क्या आप जानते हैं, सेहत की सच्ची साथी होती हैं हरी हरी पत्तिया

आयुर्वेद से लेकर प्राचीन इतिहास तक सभी लोग हरी पत्तियों को स्वास्थ के लिए फायदेमंद बताते है, ये हरी पत्तिया हमारे स्वास्थ के लिए एक सच्ची सखी की तरह होती है.लेकिन आज की पीढ़ी इसके महत्व को भूल चुकी है.आइये जानते है हरी पत्तिया कितनी गुणकारी है हमारी सेहत के लिए और क्या-क्या है इसके फायदे.क्या आप जानते हैं, सेहत की सच्ची साथी होती हैं हरी हरी पत्तिया

तुलसी : तुलसी के 8-10 पत्तों को पीसकर चीनी में मिलाकर पीने से लू नहीं लगती है। अगर लू लग गई है तो आराम मिल जाता है। रोज प्रातः खाली पेट तुलसी के चार पत्ते नियमित खाने से बीमारी नहीं होती है।

बेर : बेर की पत्तियों व नीम की पत्तियों को बारीक पीसकर उसमें नींबू का रस मिलाकर बालों में लगा लें व दो घंटे बाद बालों को धो लें। इसका एक माह तक प्रयोग करने से नए बाल उग आते हैं व बाल झड़ना बंद हो जाते हैं।

नीम : नीम की 10-12 पत्तियों को पीसकर सुबह खाली पेट पीने से गर्मी की घमौरियों व चर्मरोग का शमन होता है। नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर सिर धोने से बाल झड़ना रुक जाता है व जुएँ, लीख मर जाते हैं।

बबूल : बबूल की पत्तियों को उबालकर उस पानी को कुल्ला करने से दाँत व मसूड़े मजबूत होते हैं। बबूल की पत्तियों का रस निकालकर सरसों के तेल में मिलाकर लगाने से गर्मी के फोड़े-फुंसी में आराम मिलता है।

बड़ : बड़ के दूध में एक नींबू का रस मिलाकर सिर में आधे घंटे तक लगा रहने दें। फिर सिर को गुनगुने पानी से धो लें। इससे बालों का झड़ना बंद हो जाता है व बाल तेजी से बढ़ते हैं।

You May Also Like

English News