कमजोर रुपये के बावजूद घटे पेट्रोल के दाम, डीजल में भी मिली राहत

इस कारोबारी हफ्ते के चौथे दिन रुपये के एतिहासिक स्तर पर बंद होने के बावजूद शुक्रवार को पेट्रोल और डीजल के दाम में कटौती हुई है. गुरुवार को रुपया 69.05 के ऐतिहासिक स्तर पर बंद हुआ. लेकिन कच्चे तेल में आई नरमी ने ईंधन के दाम घटाने में मदद की है.इस कारोबारी हफ्ते के चौथे दिन रुपये के एतिहासिक स्तर पर बंद होने के बावजूद शुक्रवार को पेट्रोल और डीजल के दाम में कटौती हुई है. गुरुवार को रुपया 69.05 के ऐतिहासिक स्तर पर बंद हुआ. लेकिन कच्चे तेल में आई नरमी ने ईंधन के दाम घटाने में मदद की है.  इंडियन ऑयल कंपनी के मुताबिक शुक्रवार को दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल के लिए आपको 76.62 रुपये प्रति लीटर चुकाने पड़ रहे हैं. वहीं, कोलकाता की बात करें तो यहां आपको 79.39 रुपये प्रति लीटर चुकाने पड़ रहे हैं. मुंबई में इसकी कीमत 84.06 रुपये प्रति लीटर हो गई है. चेन्नई में एक लीटर पेट्रोल के लिए आपको 79.59 रुपये प्रति लीटर चुकाने पड़ रहे हैं.  डीजल की बात करें तो दिल्ली में एक लीटर के लिए 68.23 रुपये चुकाने पड़ रहे हैं. कोलकाता में 70.84 प्रति लीटर, मुंबई में 72.44 रुपये और चेन्नई में इसके लिए आपको 72.06 प्रति लीटर चुकाने होंगे.  बता दें कि गुरुवार को सिर्फ दिल्ली में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कटौती की गई थी. कच्चे तेल की कीमतों में शुक्रवार को बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. हालांकि ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि ज्यादा आपूर्ति और कम मांग की वजह से इसकी कीमतों में फिर कटौती होगी.

इंडियन ऑयल कंपनी के मुताबिक शुक्रवार को दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल के लिए आपको 76.62 रुपये प्रति लीटर चुकाने पड़ रहे हैं. वहीं, कोलकाता की बात करें तो यहां आपको 79.39 रुपये प्रति लीटर चुकाने पड़ रहे हैं. मुंबई में इसकी कीमत 84.06 रुपये प्रति लीटर हो गई है. चेन्नई में एक लीटर पेट्रोल के लिए आपको 79.59 रुपये प्रति लीटर चुकाने पड़ रहे हैं.

डीजल की बात करें तो दिल्ली में एक लीटर के लिए 68.23 रुपये चुकाने पड़ रहे हैं. कोलकाता में 70.84 प्रति लीटर, मुंबई में 72.44 रुपये और चेन्नई में इसके लिए आपको 72.06 प्रति लीटर चुकाने होंगे.

बता दें कि गुरुवार को सिर्फदिल्ली में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कटौती की गई थी. कच्चे तेल की कीमतों में शुक्रवार को बढ़ोतरी देखने को मिल रही है. हालांकि ऐसी उम्मीद जताई जा रही है कि ज्यादा आपूर्ति और कम मांग की वजह से इसकी कीमतों में फिर कटौती होगी.

You May Also Like

English News