गुजरात में हनीट्रेप का मायाजाल, सूरत में 66 नामी हस्तियां बनी शिकार

गुजरात में धनी व नामचीन लोगों को हनीट्रेप का शिकार बनाकर करोडों रुपयों की ब्लैकमेलिंग का गोरख धंधा चल रहा है, भाजपा नेता पर दुष्कर्म के आरोपों की जांच कर रही सूरत पुलिस ने करीब 66 लोगों की पहचान की है जो हनीट्रेप के शिकार होकर करोड़ों रुपए गंवा चुके हैं। भाजपा के पूर्व विधायक जयंती भानुशाली ने इसी आधार पर हाईकोर्ट के समक्ष अर्जी कर अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर रद्द करने की मांग की है।गुजरात में धनी व नामचीन लोगों को हनीट्रेप का शिकार बनाकर करोडों रुपयों की ब्लैकमेलिंग का गोरख धंधा चल रहा है, भाजपा नेता पर दुष्कर्म के आरोपों की जांच कर रही सूरत पुलिस ने करीब 66 लोगों की पहचान की है जो हनीट्रेप के शिकार होकर करोड़ों रुपए गंवा चुके हैं। भाजपा के पूर्व विधायक जयंती भानुशाली ने इसी आधार पर हाईकोर्ट के समक्ष अर्जी कर अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर रद्द करने की मांग की है।  गुजरात पुलिस के समक्ष बीते कुछ वर्ष में नेता, उद्योगपति, बिल्डर, डॉक्टर व अन्य धनी व नामचीन लोगों को हनीट्रेप याने प्रेमजाल में फंसाकर उनका अश्लील वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने के कई मामले सामने आए हैं। भाजपा के पूर्व उपाध्यक्ष व पूर्व विधायक जयंती भानुशाली व उनके पुत्र से जुडे़ दो मामलों में भी ऐसी ही जानकारी सामने आ रही है। अहमदाबाद व सूरत की दो युवतियों ने भानुशाली के खिलाफ दुष्कर्म की शिकायत की थी।  अहमदाबाद की मनीषा गौस्वामी हनीट्रेप व ब्लैकमेलिंग के आरोप में अहमदाबाद की साबरमती जेल में बंद है। दोनों ही मामले गुजरात उच्च न्यायालय में लंबित हैं। न्यायाधीश पी पी भट्ट की अदालत में भानुशाली ने खुद को हनीट्रेप का शिकार बताते हुए अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर रद्द करने की मांग की है।   गुजरात में सरकार के लिए परेशानी का सबब बने गोलगप्‍पे जानिए क्‍या है कारण यह भी पढ़ें  सूरत की युवती ने भानुशाली पर कॉलेज में प्रवेश दिलाने के बहाने दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है, अभी इस मामले की तहकीकात बाकी है लेकिन न्यायालय ने कहा कि अग्रिम जमानत से पहले ही एफआईआर रद्द कराने की अर्जी क्यों दी गई है।  उधर सूरत पुलिस ने बताया कि अकेले सूरत में करीब 66 लोग हनीट्रेप के शिकार होकर करोड़ों रुपए की ब्लैकमेलिंग में फंस गए हैं, राज्य के अन्य शहरों में भी ऐसे नेटवर्क होने की पूरी आशंका है। पुलिस का मानना है कि सोशल मीडिया व किसी मदद के बहाने लड़कियां व महिलाएं धनी व नामचीन लोगों के संपर्क में आती है, धीरे धीरे करीबी बढ़ाकर बाद में उसके साथ बिताए अंतरंग पलों की अश्लील क्लिप बनाकर ब्लैकमेल करती हैं।

गुजरात पुलिस के समक्ष बीते कुछ वर्ष में नेता, उद्योगपति, बिल्डर, डॉक्टर व अन्य धनी व नामचीन लोगों को हनीट्रेप याने प्रेमजाल में फंसाकर उनका अश्लील वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करने के कई मामले सामने आए हैं। भाजपा के पूर्व उपाध्यक्ष व पूर्व विधायक जयंती भानुशाली व उनके पुत्र से जुडे़ दो मामलों में भी ऐसी ही जानकारी सामने आ रही है। अहमदाबाद व सूरत की दो युवतियों ने भानुशाली के खिलाफ दुष्कर्म की शिकायत की थी।

अहमदाबाद की मनीषा गौस्वामी हनीट्रेप व ब्लैकमेलिंग के आरोप में अहमदाबाद की साबरमती जेल में बंद है। दोनों ही मामले गुजरात उच्च न्यायालय में लंबित हैं। न्यायाधीश पी पी भट्ट की अदालत में भानुशाली ने खुद को हनीट्रेप का शिकार बताते हुए अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर रद्द करने की मांग की है।

सूरत की युवती ने भानुशाली पर कॉलेज में प्रवेश दिलाने के बहाने दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है, अभी इस मामले की तहकीकात बाकी है लेकिन न्यायालय ने कहा कि अग्रिम जमानत से पहले ही एफआईआर रद्द कराने की अर्जी क्यों दी गई है।

उधर सूरत पुलिस ने बताया कि अकेले सूरत में करीब 66 लोग हनीट्रेप के शिकार होकर करोड़ों रुपए की ब्लैकमेलिंग में फंस गए हैं, राज्य के अन्य शहरों में भी ऐसे नेटवर्क होने की पूरी आशंका है। पुलिस का मानना है कि सोशल मीडिया व किसी मदद के बहाने लड़कियां व महिलाएं धनी व नामचीन लोगों के संपर्क में आती है, धीरे धीरे करीबी बढ़ाकर बाद में उसके साथ बिताए अंतरंग पलों की अश्लील क्लिप बनाकर ब्लैकमेल करती हैं।

You May Also Like

English News