कमजोर कहानी और बोरियत से भरी है सनी लियोनी की ‘तेरा इंतजार’

फिल्म का नाम: तेरा इंतजार

डायरेक्टर: राजीव वालिया

स्टारकास्ट: अरबाज खान, सनी लियोनी, आर्य बब्बर, सुधा चंद्रन

अवधि: 1 घंटा 49 मिनट

सर्टिफिकेट: A

रेटिंग: 1 स्टारकमजोर कहानी और बोरियत से भरी है सनी लियोनी की 'तेरा इंतजार'

बॉलीवुड का बड़ा सच: जानिए क्या हैं सलमान खान के लिए सबसे घटिया हरकत

राजीव वालिया के डेब्यू डायरेक्शन में अरबाज खान और सनी लियोनी एकसाथ फिल्म ‘तेरा इंतजार’ में नजर आने जा रहे हैं. सनी की मौजूदगी फिल्म में ग्लैमर तो लाती है. लेकिन शायद मेकर्स भूल गए कि दर्शकों का दिल जीतने के लिए अच्छी कहानी की भी जरूरत होती है. आइए सनी-अरबाज के रोमांस से भरी इस फिल्म की समीक्षा करते हैं…

कहानी

यह कहानी एक आर्ट गैलरी चलाने वाली रौनक (सनी लियोनी) की है जिसकी मुलाकात एक दिन पेंटर वीर (अरबाज खान) से होती है. मुलाकात के साथ ही दोनों के बीच में प्यार पनपने लगता है. वीर की पेंटिंग बनाने की कला से रौनक बहुत प्रभावित होती है और उसकी पेंटिंग को अपनी आर्ट गैलरी में जगह दे देती है. एक दिन जब रौनक के चार क्लाइंट्स खास तरह की पेंटिंग की तलाश में उनके पास आते हैं. वहां वीर की पेंटिंग को देखकर चारों क्लाइंट काफी खुश होते हैं और उसकी पेंटिंग के पीछे पड़ जाते हैं. क्योंकि उन्हें एक विदेशी खरीददार को एक मिलियन में पेंटिंग बेचनी होती है. कहानी में ट्विस्ट और टर्न्स बहुत आते हैं. अब क्या यह चारों क्लाइंट वीर से जबरदस्ती करके पेंटिंग ले जा पाते हैं. वीर और रौनक की लव स्टोरी का क्या होता है? आखिर में कौन-सा बड़ा ट्विस्ट आता है यह जानने के लिए तो आपको फिल्म देखनी पड़ेगी. 

कमजोर कड़ियां

फिल्म की कहानी बहुत ही घिसी-पिटी है. पहले ही फ्रेम से बोरियत महसूस होने लगती है. स्क्रिप्ट बहुत ही कमजोर है इसी के साथ एक्टर्स के डबिंग का सिंक भी बहुत बेमेल है. अगर आप सोच रहे हैं कि एडल्ट कंटेंट होने के साथ-साथ सनी लियोनी की मौजूदगी में आपको ज्यादा बोल्ड सींस दिखने को मिलेंगे. तो यकीन मानिए इस लिहाज से भी आप निराश होंगे. फिल्म में जबरदस्ती के संवादों का आदान-प्रदान दिखाया गया है. फिल्म को देखते हुए ऐसा लगता है बहुत सारा पैसा एकसाथ बर्बाद किया गया है.

जानिए क्यों देखनी चाहिए फिल्म

अगर आप एडल्ट हैं, अरबाज खान या सनी लियोनी के बहुत बड़े दीवाने हैं और उनकी कोई भी फिल्म मिस नहीं करते तो एकबार देख सकते हैं. वरना टीवी पर आने तक का इंतजार कर लीजियेगा. सुधा चंद्रन का काम भी सही है.

बॉक्स ऑफिस

फिल्म का बजट लगभग 12 करोड़ (प्रोडक्शन कॉस्ट 7 करोड़+ प्रोमोशनल कॉस्ट 5 करोड़) है. इसे 700 से ज्यादा स्क्रीन्स में रिलीज किया जाना है. कपिल की फिल्म भी इसके साथ रिलीज हुई है. इस लिहाज से दर्शक जरूर बंटेंगे और कमाई भी. देखना दिलचस्प होगा कि वीकेंड के घमासान में किसको क्या मिलता है.

You May Also Like

English News