कर्नाटक में मेजोरिटी टेस्ट का लाइव टेलीकास्ट करना जरुरीSC:

कर्नाटक में कांग्रेस की दायर याचिका के बाद आए बड़े फैसले के बाद आज फिर सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि फ्लोर पर होने वाले मेजोरिटी टेस्ट का लाइव टेलीकास्ट करना होगा, वहीं शुक्रवार को कांग्रेस के द्वारा स्पीकर को लेकर दायर याचिका में कांग्रेस के हाथ निराशा लगी है, जिसमें चुने गए स्पीकर के जी बोपैया ही रहेंगे. कर्नाटक में कांग्रेस की दायर याचिका के बाद आए बड़े फैसले के बाद आज फिर सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि फ्लोर पर होने वाले मेजोरिटी टेस्ट का लाइव टेलीकास्ट करना होगा, वहीं शुक्रवार को कांग्रेस के द्वारा स्पीकर को लेकर दायर याचिका में कांग्रेस के हाथ निराशा लगी है, जिसमें चुने गए स्पीकर के जी बोपैया ही रहेंगे.   बता दे, कर्नाटक में चल रहे ड्रामे के बीच हालात यह हो गए है कि सुप्रीम कोर्ट को इन मामलों में दखल देनी पड़ रही है, वहीं सुप्रीम कोर्ट के बड़े फैसले के बाद आज शाम 4 बजे बहुमत के जरुरी फ्लोर टेस्ट होगा जिसमें मुख्यमंत्री येदियुरप्पा को विधायकों का जरुरी बहुमत साबित करना होगा, अगर येदियुरप्पा बहुमत साबित नहीं कर पाए वो उनकी सरकार गिर सकती है.   क्या है मामला: दरअसल कर्नाटक में हुए चुनाव में इस तरह के हालातों की मुख्य वजह है त्रिशंकु परिणाम, दो सीटों पर चुनाव रद्द होने के बाद 222 सीटों पर हुए विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिल पाया. कर्नाटक में बीजेपी को 104 सीट, कांग्रेस 78 सीट वहीं जेडीएस को 38 सीटें मिली थी जिसके बाद जेडीएस और कांग्रेस ने गठबंधन कर लिया लेकिन बहुमत नहीं होने के बाद भी राज्यपाल ने सरकार बनाने का न्यौता बीजपी को भेजा तभी से कांग्रेस और जेडीएस के द्वारा सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने के बाद यह घमासान शुरू हुआ है.

बता दे, कर्नाटक में चल रहे ड्रामे के बीच हालात यह हो गए है कि सुप्रीम कोर्ट को इन मामलों में दखल देनी पड़ रही है, वहीं सुप्रीम कोर्ट के बड़े फैसले के बाद आज शाम 4 बजे बहुमत के जरुरी फ्लोर टेस्ट होगा जिसमें मुख्यमंत्री येदियुरप्पा को विधायकों का जरुरी बहुमत साबित करना होगा, अगर येदियुरप्पा बहुमत साबित नहीं कर पाए वो उनकी सरकार गिर सकती है. 

क्या है मामला: दरअसल कर्नाटक में हुए चुनाव में इस तरह के हालातों की मुख्य वजह है त्रिशंकु परिणाम, दो सीटों पर चुनाव रद्द होने के बाद 222 सीटों पर हुए विधानसभा चुनाव में किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिल पाया. कर्नाटक में बीजेपी को 104 सीट, कांग्रेस 78 सीट वहीं जेडीएस को 38 सीटें मिली थी जिसके बाद जेडीएस और कांग्रेस ने गठबंधन कर लिया लेकिन बहुमत नहीं होने के बाद भी राज्यपाल ने सरकार बनाने का न्यौता बीजपी को भेजा तभी से कांग्रेस और जेडीएस के द्वारा सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने के बाद यह घमासान शुरू हुआ है.

You May Also Like

English News