महिलाओं की मांग के आगे झुका मुस्लिम लॉ बोर्ड, खत्म हुआ तीन तलाक कानून

नई दिल्ली। ऑल इंडिया मुस्लिम लॉ बोर्ड (एआईएमपीएलबी) के वाइस-प्रेसीडेंट डॉक्टर सईद सादिक ने कहा है कि वो 18 महीनों में तीन तलाक खत्म कर देंगे। साथ ही उन्होंने ये भी कहा है कि तीन तलाक को लेकर सरकार के हस्तक्षेप की कोई जरूरत नहीं है।खान ने बताया कि उसे शरियत और तीन तलाक के समर्थन में मुस्लिम महिलाओं के करीब 3।50 करोड़ फॉर्म्स मिले हैं। जिसके बाद ही अब बोर्ड द्वारा ये बयान जारी किया गया है। एआईएमपीएलबी की वुमेन विंग की चीफ ऑर्गनाइजर असमा जोहरा ने कहा था कि हमें शरियत और तीन तलाक का समर्थन करने वाली मुस्लिम महिलाओं के 3।50 करोड़ फॉर्म्स मिले, जबकि देश भर में इसका विरोध करने वाली मुस्लिम महिलाओं की संख्या काफी कम है

साथ ही उन्होंने ये भी कहा था कि एक साथ तीन बार तलाक बोलना सामाजिक मुददा है, धार्मिक नहीं। पिछले ढाई साल से बेवजह तलाक के मुद्दे पर उंगली उठाई जा रही है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि तीन तलाक, निकाह हलाला और बहुविवाह की परंपराएं मुसलमानों के लिए अहम हैं। इन मसलों से उनकी भावनाएं जुड़ी हैं। कोर्ट ने फैसला किया था कि वो 11 मई से इन परंपराओं को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई करेगा।

You May Also Like

English News