किससे क्या बात हो रही है, रखते थे पल-पल की खबर, सीए और नाइजीरियन छात्र गिरफ्तार

यूपी के कानपुर में एसपी पूर्वी ने बड़ी कंपनियों की मेल आईडी हैक करके ठगी करने वाले नाइजीरियन और सीए के छात्र सहित तीन साइबर ठगों को दिल्ली से गिरफ्तार किया है। पूछताछ के बाद फीलखाना थाने की पुलिस ने तीनों आरोपियों को जेल भेज दिया। ठगों ने अब तक कितनी और किससे-किससे ठगी की है, अब पुलिस रिमांड पर लेकर इसका पूरा काला चिट्ठा खोलेगी। एसपी पूर्वी अनुराग आर्या ने बुधवार को बताया कि नजीराबाद निवासी मंजीत सिंह का मेस्टन रोड में केमिकल का कारोबार है। मई 2017 में मंजीत ने मुंबई की एक कंपनी से 30 लाख का केमिकल खरीदने का ऑर्डर किया था। भुगतान करने के बाद भी कंपनी ने रुपये नहीं मिलने की बात कहकर माल नहीं दिया। इस पर मंजीत ने फीलखाना थाने में ठगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।किससे क्या बात हो रही है, रखते थे पल-पल की खबर, सीए और नाइजीरियन छात्र गिरफ्तारमामले की जांच तत्कालीन एसओ अजय नारायण सिंह कर रहे थे। जांच में यह सामने आया कि साइबर ठगों ने कंपनी का मेल हैक करके मंजीत से अपने खाते में रुपये मंगा लिए। जांच कर रही पुलिस टीम ने मंगलवार को छापेमारी करके दिल्ली संगम विहार से नाइजीरिया निवासी चिमॉनक्पा कॉसमॉस मौरा, संगम विहार निवासी विक्रम कुमार वर्मा और अजीत सिंह को गिरफ्तार किया।

ठगी में शामिल नाइजीरियन छात्र फरीदाबाद में रहकर नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी से बीएससी आईटी की पढ़ाई और अजीत सीए की पढ़ाई कर रहा है। जबकि विक्रम वर्मा ने ठगी का रुपया कैफे और रेस्टोरेंट में लगा रखा है। नाइजीरियन छात्र स्टूडेंट वीजा पर यहां रह रहा है और बीच-बीच में इसे बढ़वाता रहता है।

ठगों के पास 50 से अधिक खाते मिले
एसपी पूर्वी ने बताया कि नाइजीरियन ठग इस गैंग का मास्टर माइंड है। दिल्ली के रहने वाले दोनों छात्रों की मदद से फर्जी आईडी के जरिए खाते खुलवाए थे। ठगों के पास 50 से अधिक बैंक खातों की पासबुक, एक लैपटॉप, दो आईफोन समेत आठ मोबाइल, अलग-अलग कंपनियों के दस सिमकार्ड और जालसाजी के अन्य दस्तावेज बरामद हुए हैं। नाइजीरियाई छात्र ने बड़ी कंपनियों की ई-मेल आईडी हैक कर रखी हैं। कंपनी अपने क्लाइंट से क्या बातचीत कर रही है इसकी जानकारी ठग रखते थे। कोई क्लाइंट कंपनी को बड़ा ऑर्डर करता तो कंपनी की मेल से ही क्लाइंट को अपना खाता नंबर देकर गुमराह करते और ऑर्डर की पूरी रकम अपने खाते में मंगा लेते थे। एक-दो नहीं, सैकड़ों कपनियों के क्लाइंटों से इस तरह ठगी की।

गिरफ्तारी के दौरान ठगों ने पुलिस को पीटा
छापेमारी के दौरान पुलिस ने तीनों आरोपियों को दबोचा तो नाइजीरियन ठग ने पुलिस पर हमला बोल दिया। तब पुलिस ने स्थानीय पुलिस की मदद से नाइजीरियन को दबोचा। संबंधित थाने में लिखापढ़ी करने के बाद उसे हिरासत में लिया।

You May Also Like

English News