ऐसे बची एक साल के मासूम की जान, 30 डॉक्टरों ने 16 घंटे किया ऑपरेशन

कोच्चि के अमृता इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज के डॉक्टर्स ने एक ऐसा ऑपरेशन किया है, जो अपने आप में अनोखा है. मिली जानकारी के अनुसार, यहां के डॉक्टर्स ने एक ऐसे बच्चे का ऑपरेशन किया जो केवल एक किलो का था.ऐसे बची एक साल के मासूम की जान, 30 डॉक्टरों ने 16 घंटे किया ऑपरेशननासा की ओर से 2018 में मंगल पर अब जाएगी फ्लाइट, 1 लाख भारतीयों ने बुक कराया टिकट

डॉक्टर्स का कहना है कि बच्चे का ह्रदय शुद्ध रक्त नहीं बना पा रहा था. वह इतना छोटा था कि कोई मेडिकल इक्विपमेंट भी ऑपरेशन में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता था.

बच्चे के शरीर में शुद्ध रक्त बनने की प्रक्रिया भी प्रभावित थी. यही नहीं, फेफड़ों में रक्त ले जाने वाली धमनियां भी काम नहीं कर रही थी. 29 वें हफ्ते में जन्म होने के कारण बच्चे का शरीर भी कमजोर था. 

इसके बाद करीब 30 डॉक्टर्स की टीम ने करीब 16 घंटे घंटे चले ऑपरेशन में ह्रदय के हिस्से में अविकसित धमनी का निर्माण किया और उसे फेफड़ों से जोड़ दिया. इससे ह्रदय में अच्छे और गंदे रक्त का संचार चालू हो गया.

इस बारे में ऑपरेशन टीम का नेतृत्व करने वाले डॉक्टर संजीव सिंह ने बताया कि हजारों शिशुओं में से एक बच्चे में यह समस्या आती है. ऐसे मामलों में बच्चे का बचना नामुमकिन होता है, लेकिन इस केस में बच्चे को नया जीवन मिला है.

You May Also Like

English News