गोल्ड’ के नए गाने में अक्षय और मौनी रॉय का रोमांस

रीमा कागती के निर्दशन में बनी ‘गोल्ड’ के ट्रेलर के बाद अब पहला गाना रिलीज़ कर दिया गया है। इस गाने में अक्षय कुमार और मौनी रॉय के बीच अॉनस्क्रीन रोमांटिक केमेस्ट्री को देखा जा सकता है।रीमा कागती के निर्दशन में बनी 'गोल्ड' के ट्रेलर के बाद अब पहला गाना रिलीज़ कर दिया गया है। इस गाने में अक्षय कुमार और मौनी रॉय के बीच अॉनस्क्रीन रोमांटिक केमेस्ट्री को देखा जा सकता है।  'नैनों से बांधी' को आवाज यासिर देसाई ने दी है और संगीत व लिरिक्स अार्को के हैं। इस फिल्म में अक्षय कुमार के अलावा कुणाल कपूर, विनीत कुमार सिंह, अमित साध और साथ ही बॉलीवुड में डेब्यू करने वाली मौनी रॉय भी हैं। अक्षय पहली बार उनके जीवन में एक बांग्ला किरदार के रूप में नज़र आएंगे और फिल्म के ट्रेलर को देख करके उनका ये व्यक्तित्व स्पष्ट नज़र आता है। यह फिल्म उन 12 वर्षों की कहानी है, जिसमें भारत स्वतंत्रता तो प्राप्त करता ही है।  साथ ही अक्षय कुमार भारतीय हॉकी टीम को एक साथ लाते हैं, जो कि उनका सपना होता है, देश को ओलंपिक में भारत को स्वर्ण पदक दिलाना। फिल्म गोल्ड की कहानी उसी कालखंड 1936 से 1948 के बीच की है। यह सच्ची घटनाओं पर आधारित फिल्म है, जो कि भारत के पहले ओलंपिक पदक जीतने की कहानी है। भारत 1947 में स्वतंत्र हुआ थाl उसके बाद 1948 में ओलंपिक खेल का आयोजन किया गया था, जिसमें भारत में एक स्वतंत्र राष्ट्र के तौर पर हिस्सा लिया था l भारत के लिए यह बड़े गर्व की बात यह थी कि भारत में उनको गुलाम बनाकर रखने वाले अंग्रेजों को उनकी धरती पर ही हराया था l फिल्म का ट्रेलर लांच करते हुए अक्षय कुमार ने लिखा है,’विजेता ब्रिटिश भारत के अंतर्गत थे लेकिन आदर्श स्वतंत्र भारत के अंदर हुए l

‘नैनों से बांधी’ को आवाज यासिर देसाई ने दी है और संगीत व लिरिक्स अार्को के हैं। इस फिल्म में अक्षय कुमार के अलावा कुणाल कपूर, विनीत कुमार सिंह, अमित साध और साथ ही बॉलीवुड में डेब्यू करने वाली मौनी रॉय भी हैं। अक्षय पहली बार उनके जीवन में एक बांग्ला किरदार के रूप में नज़र आएंगे और फिल्म के ट्रेलर को देख करके उनका ये व्यक्तित्व स्पष्ट नज़र आता है। यह फिल्म उन 12 वर्षों की कहानी है, जिसमें भारत स्वतंत्रता तो प्राप्त करता ही है।

साथ ही अक्षय कुमार भारतीय हॉकी टीम को एक साथ लाते हैं, जो कि उनका सपना होता है, देश को ओलंपिक में भारत को स्वर्ण पदक दिलाना। फिल्म गोल्ड की कहानी उसी कालखंड 1936 से 1948 के बीच की है। यह सच्ची घटनाओं पर आधारित फिल्म है, जो कि भारत के पहले ओलंपिक पदक जीतने की कहानी है। भारत 1947 में स्वतंत्र हुआ थाl उसके बाद 1948 में ओलंपिक खेल का आयोजन किया गया था, जिसमें भारत में एक स्वतंत्र राष्ट्र के तौर पर हिस्सा लिया था l भारत के लिए यह बड़े गर्व की बात यह थी कि भारत में उनको गुलाम बनाकर रखने वाले अंग्रेजों को उनकी धरती पर ही हराया था l फिल्म का ट्रेलर लांच करते हुए अक्षय कुमार ने लिखा है,’विजेता ब्रिटिश भारत के अंतर्गत थे लेकिन आदर्श स्वतंत्र भारत के अंदर हुए l

You May Also Like

English News