कासगंज हिंसा में मारे गए चंदन के पिता को मिल रही धमकी, बढ़ाई गई सुरक्षा

उत्तर प्रदेश के कासगंज में 26 जनवरी को तिरंगा यात्रा को लेकर हुई सांप्रदायिक हिंसा में मारे गए युवक चंदन गुप्ता के परिवार की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. चंदन के पिता ने शिकायत की थी कि कुछ लोग उन्हें धमकी दे रहे हैं. चंदन के पिता सुशील गुप्ता ने आत्मरक्षा के लिए बंदूका का लाइसेंस देने की भी मांग की है.कासगंज हिंसा में मारे गए चंदन के पिता को मिल रही धमकी, बढ़ाई गई सुरक्षाBJP ने क्रांतिकारी, Cong ने विफल तो AAP ने बताया ‘पकौड़ा बजट’

उधर चंदन की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किए गए सलीम ने अपना जुर्म कुबूल कर लिया है. सलीम ने साथ ही यह भी स्वीकार किया है कि उसके घर में पहले से ही तमंचे, पिस्तौल, बम और कारतूस मौजूद थे. सलीम ने यह भी कुबूल कर लिया है कि उसके भाइयों वसीम और नसीम ने भी गोलियां चलाई थीं.

चंदन के पिता सुशील गुप्ता ने गुरुवार को पुलिस में शिकायत दर्ज कराई कि उन्हें कुछ युवकों ने धमकी दी है. सुशील गुप्ता के मुताबिक, गुरुवार को जब वह घर के बाहर बैठे थे, तो बाइक सवार दो लोग उनके घर के आगे रुके और उन्हें जान से मारने की दी. सुशील गुप्ता ने सीएम योगी आदित्यनाथ से सुरक्षा की गुहार लगाई है. साथ ही खुद पर और परिवार पर खतरे को देखते हुए पुलिस से सुरक्षा मुहैया कराने की मांग की है.

चंदन के पिता सुशील गुप्ता ने 18 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराई थी. इनमें सलीम, वसीम, नसीम, जाहिद उर्फ जग्गा, आसिफ कुरैली उर्फ हिटलर, असलम कुरैशी, असीम कुरैशी, नसरुद्दीन, अकरम, तौफिक, खिल्लन, शबाव, राहत, सलमान, मोहसिन, आसिफ जिम वाला, सादिक और बबलू का नाम शामिल हैं. सुशील गुप्ता द्वारा दर्ज FIR में नामजद 15 अन्य आरोपियों की तलाश में पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है.

सलीम को पूछताछ के बाद गुरुवार को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे 14 दिन की जुडिशल कस्टडी में भेज दिया गया है. वहीं सलीम के दोनों भाई वसीम और नसीम अभी फरार हैं. सलीम ने पूछताछ के दौरान बताया कि घटना के बाद तीनों भाई अलीगढ़ में छिपे थे, लेकिन पुलिस की दबिश के चलते उन्हें रिश्तेदार का घर छोड़ना पड़ा. 

इनमें से मुख्य आरोपी सलीम जावेद को बुधवार को एसटीएफ और पुलिस टीम गिरफ्तार कर लिया था. आरोपी से पिस्टल बरामद कर ली थी. पुलिस ने अब तक की कार्यवाही के दौरान एक डीबीबीएल बंदूक, दो कारतूस, एक एसबीबीएल देशी, 4 कारतूस और 8 खोखा कारतूस बरामद बरामद किए हैं. इस घटना के संबंध में चिन्हित व्यक्तियों की गिरफ्तारी के लिए टीमें गठित कर दबिशें दी जा रही हैं. मंगलवार को आरोपियों की संपत्ति की कुर्की करने के आदेश जारी किए गए थे.

पुलिस के मुताबिक, फिलहाल कासगंज में स्थिति शांतिपूर्ण है, बाजार आम दिनों की तरह ही खुल रहे हैं. स्कूल और व्यापारिक संस्थान भी खुल गए हैं. बताते चलें कि बीती 26 जनवरी को कासगंज में तिरंगा यात्रा निकाल रहे युवकों ने एक समुदाय विशेष के मोहल्ले के पास पहुंचकर भड़काऊ नारेबाजी की, जिससे दो गुटों में झड़प शुरू हो गई.

झड़प इतनी बढ़ी की इसने हिंसा का रूप ले लिया. दोनों पक्षों के बीच जमकर पत्थरबाजी हुई और गोलियां भी चलीं. फायरिंग में हिंदू समुदाय के एक युवक चंदन गुप्ता की मौत हो गई. युवक की मौत के बाद हिंसा ने उग्र रूप ले लिया और अगले दो दिन तक यह हिंसा चली.

You May Also Like

English News