घर में झाड़ू पोछा करते समय इन बातों का अवश्‍य रखें ध्‍यान नहीं तो होगे गरीब

झाड़ू-पोंछा करने से घर साफ और स्वच्छ रहता है। साथ ही, इनसे जुड़ी कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो महालक्ष्मी की कृपा भी प्राप्त की जा सकती है। शास्त्रों के अनुसार झाड़ू को भी महालक्ष्मी का ही एक स्वरूप माना गया है। झाड़ू से दरिद्रता रूपी गंदगी को बाहर किया जाता है। जिन घरों के कोने-कोने में भी सफाई रहती है, वहां का वातावरण सकारात्मक रहता है। घर के कई वास्तु दोष भी दूर होते हैं।आज हम आपको बताते हैं कि झाड़ू और पोंछा करते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए। झाड़ू कहां और कैसे रखें झाड़ू से घर में प्रवेश करने वाली बुरी अथवा नकारात्मक ऊर्जा नष्ट होती है। खुले स्थान पर झाड़ू रखना अपशकुन माना जाता है, इसलिए इसे छिपा कर रखें। रात को झाड़ू नहीं लगाना चाहिए इससे हानि होती है। यदि अपने घर के बाहर हर रोज रात के समय दरवाजे के सामने झाड़ू रखते हैं तो इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश नहीं करती है। ये काम केवल रात के समय ही करना चाहिए। दिन में झाड़ू छिपा कर रखें।

घर में झाड़ू और पोछा बड़ी आम बात है पर क्या आप जानते है झाड़ू और पौछा वास्तु दोष दूर करने में बहुत कारगर साबित होता है यदि उसका सही ढंग से उपयोग किया जाए वास्तु दोष दूर होता है । किसी भी प्रकार की गंदगी और धूल-मिट्टी वास्तु दोषों को बढ़ाती हैं। घर में झाडू लक्ष्मी जी का सूचक है क्योंकि यह दरिद्रता को घर से बाहर निकालता है। इससे घर में सुख- समृद्धि व धन-दौलत आती है। नए घर में प्रवेश करने से पूर्व नया झाडू घर में लाना शुभ होता है और पुराना झाड़ू ले जाना अशुभ होता है।

झाडू के ऊपर पांव नहीं रखना चाहिए इससे लक्ष्मी का निरादर होता है। घर का कोई छोटा बच्चा अचानक घर में झाडू लगाने लगे तो उसे घर में किसी अनचाहे मेहमान के आने का संकेत समझें। सूर्यास्त के उपरांत घर में झाडू नहीं लगाना चाहिए क्योंकि यह व्यक्ति के दुर्भाग्य को निमंत्रण देता है। नाश्ता करने से पूर्व झाड़ू अवश्य लगाएं। उलटा झाडू रखना अपशकुन माना जाता है। झाड़ू को हमेशा लेटाकर रखना चाहिए। झाड़ू को खड़ा करके रखने पर

कलह होता है। अंधेरा होने के बाद घर में झाड़ू लगाने से लक्ष्मी नाराज होती है। घर का कोई सदस्य बाहर जाए तो तुरंत झाड़ू लगाना अशुभ होता है। उस व्यक्ति को असफलता का सामना करना पड़ता है। झाड़ू को घर से बाहर या छत पर नहीं रखें क्योंकि ऐसा करने से घर में चोरी होने का भय होताहै झाड़ू प्रत्यक्ष रूप में न रखें बल्कि अप्रत्यक्ष रूप में छिपा कर रखें। जिससे किसी को नजर न आए। जिस प्रकार धन को छुपाकर रखते हैं उसी प्रकार झाड़ू को भी घर में आने जाने वालों की नज़रों से दूर रखें। वास्तु विज्ञान के अनुसार जो लोग झाड़ू के लिए एक नियत स्थान बनाने की बजाय कहीं भी रख देते हैं, उनके घर में धन का आगमन प्रभावित होता है। इससे आय

और व्यय में असंतुलन बना रहता है। आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। गाय या अन्य किसी भी जानवर को झाड़ू से मार कर घर से न भगाएं इससे महालक्ष्मी आपके घर से रूष्ट होकर चली जाती है। पूजा घर के ईशान कोण यानी उत्तर- पूर्वी कोने मेंझाडू व कूड़ेदान आदि नहीं रखना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से घर में नकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है और घर में बरकत नहीं रहती है।

वास्तु दोष को दूर करे पानी का पौछा

सभी लोगों को घरों में साफ-सफाई के साथ ही पानी का पौंछा भी प्रतिदिन लगाया जाता है.पौंछा लगाते समय पानी की बाल्टी में थोड़ा सा सादा नमक या सेंधा नमक डाल देना चाहिए। इस नमक मिले हुए पानी से ही पौंछा लगाना चाहिए। ऐसा प्रतिदिन करें। घर में पूरे फर्श पर ऐसे ही पानी से पौंछा लगाना चाहिए। वास्तु के अनुसार नमक मिले हुए पानी का पौंछा लगाने से घर में फैली नकारात्मक ऊर्जा निष्क्रीय हो जाती है।

ऊर्जा की बढ़ोतरी होती है। घर-परिवार के सदस्यों पर इसका शुभ प्रभाव पड़ता है। इसके साथ ही धन संबंधी कार्यों में जो रुकावटें आ रही हैं वे भी समाप्त हो जाती हैं। प्रतिदिन नमक मिले हुए पानी से फर्श साफ किया जाएगा तो फर्श भी एकदम साफ रहेगा। किसी भी प्रकार के कीटाणु पनपते नहीं हैं। ठीक से सफाई न हो तो फर्श पर बीमारी फैलाने वाले सुक्ष्म कीटाणु पैदा हो सकते हैं. जो कि नमक मिले हुए पानी से नष्ट हो जाते हैं. इससे घर-परिवार के सदस्यों का स्वास्थ्य खराब होने की संभावनाएं बहुत कम हो जाती हैं।

 

You May Also Like

English News