क्या 17 जून से पहले खत्म होगा केजरीवाल का धरना? PM को लिखे खत में छिपा इसका जवाब

अपने दो मंत्रियों (मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन) के साथ पिछले चार दिन से धरने पर बैठे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अब जल्द से जल्द इससे (धरने) ‘मुक्ति’ पाने की कवायद में जुट गए हैं। दो दिन से लगातार सीएम केजरीवाल के ट्वीट और पीएम मोदी को लिखे गए दो पत्र इसी ओर इशारा कर रहे हैं कि वे उपराज्यपाल आवास पर धरने का फैसला लेकर बुरी तरह फंस गए हैं। एक ओर लगातार धरने से जहां दिल्ली की जनता में गलत संदेश जा रहा है, वहीं विपक्षी दल एकजुट होकर आम आदमी पार्टी (AAP) सरकार पर हमला बोल रहे हैं। ऐसे में केजरीवाल ने खुद ही धरना खत्म करवाने की कवायद में जुटे हैं, लेकिन बहाने से।खत के अंत में लिखा है '...दिल्ली के लोगों की तरफ से आपसे मेरा फिर से निवेदन है कि इस हड़ताल को खत्म करवाएं। इस वक्त दिल्ली के लोगों के लिए यह सबसे अहम मुद्दा है।....मैं उम्मीद करता हूं कि 17 जून के पहले आप हड़ताल खत्म करवा देंगे। ताकि मैं नीति आयोग की बैठक में शामिल हो सकूं।  भवदीय अरविंद केजरीवाल  केजरीवाल के धरने का आज 5वां दिन, ममता का मिला समर्थन पर ट्वीट में किया 'दूसरा' इशारा उप राज्यपाल निवास पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, मंत्री गोपाल राय और सत्येंद्र जैन के धरने का शुक्रवार को पांचवां दिन है। इनमें से दो मंत्री मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन अनिश्चितकालीन अनशन पर हैं। हालांकि, अनशन करने को लेकर सवालों में घिरे आम आदमी पार्टी (AAP) मुखिया अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार सुबह किए ट्वीट में इस तरह के संदेश दिए हैं कि जल्द ही अनशन खत्म हो सकता है। आप इनकी हड़ताल को खत्म क्यों नहीं करवाते। इस तरह आइएएस अफसरों की हड़ताल करवाके दिल्ली के लोगों को परेशान करना तो ठीक नहीं है।  शुक्रवार को सुबह अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट में लिखा- 'सुप्रभात, आज सत्येंद्र जी के अनशन का चौथा दिन है। मनीष जी के अनशन का तीसरा दिन है। कल LG साहिब से मिलने का समय मांगा था। उन्होंने जवाब भी नहीं दिया। प्रधानमंत्री जी से हस्तक्षेप करने का आग्रह किया। उन्होंने भी कोई जवाब नहीं दिया। उम्मीद करता हूं कि दिल्ली को जल्द समाधान मिलेगा।'  वहीं, अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने भी कुछ इसी अंदाज में ट्वीट किया है-'सुप्रभात साथियों, LG ऑफ़िस में इंतज़ार करते 4 रातें बीत गईं। मगर LG साहेब 4 मिनट का समय नहीं निकाल पाए, उम्मीद हैं माननीय प्रधानमंत्रीजी ध्यान देंगे।'   शुक्रवार दोपहर उस समय हंगामा मच गया जब एलजी हाउस में एंबुलेस आई। अनिश्चितकानी धरने पर बैठे मनीष सिसोदिया ने एंबुलेश के एलजी हाउस में प्रवेश करने पर अनशन तुड़वाने की आशंका जताई।    उन्होंने कहा कि हमें एनीमा देने के लिए डॉक्टर्स को अंदर आने दिया जा रहा है। हमारा अनशन जबरदस्ती तुड़वाने की कोशिश हो रही है। उन्होंने कहा कि चेतावनी देना चाहता हूं कि अगर ऐसा हुआ तो हम पानी भी त्याग देंगे।    इससे पहले सुबह सत्येंद्र जैन के बाद केजरीवाल ने उपराज्यपाल पर निशाना साधते हुए एक और ट्वीट किया- 'हमारी बसों में CCTV कैमरों का इंतज़ाम हम दिल्ली वाले ख़ुद कर लेंगे। अपनी महिलाओं के लिए हम पैसे की कमी नहीं होने देंगे। आपके पास आए थे क्योंकि आपके पास जो पैसा है, वो भी इस देश की महिलाओं का ही है। बस आपसे एक ही विनती है - अपने LG साहिब को बोल देना कि अब इसमें अड़ंगा ना लगाएं।'  केजरीवाल को मिला ममता का समर्थन  पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के आंदोलन को अपना समर्थन दिया है। एक ट्वीट के जरिये ममता बनर्जी अपनी मांगों के पक्ष में दबाव बनाने के लिए दिल्ली के उप राज्यपाल के कार्यालय में धरने पर बैठे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के समर्थन में सामने आ गई हैं। ममता बनर्जी ने ट्वीट किया- 'दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल देश की राष्ट्रीय राजधानी में पिछले कुछ दिनों से उप राज्यपाल के कार्यालय में बैठे हैं। निर्वाचित मुख्यमंत्री को अवश्य ही उचित सम्मान मिलना चाहिए।'    केजरीवाल ने पीएम मोदी को भी लिखी चिट्ठी  धरने के बीच अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है और दिल्‍ली की समस्‍याओं से अवगत कराया है। उन्‍होंने कहा है कि वह इस मामले में हस्‍ताक्षेप करें और इसे सुलझाए। अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी में कहा- '3 महीने से दिल्ली के आइएएस अधिकारी हड़ताल पर हैं और मंत्रियों की बैठकों में आइएएस अधिकारी आते नहीं हैं। इससे दिल्‍ली की जनता के कई काम प्रभावित हो रहे। देश के इतिहास में पहली बार IAS हड़ताल पर हैं।

धरने से छुटकारा पाने की कड़ी में शुक्रवार को फिर अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी को खत लिखकर उनसे दिल्ली के अधिकारियों की तथाकथित हड़ताल खत्म करवाने की गुजारिश की है।  खत में बड़ी चतुराई से अरविंद केजरीवाल ने धरना खत्म करवाने के लिए नीति आयोग की मीटिक का हवाला दिया है। कहने का मतलब जैसे ही अधिकारियों की तथाकथित हड़ताल खत्म होगी, केजरीवाल अपना धरना भी खत्म कर देंगे।

आपने 17 जून को नीति आयोग की मीटिंग बुलाई है। इसके लिए दिल्ली का मुख्यमंत्री होने के नाते मुझे भी निमंत्रण आया है। दिल्ली में पिछले तीन महीनों से आइएएस अफसरों की हड़ताल चल रही है, जिसकी वजह से कई काम रुक गए हैं।

खत के अंत में लिखा है ‘…दिल्ली के लोगों की तरफ से आपसे मेरा फिर से निवेदन है कि इस हड़ताल को खत्म करवाएं। इस वक्त दिल्ली के लोगों के लिए यह सबसे अहम मुद्दा है।….मैं उम्मीद करता हूं कि 17 जून के पहले आप हड़ताल खत्म करवा देंगे। ताकि मैं नीति आयोग की बैठक में शामिल हो सकूं।

भवदीय
अरविंद केजरीवाल

केजरीवाल के धरने का आज 5वां दिन, ममता का मिला समर्थन पर ट्वीट में किया ‘दूसरा’ इशारा
उप राज्यपाल निवास पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया, मंत्री गोपाल राय और सत्येंद्र जैन के धरने का शुक्रवार को पांचवां दिन है। इनमें से दो मंत्री मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन अनिश्चितकालीन अनशन पर हैं। हालांकि, अनशन करने को लेकर सवालों में घिरे आम आदमी पार्टी (AAP) मुखिया अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार सुबह किए ट्वीट में इस तरह के संदेश दिए हैं कि जल्द ही अनशन खत्म हो सकता है। आप इनकी हड़ताल को खत्म क्यों नहीं करवाते। इस तरह आइएएस अफसरों की हड़ताल करवाके दिल्ली के लोगों को परेशान करना तो ठीक नहीं है।

शुक्रवार को सुबह अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट में लिखा- ‘सुप्रभात, आज सत्येंद्र जी के अनशन का चौथा दिन है। मनीष जी के अनशन का तीसरा दिन है। कल LG साहिब से मिलने का समय मांगा था। उन्होंने जवाब भी नहीं दिया। प्रधानमंत्री जी से हस्तक्षेप करने का आग्रह किया। उन्होंने भी कोई जवाब नहीं दिया। उम्मीद करता हूं कि दिल्ली को जल्द समाधान मिलेगा।’

वहीं, अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने भी कुछ इसी अंदाज में ट्वीट किया है-‘सुप्रभात साथियों, LG ऑफ़िस में इंतज़ार करते 4 रातें बीत गईं। मगर LG साहेब 4 मिनट का समय नहीं निकाल पाए, उम्मीद हैं माननीय प्रधानमंत्रीजी ध्यान देंगे।’ 

शुक्रवार दोपहर उस समय हंगामा मच गया जब एलजी हाउस में एंबुलेस आई। अनिश्चितकानी धरने पर बैठे मनीष सिसोदिया ने एंबुलेश के एलजी हाउस में प्रवेश करने पर अनशन तुड़वाने की आशंका जताई।

उन्होंने कहा कि हमें एनीमा देने के लिए डॉक्टर्स को अंदर आने दिया जा रहा है। हमारा अनशन जबरदस्ती तुड़वाने की कोशिश हो रही है। उन्होंने कहा कि चेतावनी देना चाहता हूं कि अगर ऐसा हुआ तो हम पानी भी त्याग देंगे।

इससे पहले सुबह सत्येंद्र जैन के बाद केजरीवाल ने उपराज्यपाल पर निशाना साधते हुए एक और ट्वीट किया- ‘हमारी बसों में CCTV कैमरों का इंतज़ाम हम दिल्ली वाले ख़ुद कर लेंगे। अपनी महिलाओं के लिए हम पैसे की कमी नहीं होने देंगे। आपके पास आए थे क्योंकि आपके पास जो पैसा है, वो भी इस देश की महिलाओं का ही है। बस आपसे एक ही विनती है – अपने LG साहिब को बोल देना कि अब इसमें अड़ंगा ना लगाएं।’

केजरीवाल को मिला ममता का समर्थन

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के आंदोलन को अपना समर्थन दिया है। एक ट्वीट के जरिये ममता बनर्जी अपनी मांगों के पक्ष में दबाव बनाने के लिए दिल्ली के उप राज्यपाल के कार्यालय में धरने पर बैठे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के समर्थन में सामने आ गई हैं। ममता बनर्जी ने ट्वीट किया- ‘दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल देश की राष्ट्रीय राजधानी में पिछले कुछ दिनों से उप राज्यपाल के कार्यालय में बैठे हैं। निर्वाचित मुख्यमंत्री को अवश्य ही उचित सम्मान मिलना चाहिए।’

केजरीवाल ने पीएम मोदी को भी लिखी चिट्ठी

धरने के बीच अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है और दिल्‍ली की समस्‍याओं से अवगत कराया है। उन्‍होंने कहा है कि वह इस मामले में हस्‍ताक्षेप करें और इसे सुलझाए। अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी को लिखी चिट्ठी में कहा- ‘3 महीने से दिल्ली के आइएएस अधिकारी हड़ताल पर हैं और मंत्रियों की बैठकों में आइएएस अधिकारी आते नहीं हैं। इससे दिल्‍ली की जनता के कई काम प्रभावित हो रहे। देश के इतिहास में पहली बार IAS हड़ताल पर हैं।

इस हड़ताल को खत्म कराने के लिए पिछले तीन दिनों से मैं और मेरे तीन मंत्री एलजी निवास पर एलजी साहब से मिलकर इस हड़ताल को खत्म करवाने के लिए बैठे हैं, पर आपके एलजी साहिब इस पर कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। …चूंकि दिल्ली के आइएएस अफसर सीधे आपके नियंत्रण में आते हैं, कल मैंने आपको पत्र लिखकर निवेदन किया था कि आप इस हड़ताल को खत्म करवाए। आपके यहां से भी कोई जवाब नहीं आया।

 

You May Also Like

English News