गर्भवती महिला का 22 दिन इलाज के बाद हुई मौत, अस्पताल ने थमाया 18 लाख का बिल

प्राइवेट अस्पतालों द्वारा की जा रही इलाज में लापरवाही और फिर बड़े बिल देने के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। ताजा मामला फरीदाबाद के एशियन अस्पताल का है। एक परिवार ने फरीदाबाद के एशियन अस्पताल पर आरोप लगाया है कि उनके परिवार की एक गर्भवती महिला को बुखार था तो वो उसे ए‌शियन अस्पताल ले गए। जहां 22 दिन उसका ‌इलाज चला और फिर उसकी मौत हो गई।

इसके बाद अस्पताल ने 22 दिन के इलाज के लिए परिवार को 18 लाख का भारी भरकम बिल थमा दिया। अब परिवार का अस्पताल पर आरोप है कि गर्भवती महिला को मामूली बुखार था लेकिन अस्पताल ने उसे आईसीयू में शिफ्ट कर दिया।

ऐसे हुई मां-बच्चे दोनों की मौत

मृतक महिला के एक परिजन का आरोप है कि डॉक्टरों ने उसे टाइफाइड बताकर आईसीयू में भर्ती कर दिया। बाद में डॉक्टरों ने बताया कि महिला की आंत में छेद है जिसकी सर्जरी करनी होगी।

आरोप है कि डॉक्टरों ने परिजनों से कहा कि ऑपरेशन के लिए 3 लाख रुपए जमा कर दें और कहा कि एक बार जब पूरी रकम जमा हो जाएगी तो ऑपरेशन हो जाएगा। हम अब तक 10 से 12 लाख जमा कर चुके हैं। वो हमसे 18 लाख रुपए मांग रहे हैं

वहीं इस पूरे मामले् पर सफाई देते हुए एशियन अस्पताल के क्वालिटी एंड सेफ्टी चेयरमैन डॉक्टर रमेश चांदना ने कहा कि, महिला 32 हफ्ते की गर्भवती थी और उसे 8 से 10 दिन से बुखार था। पहले हमें लगा कि उसे टाइफाइड है और आईसीयू में उसका इलाज शुरू कर दिया। उसका बच्चा बच नहीं सका। हमें पता चला कि उसकी आंत में छेद है। हमने सर्जरी की लेकिन उसे बचा नहीं सके।

 
loading...

You May Also Like

English News