कोलकाता में निपाह के संदेह में तीसरा रोगी भर्ती

केरल में निपाह वायरस से हुई मौतों के बीच पश्चिम बंगाल में भी इस वायरस से पीड़ित होने के संदेह में मरीज इंफेक्सस डिजीज (आइडी) अस्पताल में भर्ती होने लगे हैं। मुर्शिदाबाद के ही एक और मरीज को मंगलवार को महानगर के बेलियाघाटा आइडी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।केरल में निपाह वायरस से हुई मौतों के बीच पश्चिम बंगाल में भी इस वायरस से पीड़ित होने के संदेह में मरीज इंफेक्सस डिजीज (आइडी) अस्पताल में भर्ती होने लगे हैं। मुर्शिदाबाद के ही एक और मरीज को मंगलवार को महानगर के बेलियाघाटा आइडी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।  उसका नाम राजेश मंडल है। वह केरल में राजमिस्त्री का कार्य करता था और पिछले कई दिनों से बुखार से पीड़ित होने के बाद मुर्शिदाबाद के डोमकल स्थित घर लौटा था। बुखार नहीं जाने पर परिजन उसे मुर्शिदाबाद मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने प्राथमिक जांच के बाद बेलियाघाटा आइडी अस्पताल रेफर कर दिया।  इससे पहले सोमवार को केरल से लौटे असीत मंडल नामक एक युवक को बुखार से पीड़ित होने के बाद आइडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। गौरतलब है कि पांच दिन पहले मुर्शिदाबाद के रेजीनगर के रहने वाले शफीकुल शेख नाम के व्यक्ति को इलाज के लिए बेलियाघाटा आइडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।  तेलंगाना में भी मिले निपाह के लक्षणों वाले मरीज, सरकार ने बढ़ाई सतर्कता  शफीकुल कर्नाटक में राजमिस्त्री का काम करता था। 15 दिनों पहले उसे तेज बुखार हुआ और दवा लेने के बावजूद बुखार उतर नहीं रहा था। इसके बाद वह रेजीनगर स्थित अपने घर लौट आया था। हालांकि, अस्पताल की ओर से निपाह वायरस के संक्रमण की पुष्टि नहीं की गई है, लेकिन उन सभी को आइसोलेशन वार्ड में रखकर इलाज किया जा रहा है।

उसका नाम राजेश मंडल है। वह केरल में राजमिस्त्री का कार्य करता था और पिछले कई दिनों से बुखार से पीड़ित होने के बाद मुर्शिदाबाद के डोमकल स्थित घर लौटा था। बुखार नहीं जाने पर परिजन उसे मुर्शिदाबाद मेडिकल कॉलेज अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने प्राथमिक जांच के बाद बेलियाघाटा आइडी अस्पताल रेफर कर दिया।

इससे पहले सोमवार को केरल से लौटे असीत मंडल नामक एक युवक को बुखार से पीड़ित होने के बाद आइडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। गौरतलब है कि पांच दिन पहले मुर्शिदाबाद के रेजीनगर के रहने वाले शफीकुल शेख नाम के व्यक्ति को इलाज के लिए बेलियाघाटा आइडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

शफीकुल कर्नाटक में राजमिस्त्री का काम करता था। 15 दिनों पहले उसे तेज बुखार हुआ और दवा लेने के बावजूद बुखार उतर नहीं रहा था। इसके बाद वह रेजीनगर स्थित अपने घर लौट आया था। हालांकि, अस्पताल की ओर से निपाह वायरस के संक्रमण की पुष्टि नहीं की गई है, लेकिन उन सभी को आइसोलेशन वार्ड में रखकर इलाज किया जा रहा है।

 

You May Also Like

English News