घर नहीं आएगा बिजली का बिल, सरकार करने जा रही ये बड़ा बदलाव

जल्द ही बिजली का बिल घर आना पुरानी बात हो जाएगी. केंद्र सरकार पूरे बिलिंग सिस्टम में बड़ा बदलाव करने जा रही है. इसके लिए सरकार अगले तीन साल में सभी मीटर को स्मार्ट प्रीपेड में तब्दील करने की तैयारी कर रही है.  जल्द ही बिजली का बिल घर आना पुरानी बात हो जाएगी. केंद्र सरकार पूरे बिलिंग सिस्टम में बड़ा बदलाव करने जा रही है. इसके लिए सरकार अगले तीन साल में सभी मीटर को स्मार्ट प्रीपेड में तब्दील करने की तैयारी कर रही है.    केंद्रीय राज्य मंत्री आरके सिंह ने कहा, ''जल्द ही वो दिन आ जाएंगे, जब आपके घर में बिजली का बिल आना बंद हो जाएगा. अगले तीन साल के दौरान सभी मीटर को स्मार्ट प्रीपेड किया जाएगा. इसके लिए जरूरी है कि स्मार्ट प्रीपेड मीटर का प्रोडक्शन बढ़ाया जाए और इनकी कीमतों में कटौती की जाए.''    आरके सिंह स्मार्ट मीटर मैन्युफैक्चरर्स के एक कार्यक्रम में बोल रहे थे. इसमें उन्होंने कहा कि मैन्युफैक्चरर्स को स्मार्ट मीटर की मैन्युफैक्चरिंग पर जोर देना चाहिए. आने वाले सालों में इनकी मांग काफी ज्यादा बढ़ने वाली है.  केंद्रीय मंत्री ने पावर मिनिस्ट्री के अध‍िकारियों को भी इस दौरान हिदायत दी. उन्होंने कहा कि स्मार्ट प्रीपेड मीटर्स को एक तय तारीख के बाद अनिवार्य कर दिया जाना चाहिए.  स्मार्ट मीटर को इस तरह से बनाया जाता है कि यह मीटर रीडिंग्स बिजली कंपनी को सीधे भेज देता है. इससे गलत रीडिंग लिए जाने की आशंका भी कम हो जाती है. इन मीटर पर एक डिस्प्ले भी लगा होता है, जिससे आप आसान तरीके से समझ पाते हैं कि आपकी बिजली की खपत कितनी है.

केंद्रीय राज्य मंत्री आरके सिंह ने कहा, ”जल्द ही वो दिन आ जाएंगे, जब आपके घर में बिजली का बिल आना बंद हो जाएगा. अगले तीन साल के दौरान सभी मीटर को स्मार्ट प्रीपेड किया जाएगा. इसके लिए जरूरी है कि स्मार्ट प्रीपेड मीटर का प्रोडक्शन बढ़ाया जाए और इनकी कीमतों में कटौती की जाए.”  

आरके सिंह स्मार्ट मीटर मैन्युफैक्चरर्स के एक कार्यक्रम में बोल रहे थे. इसमें उन्होंने कहा कि मैन्युफैक्चरर्स को स्मार्ट मीटर की मैन्युफैक्चरिंग पर जोर देना चाहिए. आने वाले सालों में इनकी मांग काफी ज्यादा बढ़ने वाली है.

केंद्रीय मंत्री ने पावर मिनिस्ट्री के अध‍िकारियों को भी इस दौरान हिदायत दी. उन्होंने कहा कि स्मार्ट प्रीपेड मीटर्स को एक तय तारीख के बाद अनिवार्य कर दिया जाना चाहिए.

स्मार्ट मीटर को इस तरह से बनाया जाता है कि यह मीटर रीडिंग्स बिजली कंपनी को सीधे भेज देता है. इससे गलत रीडिंग लिए जाने की आशंका भी कम हो जाती है. इन मीटर पर एक डिस्प्ले भी लगा होता है, जिससे आप आसान तरीके से समझ पाते हैं कि आपकी बिजली की खपत कितनी है.

You May Also Like

English News