कर्ज से नहीं झगड़े से मर रहा है किसान: कृषि मंत्री यूपी

देशभर के बीजेपी के नेताओं ने जैसे उलटे बयान देने की कसम ही खा रखी है. वहीं बात अगर योगी के विधायकों और नेताओं की करे तो वो एक कदम आगे रहते है.अब उत्तरप्रदेश में योगी कैबिनेट के कृषि मंत्रीं सूर्य प्रताप शाही ने बुंदेलखंड में हो रही किसानों की आत्महत्या को लेकर बड़ा बयान दिया है. मंत्री ने कहा कि “किसान कर्ज से नहीं बल्कि माँ-बेटे के झगड़े के कारण मर रहा है.”कर्ज से नहीं झगड़े से मर रहा है किसान: कृषि मंत्री यूपी

झांसी में मीडिया खुद के उलटे कामों के ठीकरे मीडिया पर फोड़ते हुए कृषि मंत्री ने कहा कि किसान के आत्महत्या के मामले में मीडिया बढ़-चढ़ कर रिपोर्ट दिखाती है. कर्ज से कोई किसान नहीं मरा है.पत्रकारों के सवाल पर कृषि मंत्री ने कहा कि भाजपा का काम है प्रदेश के अंदर विकास को गति देना है. समाजवादी का चोला पहनकर पूर्व की सरकार के मुखिया ने सरकारी खजाने से 42- 42 करोड़ रुपए अपनी कोठी पर खर्च कर दिया, यह कौन सा समाजवाद है.

कृषि मंत्री ने कहा कि आज गरीबों के पास आवास नहीं है और अखिलेश यादव अपने आवास के लिए 42 करोड़ लगा देते है. वहीं कृषि मंत्री ने खुद के कामों की खामियां गिनने की जगह अन्य बीजेपी नेताओं की ही तरह पुरानी सरकार को कोसा और सवालों के जवाब दिए बिना चलते बने. 

You May Also Like

English News