किंग नडाल इस वजह से जीतना चाहते हैं 11वां फ्रेंच ओपन खिताब

स्पेनिश स्टार राफेल नडाल ने स्वीकार किया कि 11वां फ्रेंच ओपन खिताब जीतने की उनकी इच्छा काफी प्रबल है, क्योंकि वह इस बात को भी महसूस करते हैं कि उनके करियर का अंत ज्यादा दूर नहीं है.स्पेनिश स्टार राफेल नडाल ने स्वीकार किया कि 11वां फ्रेंच ओपन खिताब जीतने की उनकी इच्छा काफी प्रबल है, क्योंकि वह इस बात को भी महसूस करते हैं कि उनके करियर का अंत ज्यादा दूर नहीं है.  यह 32 साल का खिलाड़ी 16 मेजर खिताब अपने नाम कर चुका है और रविवार को वह अपने 24वें ग्रैंड स्लैम फाइनल में रोलां गैरां पर डोमिनिक थिएम से भिड़ेगा, जिनका यह पहला फाइनल होगा.  अगर नडाल जीत जाते हैं, तो पेरिस में यह उनका 11वां खिताब होगा. यहां किसी खिलाड़ी ने 8 (एमेचर एरा) से ज्यादा सिंगल्स खिताब नहीं जीते हैं. नडाल अब भी महान प्रतिद्वंद्वी रोजर फेडरर से चार मेजर खिताब पीछे चल रहे हैं, हालांकि यह स्विस स्टार उनसे चार साल बड़ा है.  नडाल ने कल सेमीफाइनल में जुआन मार्टिन डेल पोत्रो को 6-4, 6-1, 6-2 से हराने के बाद पेरिस में अपनी 85वीं जीत दर्ज की और उन्हें यहां केवल दो हार मिली हैं. उन्होंने कहा, ‘मेरे लिए यहां खेलने की प्रेरणा हमेशा काफी ज्यादा रहती है.’  उन्होंने कहा, ‘लेकिन मेरे लिए, मेरा मानना है कि आपके करियर में सीमित मौके होते हैं.’ नडाल ने कहा, ‘मैंने चोटों के कारण कई मौके गंवाए हैं और मैं जानता हूं कि आने वाले साल तेजी से निकल जाएंगे. इसलिए मेरे पास यहां खेलने के लिए 10 से ज्यादा मौके नहीं हैं.’  आंकड़े भी नडाल की चिंता को जायज ठहराते हैं, क्योंकि वह कलाई और घुटने की समस्या के कारण अपने करियर में आठ ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट में नहीं खेल पाए थे.  वह रविवार को अपना 17वां ग्रैंडस्लैम जीतने के लिए प्रेरणा से भरे हैं, जहां उन्हें ऑस्ट्रिया के 24 वर्षीय थिएम से भिड़ना है. दोनों नौ बार एक-दूसरे के आमने सामने हो चुके हैं और सभी मुकाबले क्ले कोर्ट पर ही हुए हैं.

यह 32 साल का खिलाड़ी 16 मेजर खिताब अपने नाम कर चुका है और रविवार को वह अपने 24वें ग्रैंड स्लैम फाइनल में रोलां गैरां पर डोमिनिक थिएम से भिड़ेगा, जिनका यह पहला फाइनल होगा.

अगर नडाल जीत जाते हैं, तो पेरिस में यह उनका 11वां खिताब होगा. यहां किसी खिलाड़ी ने 8 (एमेचर एरा) से ज्यादा सिंगल्स खिताब नहीं जीते हैं. नडाल अब भी महान प्रतिद्वंद्वी रोजर फेडरर से चार मेजर खिताब पीछे चल रहे हैं, हालांकि यह स्विस स्टार उनसे चार साल बड़ा है.

नडाल ने कल सेमीफाइनल में जुआन मार्टिन डेल पोत्रो को 6-4, 6-1, 6-2 से हराने के बाद पेरिस में अपनी 85वीं जीत दर्ज की और उन्हें यहां केवल दो हार मिली हैं. उन्होंने कहा, ‘मेरे लिए यहां खेलने की प्रेरणा हमेशा काफी ज्यादा रहती है.’

उन्होंने कहा, ‘लेकिन मेरे लिए, मेरा मानना है कि आपके करियर में सीमित मौके होते हैं.’ नडाल ने कहा, ‘मैंने चोटों के कारण कई मौके गंवाए हैं और मैं जानता हूं कि आने वाले साल तेजी से निकल जाएंगे. इसलिए मेरे पास यहां खेलने के लिए 10 से ज्यादा मौके नहीं हैं.’

आंकड़े भी नडाल की चिंता को जायज ठहराते हैं, क्योंकि वह कलाई और घुटने की समस्या के कारण अपने करियर में आठ ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट में नहीं खेल पाए थे.

वह रविवार को अपना 17वां ग्रैंडस्लैम जीतने के लिए प्रेरणा से भरे हैं, जहां उन्हें ऑस्ट्रिया के 24 वर्षीय थिएम से भिड़ना है. दोनों नौ बार एक-दूसरे के आमने सामने हो चुके हैं और सभी मुकाबले क्ले कोर्ट पर ही हुए हैं.

You May Also Like

English News