कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत को पहला पदक, वेटलिफ्टिंग में मिला सिल्वर मेडल

नई दिल्ली. गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में उम्मीद के मुताबिक भारत का प्रदर्शन शुरू हो गया है. भारत ने खेलों के शुरू होने के पहले ही दिन पदकों का खाता खोल लिया. भारत की झोली में पहला पदक चांदी के तमगे के तौर आया, जिसे गुरुराजा पुजारी ने जीता. गुरुराजा ने देश के लिए सिल्वर मेडल वेटलिफ्टिंग में हासिल किया. पुरुषों के 56 किलोग्राम भार वर्ग में भारत की चांदी कर गोल्ड कोस्ट में पदक जीतने वाले गुरु पहले भारतीय बने.

गुरुराजा पुजारी ने सिल्वर मेडल पर कब्जा करने के लिए स्नैच में 111 किलो का भार उठाया जबकि क्लीन एंड जर्क में 138 किलो का भार उठाते हुए कुल 249 किलोग्राम वेट उठाया और वो दूसरे नंबर पर रहे. इस मुकाबले में मलेशिया के इजहार अहमद ने कुल 261 का भार उठाते हुए कॉमनवेल्थ गेम्स का नया रिकॉर्ड बनाया और सोने का तमगा हासिल किया. जबकि श्रीलंका के चतुरंगा लकमल ने गुरुराजा से एक किलो कम का भार यानी 248 किलो उठाते हुए इस मुकाबले का ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया.

गुरुराजा की इस दमदार सफलता को टीम इंडिया के पूर्व धाकड़ बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग ने भी सराहा है. सहवाग ने ट्वीट कर गुरु को बधाई दी और लिखा भारत को पहला मेडल दिलाने के लिए आपका शुक्रिया. इसके अलावा महिला हॉकी में भारत को वेल्स के हाथों 3-2 से हार का सामना करना पड़ा.  मेलबर्न खेल 2006 में रजत पदक जीतने के बाद पहला राष्ट्रमंडल पदक जीतने के इरादे से उतरी भारतीय टीम पहले 30 मिनट तक पीछे थी.

तीसरे क्वार्टर में दो गोल करके उसने बराबरी की लेकिन वेल्स ने आखिरी क्षणों में गोल करके जीत दर्ज की . अब दूसरे ग्रुप मैच में कल भारत का सामना मलेशिया से होगा. गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में पहला मेडल अगर भारत के लिए गुरुराजा पुजारी ने जीता तो वहीं इस प्रतियोगिता का पहला गोल्ड बरमूडा के नाम रहा.

You May Also Like

English News