गर्भाशय की रसौली का ऐसे करें उपचार

गलत खानपान और बिजी लाइफस्टाइल के कारण आजकल ज्यादातर महिलाएं किसी न किसी सेहत संबंधी समस्या का शिकार होते हैं. इन्हीं समस्याओं में से एक समस्या है रसौली….. रसौली ऐसी गांठे होती है जो महिला के यूट्रस के आसपास उभरते हैं. इन मांस पेशियों का निर्माण फाइबर उत्तकों से होता है और इनका आकार कुछ भी हो सकता है. कभी-कभी रसौली के कारण बांझपन होने का खतरा भी बढ़ जाता है. आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे बताने जा रहे हैं जिनके इस्तेमाल से आप रसौली की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं. 4- लहसुन में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं. जो ट्यूमर और रसौली के विकास को रोकते हैं. लहसुन का सेवन करने से गर्भाशय में रसौली की4- लहसुन में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं. जो ट्यूमर और रसौली के विकास को रोकते हैं. लहसुन का सेवन करने से गर्भाशय में रसौली की समस्या नहीं होती है. समस्या नहीं होती है.

1- नियमित रूप से ग्रीन टी का सेवन करने से गर्भाशय की रसौली को दूर किया जा सकता है. ग्रीन टी में भरपूर मात्रा में एपीगैलोकैटेचिन गैलेट  नामक तत्व मौजूद होते हैं. जो रसौली की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकते हैं. दिन में दो से तीन कप ग्रीन टी का सेवन करने से रसौली की समस्या ठीक हो जाती है. 

2- हल्दी में भरपूर मात्रा में एंटीबायोटिक गुण मौजूद होते हैं. इसका सेवन करने से शरीर से विषैले तत्व बाहर निकल जाते हैं. हल्दी  गर्भाशय की रसौली की ग्रोथ को रोककर कैंसर के खतरे को कम करती है. 

3- रोज सुबह खाली पेट में एक चम्मच आंवला पाउडर और शहद मिलाकर खाने से रसौली की समस्या ठीक हो जाती है. 

4- लहसुन में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं. जो ट्यूमर और रसौली के विकास को रोकते हैं. लहसुन का सेवन करने से गर्भाशय में रसौली की समस्या नहीं होती है.

 

You May Also Like

English News