घाटी में सीजफायर लागू कर केंद्र ने PAK को दिया खूनी इफ्तार का मौका: शिवसेना

भारतीय जनता पार्टी के सहयोगी दल शिवसेना ने शुक्रवार को अपने मुखपत्र ‘सामना’ के संपादकीय में बीजेपी सरकार पर एक बार फिर निशाना साधा है. ‘सामना’ में कश्मीर में लगातार हो रहे आतंकी हमलों और जवान औरंगजेब के अपहरण और हत्या को लेकर बीजेपी पर तंज कसा है. इस संपादकीय को ‘कश्मीर में नंगा नाच’ शीर्षक दिया गया है.घाटी में सीजफायर लागू कर केंद्र ने PAK को दिया खूनी इफ्तार का मौका: शिवसेना

इसमें बीजेपी पर निशाना साधते हुए लिखा गया है कि अब तक अयोध्या में राम मंदिर तो बना नहीं, राम आज भी वनवास में हैं लेकिन देश की सुरक्षा भी अब राम भरोसे ही चल रही है.

रमजान के मौके पर हुए हमलों को लेकर BJP को घेरा

सामना के इस संपादकीय में लिखा गया है कि रमजान के मौके पर जो आतंकी हमले हो रहे हैं उसका पाप सरकार के माथे मढना होगा. केंद्र सरकार ने रमजान के मौके पर सीमा पर सीजफायर की घोषणा की थी. रमजान के माह में सरकार ने एकतरफा सीजफायर लागू करने का फैसला किया था लेकिन पाकिस्तान की तरफ से लगातार हमले जारी रहे. मतलब हम रमजान की पवित्रता का सम्मान करें और पाकिस्तान हमारे खून से रमजान की इफ्तारी करे.

जम्मू- कश्मीर के पुलवामा से जवान औरंगजेब के अपहरण और हत्या और राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या को लेकर भी बीजेपी सरकार को निशाने पर लिया गया है. बुखारी के बारे में कहा गया है कि वो सामना की तरह ही कश्मीर में काम कर रहे थे लेकिन हमारी सरकार ऐसे राष्ट्र भक्त की रक्षा नहीं कर सकी. आतंकी हिंदुस्तान के समर्थन में उठने वाली हर आवाज को शांत करने का काम कर रहे हैं और हम केवल रमजान की पवित्रता का सम्मान कर रहे हैं और सैनिकों के मनोबल को तोड़ रहे हैं, ये मर्दानगी नहीं है.

पीएम से लेकर रक्षामंत्री और गृहमंत्री तक पर साधा निशाना

इसमें कहा गया कि प्रधानमंत्री विदेश दौरों पर रहते हैं और रक्षामंत्री पार्टी के कार्य में लगी रहती हैं और गृहमंत्री है भी और नहीं भी हैं. पीएम के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने दुनियाभर में देश की गर्दन ऊंची की है लेकिन संयुक्त राष्ट्र (यूएन) ने इस गर्दन को तोड़ने का काम किया है. साथ ही कहा गया है कि कश्मीर समस्या के जितने चीथड़े कांग्रेस ने उड़ाए उससे कही ज्यादा मौजूदा केंद्र की सरकार ने उड़ाए हैं.

‘घाटी में रोज खून से लाल हो रही देश की सुरक्षा’

‘सामना’ में लिखा गया कि यह दुखद है कि हम अपने जवानों को आतंकियों के कसाईखाने में कुर्बानी के लिए भेज रहे हैं. पीएम के घर पर (आकाश में उड़ती हुई) एक उड़न तश्तरी दिखाई दी तो सुरक्षा एजेंसी ने पीएम की सुरक्षा को चाकचौबंद कर दिया. पीएम की सुरक्षा के लिए तो यह करना ही पड़ेगा लेकिन देश की सुरक्षा कश्मीर घाटी में रोज खून से लाल हो रही है. सरकार ने एकतरफा युद्धबंदी जारी कर हमारे जवानों को उसे सख्ती से निभाने पर मजबूर किया, जिसका फायदा उठाकर कश्मीर में आतंकियों का नंगा नाच जारी है. इसके साथ ही वहां हिंदुस्तानी प्रेम की हर आवाज को दबाया जा रहा है. ऐसे में आपकी अंतरराष्ट्रीय यात्रा और राजनीति असफल हो जाती है.

बता दें कि राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की दिन दहाड़े हत्या कर दी गई थी, वहीं भारतीय सेना के जवान औरंगजेब का जम्मू- कश्मीर के श्रीनगर से अपहरण कर लिया गया था बाद में पुलवामा के जंगलों से औरंगजेब का गोलियों से छलनी शव बरामद हुआ था.

You May Also Like

English News