कपड़ो में छुपा था पिता की मौत का राज़, 2 दिन बाद जब राज़ खुला तो सब दंग रह गए

आगरा: हमारे भारत देश में क्राइम केस लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं. आये दिन कोई न कोई ऐसा केस सामने आता है, जिसकी सच्चाई जानकर किसी के भी रोंगटे खड़े हो जाएँ. मर्डर और आत्महत्याएं दिनों दिन भयंकर रूप लेती जा रही हैं. जिन्हें रोक पाना काफी मुश्किल होने लग गया है. आज हम आपको एक ऐसी ही अजीबो गरीब घटना के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसको जानकर आपके होश उड़ जायेंगे.. दरअसल, ये मामला एक बेटी के पिता की मौत का है. जहाँ कुछ ही दिन पहले एक बच्ची के पिता की मौत हो गयी थी. घरवालों को लगा कि उनकी कुदरती मौत हुई है लेकिन, सच्चाई कुछ और ही थी. जब बेटी ने दो दिन बाद पिता के कपड़े धोना शुरू किये तो सच्चाई जानकर सभी हक्के बक्के रह गये. चलिए जानते हैं आखिर ये पूरा मामला क्या था…

जानकारी के अनुसार रूप सिंह की मौत 24 नवम्बर को बहुत ही अजीब तरीके से हुई थी. आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दे की अगर कपड़ो की सफाई नहीं हुई होती तो मौत का ये राज़ कभी बाहर नहीं आ पाता. दरअसल, जिस मौत को परिवार वाले नेचुरल डेथ मान कर रूप सिंह का अंतिम संस्कार भी करवा दिए थे मगर 2 दिन बाद कुछ ऐसा हुआ, जिससे साफ़ ज़ाहिर हो गया कि यह आम मौत नहीं बल्कि, एक सोची समझी साजिश के तहत मर्डर था.

दरअसल, यह  मामला आगरा के मलपुरा थाना के अंतर्गत आने वाले क्षेत्र का हैं. इस गाँव में रहने वाले रूप सिंह नाम के व्यक्ति की बहुत ही अजीब तरीके से मौत हो गई थी. जिसके बाद मृतक के परिवार से हुई बात चीत में पता चला कि जिस दिन यह घटना हुई उस रोज़ रूप सिंह अपने चचेरे भाई दिगम्बर  के साथ ही निकले थे और उसी शाम उनकी लाश एक खेत से बरामद हुई थी. मिली जानकारी के अनुसार रूप सिंह की लाश पास के ही एक गाँव से बरामद हुई थी. बताया जा रहा हैंकि उस गाँव का नाम डावली हैं. दिगम्बर से बात चीत  के दौरान उन्होंने ने बताया कि रूप सिंह की मौत एक गड्ढे में गिर जाने की वजह से हुई थी और परिजनों ने भी दिगम्बर  पे शक न करते हुवे लाश का अंतिम संस्कार कर दिया था.

रूप सिंह के मौत के दो दिनों बाद उनकी बेटी अपने पिता के गंदे कपडे साफ़ कर रही थी तो उसमे उनकी बेटी को एक पर्ची हाथ लग गयी. उस पर्ची में कुछ ऐसा था जिससे  इस मौत में एक नया मोड़ आ गया. दरअसल, मौत के ठीक 2 दिन बाद मिली पर्ची में कुछ टोन टोटके के मंत्र किखे हुवे थे. जिसके बाद  दिगम्बर की फ़ोन की जाँच करवाई गयी. दोनों के बीच हुई बात चीत से साफ़ जहिर हो गया कि यह मामला अंधविश्वास का था. जानकारी के अनुसार दोनों भाईयों में  टोने टोटके को करने और उससे ढेर सारा सोना निकलने की बात  हुई थी. पुलिस को जब यह पूरा मामला समझ आया और दिगम्बर की खोजबीन की गयी, तब तक वो फरार हो चूका था. इसके बाद परिजन उस खेत में गए जहा से मृतक का सरीर बरामद हुआ था.  वहीँ उनको एक कोठरी भी मिली, जहाँ तांत्रिक क्रिया की गई थी.

इस बात के बाद यह कहना साफ़ है कि शायद इसी के लिए रूप को घर से लेजाया गया था. पुलिस के द्वारा छानबीन  में पता चला हैं कि एक तांत्रिक ने दिगम्बर को सलाह दि थी की ज़मीन के अंदर से सोना निकालने के लिए उसको किसी इंसान की बलि देनी होगी और इसी लिए दिगम्बर ने रूप को जान से मर दिया. साथ ही एक बात और सामने आई कि दिगम्बर भी तंत्र मंत्र का बहुत बड़ा ज्ञानी था और उसी ने भोले भाले रूप सिंह को सोना कमाने का लालच दे कर उसकी बलि दे दी.फिलहाल पुलिस मामले की कारवाई  कर रही है और परिजनों ने 4 लोगो का नाम भी पुलिस को दे दिया है.थाना प्रभारी से हुई बात चीत में उन्होंने विश्वास दिलाया है कि मामले को बहुत ही गंभीरता से लिया जायेगा और मुजरिम जल्द से जल्द कानून की गिरफ्त में होंगे. देखें ये विडियो –

You May Also Like

English News