों की हैं या फिर किसी वारदात को रैकी कर रहे बदमाशों की है। लोगों ने कालोनी में मॉल आने वाले लोगों के वाहन की पार्किंग को हटाने की भी मांग की है।

 
 
 
 

You May Also Like

English News