कर्नाटक: जदएस-कांग्रेस में विभागों के बंटवारे को लेकर मतभेद

कर्नाटक में नया सियासी संकट खड़ा होता दिख रहा है। विधानसभा में विश्वास मत परीक्षण के एक दिन बाद ही जदएस और कांग्रेस में विभागों को लेकर खींचतान शुरू हो गई है। मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने शनिवार को माना कि उनकी पार्टी और गठबंधन सहयोगी कांग्रेस में विभागों के आवंटन को लेकर कुछ मतभेद हैं, लेकिन इससे सरकार को कोई खतरा नहीं है। कांग्रेस की राज्य इकाई को हाईकमान से हरी झंडी मिलने के बाद कैबिनेट का विस्तार कर दिया जाएगा।कर्नाटक: जदएस-कांग्रेस में विभागों के बंटवारे को लेकर मतभेद

सीएम कुमारस्वामी बोले- कुछ समस्या हैं लेकिन सरकार के लिए खतरा नहीं

विभागों के बंटवारे और कृषि कर्ज माफ करने के सवाल पर कुमारस्वामी ने कहा, मैं इसे प्रतिष्ठा का मुद्दा बनाने की कोशिश नहीं करूंगा और समस्या को हल करने का प्रयास करूंगा। मैं अपना आत्मसम्मान छोड़कर इस पद से नहीं चिपका रहूंगा। कांग्रेस और जदएस के बीच विश्वास मत परीक्षण के बाद से विभागों के बंटवारे पर बातचीत चल रही है। 

प्रदेश कांग्रेस के नेता केंद्रीय नेतृत्व से बात करने चार्टर्ड प्लेन से दिल्ली पहुंचे

कैबिनेट विस्तार और विभागों के बंटवारे पर हाईकमान के बात करने के लिए प्रदेश कांग्रेस के नेता चार्टर्ड विमान से नई दिल्ली पहुंचे हैं। सूत्रों के मुताबिक, रवाना होने से पहले कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारमैया, उपमुख्यमंत्री परमेश्वर और कांग्रेस महासचिव व कर्नाटक के प्रभारी केसी वेणुगोपाल ने कुमारस्वामी से मुलाकात की। 

कुमारस्वामी ने यह भी साफ कर दिया था कि वह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी से मिलने दिल्ली नहीं जाएंगे। प्रदेश कांग्रेस के नेता अपने केंद्रीय नेतृत्व से बात करने दिल्ली गए हैं। उनके लौटने के बाद कैबिनेट का विस्तार कर दिया जाएगा। गठबंधन के तहत कांग्रेस को 22 और जदएस को 12 मंत्रालय देने पर सहमति बनी है। 

You May Also Like

English News