गठबंधन पर पीएम मोदी का हमला, कहा-डर के मारे कांग्रेस की गोद में बैठ गई सपा

मऊ: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज सपा और बसपा पर उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में खण्डित जनादेश लाने का ‘खेल’ खेलने का आरोप लगाते हुए कहा कि ये दोनों दल एेसी स्थिति बनाने की फिराक में हैं जिससे किसी को बहुमत ना मिले। मोदी ने यहां आयोजित चुनावी रैली में कहा कि प्रदेश विधानसभा चुनाव के पहले तीन चरणों में अपनी हार पक्की होती देख सपा और बसपा ने नया खेल शुरू किया है। हम हारें तो भले हारेें, हमारी सीटें कम हों तो हो जाएं लेकिन किसी को बहुमत नहीं मिलना चाहिये। डूबते जहाज में सवार हुई सपा
इस दौरान प्रधानमंत्री ने सपा-कांग्रेस गठबंधन पर जोरदार हमला बोला। प्रधानमंत्री ने कहा कि समाजवादी पार्टी को लगा कि अब प्रदेश में उनकी सरकार नहीं बनने वाली है तो डर के मारे कांग्रेस के डूबते जहाज में सवार हो गए। 

उत्तर प्रदेश के भविष्य से खिलवाड़ कर रहीं सपा-बसपा
उन्होंने कहा ‘‘मैं सपा और बसपा से कहना चाहता हूं कि आप भाजपा को हराने के लिये चाहे जो करें, मुझे कुछ दिक्कत नहीं, लेकिन उत्तर प्रदेश के भविष्य के साथ खिलवाड़ मत करिए। आप सोचते हैं कि त्रिशंकु विधानसभा बनेगी तो आप लोगों को सौदेबाजी करने का मौका मिलेगा। यूपी की जनता ने लोकसभा चुनाव में बता दिया है। यही यूपी इस चुनाव में भी भारी बहुमत से भाजपा को विजयी बनाएगा।’’ 

सबने माना बनेगी भाजपा की सरकार 
प्रधानमंत्री ने दावा किया कि पश्चिम से पूरब तक, सब लोगों ने मान लिया है कि अब उत्तर प्रदेश में भाजपा और उनके साथी दलों की सरकार बन जाएगी। उन्होंने कहा कि भाजपा को प्रदेश में अकेले ही पूर्ण बहुमत मिलेगा, मगर इसके बावजूद सभी सहयोगी छोटे दल भी सरकार का हिस्सा होंगे। 

सपा-कांग्रेस गठबंधन पर भी बोला हमला 
मोदी ने सपा-कांग्रेस गठबंधन पर भी हमला किया और कहा कि शुरू में अखबारों में फोटो छपने लगी तो हौसला बुलंद हो गया कि जोड़ी जम गयी। एेसे नशे में आ गये कि सोचा कैमरा को मूर्ख बना लिया वैसे ही जनता को भी बना लेंगे, लेकिन जनता दूध का दूध और पानी का पानी करना जानती है। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उसकी स्टार प्रचारक प्रियंका गांधी और सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव की तरफ इशारा करते हुए कहा कि जैसे-जैसे चुनाव आगे बढ़ा, कुछ लोगों ने खुद को प्रचार से अलग कर लिया। 

सपा, बसपा, कांग्रेस ने पूर्वांचल को बनाया पिछड़ा
प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत माता को स्वस्थ बनाने के लिये पश्चिमी प्रदेशों के साथ-साथ उत्तर प्रदेश समेत पूरब के राज्यों का भी विकास होना चाहिए। मैं पहले दिन से इस बात को लेकर चला हूं कि हमारे पूर्वी उत्तर प्रदेश का विकास और राज्यों की बराबरी में आ जाना चाहिये, तभी यूपी का विकास होगा और तभी भारत का विकास होगा। मोदी ने कहा कि सपा, बसपा और कांग्रेस ने तमाम संसाधनों से संपन्न पूर्वांचल को पिछड़ा बनाए रखा। इसके लिये चुनाव में इन्हें सजा देने की जरूरत है।

एच. एन. पटेल समिति की रिपोर्ट नहीं की गई लागू
 उन्होंने 11 जून 1962 को संसद में गाजीपुर के तत्कालीन सांसद विश्वनाथ गहमरी द्वारा पूर्वांचल की दुर्दशा बताते भाषण का जिक्र करते हुए कहा कि हालात सुधारने के उपायों को लेकर गठित की गयी एच. एन. पटेल समिति की रिपोर्ट को 50 साल तक डिब्बे में रखा गया। अब उनकी सरकार ने उस रिपोर्ट पर कार्रवाई शुरू की है। प्रधानमंत्री ने प्रदेश की अखिलेश यादव सरकार पर केन्द्र की फसल बीमा योजना लागू ना करने और केन्द्र के सहयोग के बावजूद किसानों से उनकी उपज नहीं खरीदने का आरोप भी लगाया।

जनता को मूर्ख बनाने में लगे हैं मुख्यमंत्री अखिलेश 
बिजली के मुद्दे पर पहले भी मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर भेदभाव का आरोप लगा चुके मोदी ने कहा, ‘‘आपके मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि आपको बिजली मिलती है। आप लोग नसीब वाले हैं कि आपके यहां मतदान देर से रहा है, इसीलिये वह आपको बिजली दे रहे हैं, लेकिन जहां मतदान हो गया है वहां बिजली कट कर दी है। यह धोखा और चालाकी है या नहीं। उनमें इतनी गर्मी और अहंकार है कि जनता को मूर्ख बनाने में लगे हो। झूठ फैला रहे हो।’’ मोदी ने दावा कि कि केन्द्र सरकार सस्ती दरों पर बिजली देने को तैयार थी, तो भी प्रदेश सरकार नहीं लेती थी। उन्होंने कहा कि हमने बिजली देने के लिये 18 हजार करोड़ रुपया प्रदेश सरकार को दिया, मगर राज्य सरकार अब भी आधे के करीब धन खर्च नहीं कर पायी। एेसी सरकार को एक भी दिन सत्ता में रहने का हक नहीं है।

loading...

You May Also Like

English News