कानपुर में शुरु होने वाला है ‘ऐतिहासिक बिठूर महोत्सव’, ये हैं खास बात

ऐतिहासिक बिठूर महोत्सव की शुरुआत 20 दिसंबर से होगी। यह 24 दिसंबर तक चलेगा। इसकी थीम 1857 की क्रांति, शौर्य एवं गंगा संस्कृति होगी। महोत्सव का शुभारंभ करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शहर आ सकते हैं।कानपुर में शुरु होने वाला है 'ऐतिहासिक बिठूर महोत्सव', ये हैं खास बातGift: देखिए पीएम मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति की बेटी क्या गिफ्ट दिया!

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की घोषणा को अमली जामा पहनाते हुए कानपुर जिला प्रशासन ने बिठूर महोत्सव की रूपरेखा तैयार कर ली है। मंगलवार को कमिश्नर कैंप कार्यालय में आयोजित बैठक में मंडलायुक्त पीके महान्ति ने पांच दिवसीय महोत्सव में होने वाले कार्यक्रमों का निर्धारण किया। मंडलायुक्त ने कहा कि महोत्सव में कृषि प्रदर्शनी, विंटेज कार रैली और फूड मेला आदि कार्यक्रम भी जोड़े गए हैं। उन्होंने समन्वयक नीरज श्रीवास्तव को निर्देश दिया कि बिठूर महोत्सव को राष्ट्रीय कैलेंडर में लाने के लिए भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय में तत्काल प्रस्ताव भिजवाएं। 

मंडलायुक्त ने महोत्सव के संपूर्ण आयोजन का कार्यभार अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) संजय चौहान को सौंपा। साथ ही बिठूर टाउन एरिया के अधिशासी अधिकारी को निर्देश दिया किया कि वह घाटों और बिठूर परिक्षेत्र की सफाई पर विशेष ध्यान दें। डीएम सुरेंद्र सिंह ने बिठूर महोत्सव को गंगा मिशन से जोड़ने का सुझाव दिया। बैठक में आईजी आलोक सिंह, एसएसपी अखिलेश कुमार, केडीए उपाध्यक्ष के. विजयेंद्र पांडियन, सीडीओ अरुण कुमार, नगर आयुक्त अविनाश सिंह, एसपी (वेस्ट) गौरव ग्रोवर, एसपी (ट्रैफिक) सुशील कुमार आदि अधिकारी मौजूद रहे।

बिठूर महोत्सव के कार्यक्रमों का कैलेंडर
– बिठूर के नानाराव स्मारक प्रांगण में 20 से 24 दिसंबर तक विकास प्रदर्शनी, 1857 क्रांति की यात्रा प्रदर्शनी, शिल्प हाट-मेला व प्रतिदिन गंगा आरती होगी।
– 20 दिसंबर को नानाराव स्मारक प्रांगण में मुंबई से आए शेखर सेन संगीतमय एकल नाट्य प्रस्तुति देंगे।
– 21 दिसंबर को उत्तर मध्य सांस्कृतिक केंद्र, इलाहाबाद की ओर से नानाराव पार्क, बिठूर में लोककला गतका (पंजाब की मार्शल आर्ट्स) का प्रदर्शन होगा। इसके बाद मशहूर पार्श्व गायिका अनुराधा पोडवाल की ओर से भजन संध्या आयोजित होगी।
– 22 दिसंबर को स्वराज संस्थान, भोपाल द्वारा नानाराव पार्क , बिठूर में क्रांतिकारियों पर आधारित नाटक वीर वीरांगना प्रस्तुत किया जाएगा।
– नानाराव पार्क में 23 दिसंबर को सांस्कृतिक केंद्र, इलाहाबाद की ओर से गोटीपुआ (उड़ीसा की मार्शल आर्ट्स) की प्रस्तुति होगी। इसके बाद हरिहरन व अन्य कलाकार गीत-संगीत की प्रस्तुति देंगे। 
– नानाराव पार्क में 24 दिसंबर को सांस्कृतिक केंद्र की ओर से लोककला पाई-डंडा (उत्तर प्रदेश) और इसके बाद तबला एवं ड्रम की जुगलबंदी की प्रस्तुति होगी। 

You May Also Like

English News