कानपुर के रनियां से अपहृत मासूम बहनें झींझक में मिलीं

झीझक: पिता को खाना देने के लिए शनिवार को किशरवल रनियां स्थित घर से निकली दो मासूम बहनों को बोलेरो सवार अज्ञात युवकों ने अपहरण कर लिया। इसके बाद उन्हें झींझक में छोड़कर बोलेरो सवार युवक फरार हो गए। तलाश कर रहे परिजनों को झींझक कस्बे में बच्चियों के मिलने की जानकारी हुई। पुलिस की पूछताछ में दोनों ने रनियां से बोलेरो सवार द्वारा झींझक लाकर छोड़ने की जानकारी दी। पुलिस ने घटना की छानबीन शुरू की है।

अकबरपुर कोतवाली क्षेत्र के किशरवल गांव निवासी लालजी गौतम रनिया कस्बे में ट्रैक्टर चलाते हैं। शनिवार दोपहर में पुत्रियां मुस्कान (10) व रुपांशी (8) घर से पिता को खाना देने के लिए निकली थीं। इसके बाद वह नाटकीय ढंग से लापता हो गईं। शाम तक खाना लेकर न आने पर लालजी ने घर में जानकारी की तो दोनों बच्चियों के रनियां जाने की जानकारी हुई। इसके बाद परिजनों ने बच्चियों की तलाश शुरू की लेकिन उनका पता नहीं लग सका। देर रात उसने पुलिस को बच्चियों के लापता होने की जानकारी दी। रविवार को दोनों बच्चियां झींझक में लावारिस हालत में मिलीं। जानकारी होते ही चौकी इंचार्ज मौके पर पहुंचे और बच्चियों को झींझक चौकी लाए। पूछताछ में दोनों बहनों ने अपने नाम व पता बताने के साथ बोलेरो पर सवार युवकों द्वारा यहां लाकर छोड़ने की जानकारी दी। झींझक चौकी प्रभारी वीरेंद्र सिह ने बच्चियों के मिलने की सूचना रनियां चौकी पुलिस को दी। जानकारी मिलते ही रनियां चौकी इंचार्ज वीके तिवारी परिजनों को लेकर झींझक पहुंचे। मंगलपुर पुलिस ने दोनों बच्चियों को रनियां पुलिस की मौजूदगी में परिजनों के हवाले कर दिया।

 

You May Also Like

English News