किर​किरी के बाद बैकफुट पर आईं किरण खेर, विवा​दित बयान पर दी सफाई

पहले बयान दिया तो किरकिरी हो गई और अभिनेत्री सांसद किरण खेर बैकफुट पर आ गईं। फिर उन्होंने दिए गए विवादित बयान पर सफाई दी। 21 वर्षीय युवती के साथ गैंगरेप मामले में सांसद किरण खेर के बयान ने जमकर तूल पकड़ा। सांसद के विपक्षियों ने उनके बयान पर राजनीतिक अंदाज में जमकर प्रहार किया। दूसरी ओर उनके पार्टी के कार्यकर्ता उनके  इस बयान का गलत मतलब निकालने के लिए कांग्रेस व मीडिया को दोषी ठहराते नजर आए।किर​किरी के बाद बैकफुट पर आईं किरण खेर, विवा​दित बयान पर दी सफाईस्मृति ने कसा तंज, कहा- सवाल तो पूछना सीख ही गए राहुल गांधी

अपने बयान को लेकर खूब किरकिरी होने के बाद सांसद खेर बैकफुट पर आती नजर आईं। खेर ने वीरवार शाम 4.36 बजे अपने ट्विटर अकाउंट पर एक और बयान जारी किया। जिस पर खेर ने सफाई देते हुए कहा कि एक मां के नजरिए से बच्चियों को सावधानी बरतने के लिए उन्होंने ऐसा कहा था, ना कि एक सांसद के तौर पर। खेर ने ट्वीट कर कहा कि मेरे बयान का गलत मतलब निकाला गया।

बता दें कि सांसद किरण खेर ने बीते बुधवार को प्रेस टू मीट के दौरान हाल ही में शहर में 21 वर्षीय युवती के साथ हुए गैंगरेप व महिलाओं के साथ बढ़ रहे आपराधिक मामले में एक बयान दिया था। जिसमें उन्होंने कहा था महिलाओं व युवती को उन पैसेंजर व्हीकल पर नहीं बैठना चाहिए, जिनमें तीन से चार पुरुष हों। किरण खेर के इस बयान ने वीरवार दिनभर तूल पकड़े रखा। सांसद खेर ने अपने पहले बयान में कहा था कि बच्चियों को उन ऑटो में नहीं बैठना चाहिए, जिन ऑटो में पहले से ही तीन लड़के बैठे हुए हो।

खेर का ट्वीट, सोशल मीडिया पर छाया

चंडीगढ़ की सांसद किरण खेर ने अपने बयान पर सफाई देने के लिए वीरवार शाम एक ट्वीट किया। खेर ने ट्वीट कर कहा कि  हम लोग भी जब कभी मुंबई में टैक्सी लेते थे, तो जो हमें छोड़ने आता था उसे गाड़ी का नंबर लिखा देते थे। आजकल के जमाने में हम सभी को इसके लिए सतर्क होना पड़ेगा। बीते बुधवार को सांसद खेर द्वारा दिया गया बयान सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ। सोशल मीडिया पर खेर के बयान की जमकर किरकिरी और खिंचाई की गई।

खेर के ट्वीट पर रिट्वीट, लाइक और कमेंट्स की भरमार
– समर ने ट्वीट कर कहा कि किरन खेर का कहना है कि जिस ऑटो में तीन लोग हों उसमें लड़की न बैठे, फिर तो घर में भी लड़कियों के रेप हो जाते हैं, वे घरों में न सोएं। तीन साल की बच्चियों का भी रेप हो जाता है, तो क्या लड़कियों को पैदा ही नहीं होना चाहिए?

– निखिल तनेजा ने ट्वीट कर कहा कि लड़कियों को यह नसीहत देना कि वे लड़कों के साथ न घूमें इससे बेहतर है कि हम लड़कों को यह समझाएं कि वे लड़कियों को परेशान न करें। हमें लड़कों को यह बताना होगा कि वे लड़कियों के लिए हर जगह इतनी सुरक्षित बना दें जिससे वे जहां जाना चाहें जा सकें।

– पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन कुमार बंसल ने ट्वीट कर कहा कि मैं हैरान हूं कि किरण खेर ने इस तरह का बयान दिया है, इतने गंभीर मुद्दे पर यह बहुत ही हल्का बयान है। उन्होंने कहा ऐसे बयान देने की बजाय वे इस बात पर ध्यान दें कि चंडीगढ़ को महिलाओं के लिए किस तरह सुरक्षित बनाया जाए।

– दिल्ली में महिला आयोग की चेयरपर्सन स्वाति मालिवाल ने ट्वीट कर कहा कि बीजेपी की सांसद किरण खेर ने रेप पीड़िता का अपमान किया है। माफ  कीजिए, रेप पीड़ित महंगी गाड़ियों में नहीं घूमतीं, कई बार हम गाड़ियां शेयर करती हैं तो यह उनकी गलती कैसे हो सकती है।

ट्विटर पर भी खेर ने अपने बयान को लेकर दी सफाई

सांसद किरण खेर

सांसद खेर ने ट्वीट कर कहा कि उनके बयान का राजनीतिकरण हो रहा है। उन्होंने कहा,  मैंने तो ये कहा था कि जमाना बहुत खराब है, बच्चियों को एहतियात बरतना चाहिए, अगर कोई लड़की 100 नंबर पर फोन करती है तो चंडीगढ़ पुलिस पीसीआर भेजती है, इस मामले में राजनीति नहीं करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि उन लोगों पर लानत है जो इसका राजनीतकरण कर रहे हैं, आपके घरों में भी बच्चियां हैं आपको भी मेरी तरह लोगों को जोड़ने वाली करनी चाहिए उन्हें तोड़ने वाली नहीं।

अनुपम के ट्वीट को रीट्वीट
अनुपम खेर नाम के एक पैरोडी अकाउंट ने फिल्म अभिनेता और किरण खेर के पति अनुपम खेर का साल 2013 के एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा है कि किरण खेर जी, यही आदमी इस मामले में राजनीति कर रहा है। दरअसल, 23 अगस्त 2013 के ट्वीट में अनुपम खेर ने लिखा था, कि यहां कानून का कोई डर नहीं है। रेप के मामले सालों तक खिंचे चले जाते हैं. लेकिन किसी को सजा नहीं मिलती। राजनेता सिर्फ अपनी ताकत बढ़ाने के लिए उत्साहित रहते हैं, लोगों के भले में नहीं।

किरण खेर के समर्थन में भी आए ट्वीट
सोनम महाजन ने ट्वीट किया कि किरण खेर के बयान को गलत तरीके से पेश किया गया है. उन्होंने लड़कियों से सतर्क रहने के लिए कहा है। हमारी मां भी हमसे यही बात कहती हैं। मेरे पति भी मुझे यही नसीहत देते हैं। लल्लनटॉप लोटा नामक ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया गया कि उन्होंने जो कुछ भी कहा वह सिर्फ़ लड़कियों के बचाव के लिए था, उन्होंने एक मां की तरह अपनी बात सीधे तौर पर रखी।

You May Also Like

English News