ऐसे बढ़ाएं अपने रिलायंस जिओ की स्पीड…

जिस देश में 4mbps की स्पीड मिलना बड़ी बात हो, वहां जियो जैसी स्कीम के लिए मारा-मारी तो होगी ही। जियो सिम जब 5 सितंबर को लांच हुआ था, तब बहुत तेजी से नेट चल रहा था। 30mbps के आस-पास। रिलायंस कह रहा था कि वो सबसे तेज इंटरनेट देने वाली कंपनी बन गई है। लेकिन तीन सप्ताह बीतते-बीतते स्पीड 6-7mbps पर आ गई है। कहा ये भी जा रहा है कि अभी बीटा वर्जन है तो स्पीड कम है। 

ऐसे बढ़ाएं अपने रिलायंस जिओ की स्पीड...

आप अपने जियो सिम की इंटरनेट स्पीड बढ़ा सकते हैं। जियो की स्पीड बढ़ाने से पहले ये जान लीजिए कि 4G है क्या। 4G का मतलब है चौथी जेनरेशन। रेडियो फ्रिक्वेंसी को बैंडविड्थ में बांटा जाता है। हर बैंडविड्थ का अपना अलग इस्तेमाल होता है। 4G इसी तरह की एक बैंडविड्थ है, जिसमें डेटा की इनकमिंग और आउटगोइंग पिछली जेनरेशन से ज्यादा तेज होती है। एयरटेल बैंड 40 (2300MHz) देता है और वोडाफोन बैंड 5 (850Mhz) देता है। जियो बैंड 3, 5 और 40, तीनों पर 4G देता है।

बड़ी खबर: PM मोदी की जान को खतरा, दुनिया की सबसे खतरनाक फोर्स अलर्ट

यानी बैंड 5 आपको सबसे तगड़ा कवरेज देता है, लेकिन इसकी स्पीड उतनी अच्छी नहीं होगी। बैंड 40 आपको पेलकर स्पीड देगा, लेकिन इसका कवरेज खराब होगा। आपका फोन जिस एरिया में होता है, वो एरिया के सिग्नल के हिसाब से सबसे अच्छे बैंड से अपने-आप कनेक्ट हो जाता है। जियो के साथ भी यही लोचा है, जिसकी वजह से स्पीड कम-ज्यादा होती रहती है। तो अच्छी स्पीड के लिए आपको बैंड को कंट्रोल करना होगा (अपने रिस्क पर) इसके दो तरीके हैं।

बीसीसीआई के बर्खास्त होने के बाद अनुराग ठाकुर को लग सकता है एक और झटका

अपने 4G नेटवर्क को बैंड 40 यानी बेस्ट स्पीड पर लॉक कर दीजिए। इससे आपका फोन किसी भी एरिया में रहे, बेस्ट स्पीड ही देगा। इसके लिए — *#*#4636#*#* डायल करें। फोन की इन्फॉर्मेशन दें। ‘सेट प्रिफर्ड नेटवर्क टाइप’ (Set preferred network type) सेलेक्ट करें। LTE ओनली (LTE Only) सेलेक्ट करें, Qualcomm प्रोसेसर के लिए, प्लेस्टोर से शॉर्टकट मास्टर (लाइट) इंस्टॉल करें।

मेन्यू > सर्च— ‘Service Menu’ या ‘Engineering Mode’ टाइप करके सर्च करें, अगर ये मिल जाए तो LTE बैंड को बदल दें। MediaTek प्रोसेसर के लिए— MTK Engineering Mode ऐप इंस्टॉल करें।
‘MTK Settings’ सेलेक्ट करें, ‘BandMode’ सेलेक्ट करें। वो सिम स्लॉट सेलेक्ट करें, जिसमें आपने जियो सिम लगाया है। ‘LTE mode’ सेलेक्ट करें, बेस्ट स्पीड के लिए बैंड 40 और बेस्ट कवरेज के लिए बैंड 5 चुनें। सेटिंग को सेव कर लें और फोन रीबूट कर लें। इससे सेटिंग्स एक्टिवेट हो जाएंगी। इसमें कंडीशन अप्लाई भी है। ये सेटिंग आपके फोन और प्रोसेसर के हिसाब से काम करेंगी. ऐसे में जरूरी नहीं कि ये चलें ही. मतलब जो भी करें, अपने रिस्क पर करें। एपीएन (APN) सेटिंग बदल दें। APN सेटिंग बदलने का तरीका हम आपको बता देंगे, लेकिन उससे पहले वो सेटिंग लिखकर रख लीजिएगा जो पहले से सेट है। लिखने के बाद सेटिंग को यूं बदल दें।
ये सेटिंग बदलने के बाद प्ले स्टोर से Snap VPN ऐप डाउनलोड कर लें. इंस्टॉल करने के बाद इसे सिंगापुर या फ्रांस सर्वर से कनेक्ट कर दीजिए। इससे आपकी ब्राउजिंग स्पीड तो नहीं, लेकिन डाउनलोडिंग स्पीड जरूर बढ़ जाएगी। देखो हम पहिले ही बता चुके हैं कि जो भी करना, अपने रिस्क पर करना. अगर बाद में कुछ गड़बड़ा जाए तो लल्लनटॉप को दोष मत देना। क्यों? क्योंकि रिलायंस जियो इकलौता 4G नेटवर्क है जो 3, 5 और 40, तीनों बैंड पर काम करता है, ताकि आपको बेस्ट कवरेज और बेस्ट स्पीड, दोनों मिलें। तो अगर आपने बैंड 40 लॉक कर दिया तो स्पीड तो अच्छी मिल जाएगी, लेकिन कवरेज धुआं हो जाएगा. लोकेशन बदली तो हो सकता है कि स्पीड भी न मिले।
इसी तरह अगर 3 या 5 बैंड लॉक कर दिया तो कवरेज बंपर हो जाएगा, लेकिन स्पीड राख हो जाएगी। लोकेशन वाली समस्या भी बनी रहेगी. हालांकि, आप पूरे प्रोसेस से गुजरकर बैंड बदल भी सकते हैं, लेकिन खुद बताइए, इतना सिरदर्द लेंगे क्या आप?

You May Also Like

English News