गृहमंत्री के एक हेलीकाप्टर के चलते कई गाँव अँधेरे में

देश में भारतीय जनता पार्टी के मंत्रियों और नेताओं की तानाशाही इस कदर बढ़ चुकी है कि जो नेता गरीबों और आम जनता की सेवा के लिए काम करने का दावा करते रहे है वहीं अब आम आदमी को परेशान करने से बाज नहीं आ रहे है. मध्यप्रदेश के सतना जिले में गृहमंत्री राजनाथ सिंह के हेलीकाप्टर के कारण प्रशासन ने करीब 12 से ज्यादा गाँवों को 26 घंटे बिजली से दूर कर अँधेरे में रखा. देश में भारतीय जनता पार्टी के मंत्रियों और नेताओं की तानाशाही इस कदर बढ़ चुकी है कि जो नेता गरीबों और आम जनता की सेवा के लिए काम करने का दावा करते रहे है वहीं अब आम आदमी को परेशान करने से बाज नहीं आ रहे है. मध्यप्रदेश के सतना जिले में गृहमंत्री राजनाथ सिंह के हेलीकाप्टर के कारण प्रशासन ने करीब 12 से ज्यादा गाँवों को 26 घंटे बिजली से दूर कर अँधेरे में रखा.     मिल रही जानकारी के अनुसार राजनाथ सिंह की सतना में एक रैली थी. जिस क्षेत्र में यह रैली थी वहां से एक फीडर लाइन गुजर रही है, जिसके चलते प्रशासन ने एक दिन पहले ही शहर के अख़बारों में यह जानकारी प्रसारित करवा दी थी जिसके अनुसार  29 मई को शाम 4 बजे से 21 मई 6 बजे तक बिजली की आपूर्ति बंद कर दी जाएगी.   इस खबर के बाद ग्रामीणों और किसानों ने इस बात का विरोध किया लेकिन सत्ता पक्ष में बैठे इन लोगों के कानों में रुई है जिसके कारण उन लोगों की आवाज़ भी इनके कानों तक नहीं पहुँचती जो रोज अपने खेतों में पानी देने अपने पसीने का सौदा करके जाते है, ऐसे में 26 घंटे बिजली जाने से लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा है. कुछ ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर और स्थानीय सांसद गणेश सिंह दोनों के आदेश के खिलाफ एक ज्ञापन भी सौंपा था.देश में भारतीय जनता पार्टी के मंत्रियों और नेताओं की तानाशाही इस कदर बढ़ चुकी है कि जो नेता गरीबों और आम जनता की सेवा के लिए काम करने का दावा करते रहे है वहीं अब आम आदमी को परेशान करने से बाज नहीं आ रहे है. मध्यप्रदेश के सतना जिले में गृहमंत्री राजनाथ सिंह के हेलीकाप्टर के कारण प्रशासन ने करीब 12 से ज्यादा गाँवों को 26 घंटे बिजली से दूर कर अँधेरे में रखा.     मिल रही जानकारी के अनुसार राजनाथ सिंह की सतना में एक रैली थी. जिस क्षेत्र में यह रैली थी वहां से एक फीडर लाइन गुजर रही है, जिसके चलते प्रशासन ने एक दिन पहले ही शहर के अख़बारों में यह जानकारी प्रसारित करवा दी थी जिसके अनुसार  29 मई को शाम 4 बजे से 21 मई 6 बजे तक बिजली की आपूर्ति बंद कर दी जाएगी.   इस खबर के बाद ग्रामीणों और किसानों ने इस बात का विरोध किया लेकिन सत्ता पक्ष में बैठे इन लोगों के कानों में रुई है जिसके कारण उन लोगों की आवाज़ भी इनके कानों तक नहीं पहुँचती जो रोज अपने खेतों में पानी देने अपने पसीने का सौदा करके जाते है, ऐसे में 26 घंटे बिजली जाने से लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा है. कुछ ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर और स्थानीय सांसद गणेश सिंह दोनों के आदेश के खिलाफ एक ज्ञापन भी सौंपा था.

मिल रही जानकारी के अनुसार राजनाथ सिंह की सतना में एक रैली थी. जिस क्षेत्र में यह रैली थी वहां से एक फीडर लाइन गुजर रही है, जिसके चलते प्रशासन ने एक दिन पहले ही शहर के अख़बारों में यह जानकारी प्रसारित करवा दी थी जिसके अनुसार  29 मई को शाम 4 बजे से 21 मई 6 बजे तक बिजली की आपूर्ति बंद कर दी जाएगी. 

इस खबर के बाद ग्रामीणों और किसानों ने इस बात का विरोध किया लेकिन सत्ता पक्ष में बैठे इन लोगों के कानों में रुई है जिसके कारण उन लोगों की आवाज़ भी इनके कानों तक नहीं पहुँचती जो रोज अपने खेतों में पानी देने अपने पसीने का सौदा करके जाते है, ऐसे में 26 घंटे बिजली जाने से लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ा है. कुछ ग्रामीणों ने जिला कलेक्टर और स्थानीय सांसद गणेश सिंह दोनों के आदेश के खिलाफ एक ज्ञापन भी सौंपा था.

You May Also Like

English News