क्यों होता है बच्चों का मुंडन संस्कार, जानें…

इंटरनेट डेस्क। यूं तो हमारे हिंदू धर्म में कहीं तरह की प्रथा के बारे में बताया गया हैं और हर इंसान हिंदू धर्म के अनुसार उस धर्म को अपनाता भी है। वहीं हमारे हिंदू धर्म में जन्म से लेकर मृत्यु तक के सोलह संस्कार अनिवार्य माने गए हैं। सोलह संस्कारों में से ही एक हैं मुंडन। बच्चों का मुंडन, किसी रिश्तेदार की मृत्यु के समय मुंडन। आखिर मुंडन कराने से क्या लाभ होता है। क्यों इन्हें संस्कारों में शामिल किया गया है। वास्तव में मुंडन संस्कार सीधे हमारे स्वास्थ्य से जुड़ा है।

ट्रंप की किया नए इमिग्रेशन पॉलिसी का ऐलान, होगा भारतीय IT प्रोफेशनल्स को ये बड़ा फायदा…

क्यों होता है बच्चों का मुंडन संस्कार, जानें...

इसके लिए इस परंपरा के पीछे छिपे विज्ञान को समझना होगा। जन्म के बाद बच्चे का मुंडन किया जाता हैं, इसके पीछे मुख्य कारण है जब बच्च मां के गर्भ में होता हैं तो उसके सिर के बालों में बहुत से कीटाणु, बैक्टिरिया और जीवाणु लगे होते हैं जो साधारण तरह से धोने से नहीं निकल सकते।

O..M..G…!! प्लेन में छुपके सेक्स करते पकड़ी गई ये मशहूर एक्ट्रेस…विडियो

इसके लिए एक बार बच्चे का मुंडन जरूरी होता है। इसलिए जन्म के एक साल के भीतर बच्चे का मुंडन कराया जाता है।
वहीं जब मृत्यु के समय मुंडन का भी होता है। जब पार्थिव देह को जलाया जाता ंहै तो उसमें से भी कुछ ऐसे ही जीवाणु हमारे शरीर पर चिपक जाते हैं। नदी में स्नान और धूप में बैठने का भी इसीलिए महत्व है। सिर में चिपके इन जीवाणुओं को पूरी तरह निकालने के लिए ही मुंडन कराया जाता है।

You May Also Like

English News