कभी राज कपूर के गैराज में रहता था अनिल कपूर का परिवार…!

बॉलीवुड में मिस्टर इंडिया के नाम से पॉपुलर अनिल कपूर आज 60 साल के हो गए हैं। उनका जन्म 24 दिसंबर 1956 को चेम्बूर, महाराष्ट्र में हुआ था। अनिल कपूर भारतीय सिनेमा की इतनी बड़ी हस्ती हैं ‌कि उनके बारे में सभी जानते होंगे। वो फेमस फिल्म प्रोड्यूसर सुरेंद्र कपूर और निर्मल कपूर के बेटे हैं। उनके बड़े भाई बोनी कपूर और छोटे भाई एक्टर संजय कपूर हैं। अनिल के भतीजे अर्जुन कपूर भी बॉलीवुड एक्टर हैं। 
कभी राज कपूर के गैराज में रहता था अनिल कपूर का परिवार...!
 अनिल कपूर एक खुली किताब की तरह हैं। उनकी लाइफ किसी से छिपी नहीं है। लेकिन आज हम अनिल के बारे में कुछ ऐसे फैक्ट्स बताने जा रहे हैं जिन्हें शायद ही आपने कभी सुना हो। आज भले ही अनिल कपूर देश-दुनिया में अपनी अलग पहचान बना ली है। लेकिन जब उनका परिवार मुंबई आया था तो वे राज कपूर के गैरेज में रहा करते थे। बाद में उन्होंने मिडिल क्लास इलाके में एक कमरा किराए पर ले लिया था।

 अनिल कपूर के पिता सुरेंद्र कपूर की लगन के चलते उनके परिवार को एक अच्छी लाइफ मिल पाई। सुरेंद्र कपूर फिल्म डायरेक्टर थे इसलिए अनिल का रुझान शुरू से फिल्मों की तरफ रहा। अनिल ने बतौर लीड एक्टर अपनी पहली डेब्यू फिल्म 1980 में तेलुगु सिनेमा में की थी। यह फिल्म थी ‘वामसा व्रुक्षम’। हालांकि, इससे पहले अनिल 1979 में डायरेक्टर उमेश मेहरा की फिल्म ‘हमारे-तुम्हारे’ में सपोर्टिंग रोल में नजर आ चुके थे।

 अभी अनिल कपूर स्ट्रगल ही कर रहे थे कि उनकी लाइफ में जानी-मानी मॉडल सुनीता की एंट्री हुई। अनिल, सुनीता को देखकर उन्हें अपना दिल दे बैठे थे। वे उनके करीब आना चाहते थे, लेकिन उनके पास सुनीता तक पहुंचने का कोई जरिया नहीं था। एक बार उनके दोस्तों ने अनिल को सुनीता का फोन नंबर दिया। इसके बाद दोनों की बातचीत शुरू हो गई। अनिल, सुनीता की आवाज के दीवाने हो गए थे। एक बार हिम्मत करके अनिल ने सुनीता के सामने डेट पर जाने का प्रस्ताव रख दिया। सुनीता ने खुशी-खुशी स्वीकार कर लिया। 

 इसके बाद दोनों बस और टैक्सी से घूमने जाने लगे। सुनीता  फेमस मॉडल होने के बाद भी बस से घूमती थीं। अनिल अभी स्ट्रगल ही कर रहे थे इसलिए सुनीता ही अनिल का पूरा खर्च उठाती थीं। आखिरकार अनिल ने उन्हें प्रपोज कर दिया और बात शादी तक आ गई। अनिल को भी फिल्में मिलना शुरू हो गईं और 1984 में आई फिल्म ‘मशाल’ से उन्हें खासी पहचान मिली। दोनों की शादी पर उनके परिवार वालों को तो आपत्ति नहीं थी, लेकिन अनिल के बॉलीवुड के दोस्तों को आपत्ति थी। उन्होंने अनिल को सलाह दी कि शादी के बाद उनका करियर खत्म हो जाएगा। इसलिए दो बार उन्होंने शादी की डेट भी टाल दी। 

बड़ी खबर: बॉलीवुड के अभिनेता का दिल का दौरा पड़ने से निधन, शोक में बॉलीवुड

 सुनीता को काफी समय डेट करने के बाद 19 मई, 1984 को दोनों का रिश्ता पति-पत्नी का हो गया। शादी के बाद सुनीता ने अनिल के करियर को ही अपना करियर मान लिया। उन्होंने मॉडलिंग छोड़कर घर संभाला और अनिल का साथ दिया। वो अनिल के लिए ड्रेस डिजाइन करने से लेकर उनके साथ शूटिंग पर विदेश तक जाती थीं। 1987 में डायरेक्टर शेखर कपूर की फिल्म ‘मि. इंडिया’ में अनिल कपूर के किरदार को खूब सराहना मिली थी। फिल्म भी सुपरहिट साबित हुई थी, लेकिन कम ही लोग जानते होंगे कि इस फिल्म के लिए शेखर कपूर की पहली पसंद अमिताभ बच्चन थे।

 शादी के बाद फिल्मों में काम करते-करते उनका अफेयर माधुरी दीक्षित के साथ भी हुआ। फिल्म ‘राम-लखन’ में माधुरी ने अनिल के साथ लिप-लॉक सीन भी किया था। दोनों के अफेयर के चर्चे पूरे बॉलीवुड में थे। माधुरी और अनिल एक ही सेक्रेटरी शेयर करते थे। अनिल अमिताभ बच्चन को अपना कॉम्पटीटर मानते थे इसलिए माधुरी भी कभी अमिताभ के साथ काम नहीं करना चाहती थीं। दोनों के अफेयर के किस्से अनिल की पत्नी सुनीता तक भी पहुंचे। लेकिन उन्होंने इसे अफवाह मानकर हमेशा नजर अंदाज किया।

 हाल ही में अनिल कपूर ने ‘कॉमेडी नाइट्स विद कपिल’ में यह खुलासा किया था कि वे आज टपोरी का किरदार बहुत अच्छे से निभाते हैं। क्योंकि असल जिदंगी में भी वो एक टपोरी थे। अनिल की मानें तो बचपन में वे और उनके दोस्त टपोरियों जैसे ही काम किया करते थे। अनिल की मानें तो उन्होंने फिल्म की टिकट्स तक ब्लैक की हैं। इसी शो में कपिल ने यह खुलासा किया था कि अनिल कपूर स्टारर फिल्म ‘स्लमडॉग मिलिनेयर’ ने करीब 200-250 अवॉर्ड्स जीते थे। ऑस्कर भी अपने नाम किया था। इतना ही नहीं, इस फिल्म ने वर्ल्डवाइड तकरीबन 2500 करोड़ रुपए का बिजनेस किया था।

 

You May Also Like

English News