करणी सेना की धमकी- अब तक भंसाली जेल से बाहर कैसे?

संजय लीला भंसाली की बहुप्रतीक्ष‍ित फिल्म पद्मावती पर सेंसर बोर्ड और निर्माताओं के बीच कथ‍ि‍त समझौते की खबरों के बाद करणी सेना ने देशभर में फिल्म रिलीज के खि‍लाफ आंदोलन और बीजेपी को सबक सिखाने की धमकी दी है. शुक्रवार को सेंसर बोर्ड पर आरोप लगाते हुए सेना ने कहा, सेंसर चीफ प्रसून जोशी को हटा देना चाहिए.  पूरी फिल्म पर सवाल उठाते हुए पूछा कि अब तक फिल्म बनाने वाले संजय लीला भंसाली जेल से बाहर कैसे हैं.करणी सेना की धमकी- अब तक भंसाली जेल से बाहर कैसे?

फिल्म की फंडिंग पर सवाल

करणी सेना के नेता सुखदेव सिंह गोगामेड़ी ने जौहर प्रथा के उल्लेख पर नाराजगी जताई. कहा, जौहर इसलिए किया गया था क्योंकि माता पद्मिनी नहीं चा‍हती थीं कि खि‍लजी उनके मृत शरीर को भी हाथ लगा सके. अगर जान देनी होती तो वो जहर पीकर भी दे सकती थीं. उनका ये बल‍िदान महान था.

पद्मावती की फंडिंग पर सवाल उठाते हुए करणी सेना ने कहा, फिल्म उस दौरान बनी जब देशभर में नोटबंदी लागू की गई थी. करणी हमारे पास नोटबंदी के दौर में 4 हजार रुपये भी नहीं थे और इनको फिल्म के लिए कहां से करोड़ों की फंडिंग मिल गई. सरकार इसकी भी जांच कराए.

राज्यवर्धन ने अबतक इस्तीफा क्यों नहीं दिया

करणी सेना ने इस बात पर भी सवाल उठाए कि अब तक जब फिल्म को सरकार ने अनुमति नहीं दी और ना ही सेंसर बोर्ड ने अनुमति दी तो फिर क्यों संजय लीला भंसाली पर देशद्रोह का केस क्यों दर्ज नहीं हुआ. करणी सेना ने संजय लीला भंसाली पर हिन्दू संस्‍कृति को बेचने का आरोप लगाया.

केंद्रीय खेल राज्य मंत्री नेशनल शूटर राज्यवर्धन सिंह राठौर के अब तक इस्तीफा ना देने पर भी सवाल उठाए. कहा, राज्यवर्धन माता पद्मीनी के राज्य से आते हैं फिर भी उन्होंने अब तक इस्तीफा क्यों नहीं दिया.

उपचुनाव में देंगे बीजेपी की वादाखि‍लाफी का जवाब

करणी सेना ने पद्मावती को रिलीज करने को लेकर बीजेपी को भी धमकी दी. कहा, आगे चलकर राजस्थान में 3 उपचुनाव हैं. बीजेपी की वादाखि‍लाफी का हम जवाब दे सकते हैं. हम बीजेपी को वोट से वंचित भी कर सकते हैं.

सेंसर बोर्ड चीफ प्रसून जोशी को हटाया जाए

28 दिसंबर को पद्मावती को लेकर हुई बैठक में फिल्म पद्मावती पर लिए गए फैसले पर करणी सेना ने कहा कि प्रसून जोशी को बर्खास्त कर दिया जाना चाहिए. केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी का भी विरोध किया.

प्रसून जोशी ने पिछले शनिवार को इन पांच सवालों के जवाब दिए और बताया कि पद्मावती रिलीज को लेकर सेंसर में किस तरह की प्रगति है.

1. क्या फिल्म में कई कट्स लगाए जा रहे हैं जैसा कि कुछ मीडिया हाउस का कहना है?

प्रसून : गलत. सेंसर बोर्ड ने कोई भी कट लगाने का सुझाव नहीं दिया है. सिर्फ 5 बदलाव सुझाए हैं. जो इस तर‍ह हैं- 

a). डिस्क्लेमर को बदलना जो कि फिल्म के ऐतिहासिक तथ्यों का सही होने का दावा नहीं करता.

b). विचार विमर्श के बाद फिल्म के टाइटल को ‘पद्मावती’ से ‘पद्मावत’ करना, जि‍ससे ये साफ हो सके कि निर्माताओं की फिल्म की रचना महाकाव्य ‘पद्मावत’ पर आधारित है.

c). फिल्म के गाने घूमर में चरित्र के मुताबिक जरूरी बदलाव किए जाएं.

d). फिल्म में गलत, भ्रामक संदर्भ और ऐतिहास‍कि जगहों के नाम बदले जाएं.

e). फिल्म में एक डिस्क्लेमर शामिल किया जाए जो साफतौर से बताए कि ‘जौहर’ का महिमा मंडन नहीं किया जा रहा है.

2. क्या इन बदलावों पर फिल्म के निर्माता राजी हैं?

प्रसून : हां, फिल्म के निर्माता पूरी तरह से इस समझौते के साथ हैं. इसमें निर्माता और निर्देशक शामिल हैं.

3. CBFC ने कब देखी फिल्म?

प्रसून : 28 दिसंबर की शाम फिल्म देखी गई, जहां एग्जामिनिंग कमेटी, स्पेशल पैनल के साथ मैं मौजूद था. स्क्रीनिंग के बाद मेकर्स के साथ मुलाकात भी की गई और लंबी चर्चा हुई.

4. इस तरह का स्पेशल पैनल क्यों?

प्रसून : फिल्म को लेकर बने माहौल और जटिलताओं को देखते हुए इस तरह के पैनल की जरूरत पड़ी ताकि सेंसर बोर्ड अंतिम फैसले से पहले तमाम पहलुओं पर अच्छी तरह से सोच-विचार सके.

मीटिंग में कौन-कौन शामिल था?

मीटिंग में CBFC चीफ प्रसून जोशी, उदयपुर पूर्व राजपरिवार के सदस्य अरविंद सिंह मेवाड़, जयपुर यूनि‍वर्सिटी के डॉ चंद्रमणी सिंह और प्रोफेसर के.के. सिंह शामिल थे. पैनल के सदस्यों ने पद्मावती से जुड़ी ऐतिहासिक घटनाओं और कई पहलुओं पर दावों के साथ सुझाव दिए.

क्या है पद्मावती पर जारी विवाद

फिल्म को लेकर लंबे समय से हंगामा है. आरोप है कि भंसाली ने पद्मावती के व्यक्तित्व को तोड़-मरोड़ कर पेश किया है. आरोप है कि फिल्म में रानी पद्मावती और खि‍लजी के बीच ड्रीम सीक्वेंस है. हालांकि भंसाली खुद इस बात को खारिज कर चुके हैं. बाद में एक बयान में उन्होंने ये भी कहा था कि उनकी फिल्म मालिक मोहम्मद जायसी की पद्मावत पर आधारित है.

विवाद की वजह से 12 दिसंबर को प्रस्तावित फिल्म सेंसर में अटक गई और इसकी रिलीज डेट टालनी पड़ी. भंसाली को संसदीय कमेटी के सामने भी पेश होना पड़ा, जहां वो कई सवालों का जवाब नहीं डे पाए. चर्चा है कि अगर फिल्म अगले साल रिलीज हो सकती है. हालांकि अभी सेंसर को इसे पास करना है. पद्मावती को लेकर विवाद भी शांत नहीं हुए हैं. इस फिल्म में दीपिका पादुकोण पद्मावती की भूमिका जबकि रणवीर सिंह अलाउद्दीन खि‍लजी और शाहिद राज रतन सिंह रावल के किरदार में नजर आएंगे.

You May Also Like

English News