चन्द्रग्रहण प्रभाव: सुबह 8:35 बजे बंद हो जाएंगे मंदिरों के कपाट, इन राशियों पर पड़ेगा असर

माघी पूर्णिमा पर बुधवार को साल का पहला चंद्रग्रहण पड़ने जा रहा है। गोमतीनगर निवासी आचार्य  प्रदीप के मुताबिक, बुधवार 31 जनवरी की शाम करीब 5:35 से चंद्रग्रहण स्पर्श शुरू होगा। खग्रास चंद्रग्रहण की कुल अवधि 187 मिनट की रहेगी। चंद्रग्रहण का स्पर्श शाम को 5:35 बजे होगा, मध्य शाम 7 बजे और चंद्रग्रहण का मोक्ष रात 8:42 बजे  होगा। देश के अधिकतर भू-भाग से इस ग्रहण का स्पर्श, मध्य और मोक्ष देखा जा सकेगा।चन्द्रग्रहण प्रभाव: सुबह 8:35 बजे बंद हो जाएंगे मंदिरों के कपाट, इन राशियों पर पड़ेगा असर

सूतक सुबह 8:35 बजे से शुरू होगा, इसीलिए सुबह मंदिरों के कपाट बंद हो जाएंगे। ग्रहण कर्क, सिंह, वृश्चिक, धनु, मीन, मेष राशि कारकों के लिए परेशानी बनेगा, बाकी राशि जातकों के लिए शुभ फलदायक रहेगा। उधर, चंदग्रहण के चलते नगर के कोनेश्वर, मनकामेश्वर मंदिरों समेत सभी शिवालयों में सुबह के समय पूजन थमेगा और मंदिरों के कपाट बंद होंगे। नगर के तमाम शिवालय और मंदिर देर रात तक शुद्धि होने के तक बंद होंगे।

मनकामेश्वर, हनुमान सेतु सब मंदिर सुबह से होने लगेंगे बंद
– नगर के सबसे बड़े शिवालय मनकामेश्वर मंदिर के कपाट सुबह भोर के पूजन आरती के बाद 8:14 बजे से बंद हो जाएंगे। सूतक काल के चलते मंदिर रात 8:42 बजे तक बंद रहेगा। उसके बाद शुद्ध किया जाएगा और रात 9 बजे से खुलेगा। आरती-दर्शन के बाद मंदिर दो घंटे बाद रात 11 बजे से फिर बंद हो जाएगा।

राजेन्द्रनगर स्थित महाकाल मंदिर के कपाट तो लगभग 20 घंटे तक बंद रहेंगे। व्यवस्थापकों के मुताबिक, सूतक काल के चलते मंदिर भोलेनाथ की आरती के बाद सुबह 8:22 बजे बंद हो जाएगा और एक फरवरी की भोर 4:45 बजे पूजन आरती दर्शनों के लिए खुलेगा।- हनुमान सेतु मंदिर भी सूतक काल के चलते सुबह सवा आठ बजे से बंद होना शुरू हो जायेंगे, मंदिर के कपाट दर्शनों के लिये रात करीब पौने नौ बजे तक बंद रहेंगे। स्नान शुद्धि के बाद मंदिर रात 9 बजे फिर से अगले एक-दो घंटे के लिए खुलेंगे।

चंद्रग्रहण के चलते सूतक काल में कोनेश्वर मंदिर, कल्याण गिरि, छोटी-बड़ी काली जी मंदिर, बुद्धेश्वर मंदिर, स्वप्नेशवर मंदिर, अलीगंज नया पुराना हनुमान मंदिर, पंचमुखी हनुमान मंदिर समेत सभी मंदिर सूतक काल के दौरान बंद रहेंगे।

आचार्य शिवेंद्र के अनुसार माघ माह की पूर्णिमा को पड़ रहे इस वर्ष के प्रथम पूर्ण चंद्र ग्रहण का मेष व सिंह राशि सहित अन्य पर भी विपरीत प्रभाव रहेगा, लेकिन ईश्वर की आराधना और कुछ सरल उपायों से नकारात्मक प्रभाव को नियंत्रित कर सकते हैं।
मेष : इस राशि वालों को रोग की आशंका और मानसिक अशांति के कारण कष्ट रहेगा।
वृष : इस राशि वालों के लिए ये ग्रहण अनुकूल फलप्रद है, मान-सम्मान में वृद्धि होगी।
मिथुन : इस राशि वालों के लिए चंदग्रहण शुभ नहीं है, आर्थिक हानि होने की संभावना है।
कर्क : इस राशि वालों को शारीरिक कष्ट, दुर्घटना का योग, अहित की संभावना है।

सिंह : इस राशि वालों को ज्यादा कष्ट होगा, व्यय में वृद्धि, आर्थिक हानि व स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ेगा
कन्या : कन्या राशि वालों के लिए ग्रहण शुभ फलदायक है, धान लाभ, मान-सम्मान में वृद्धि होगी।
तुला : तुला राशि के लिए भी ग्रहण अच्छा फल लाएगा, सुख समृद्धि के साथ धन लाभ होगा।
वृश्चिक: ग्रहण इनके लिए अच्छा नहीं है, अपमान, चिंता, अपयश, दुर्घटना का भी भय होगा।

धनु: रोग, दुर्घटना, मानसिक समस्या, परेशानी और विरोधियों की सक्रियता से जूझना पड़ेगा
मकर : वैवाहिक सुख में कमी, तनाव रहेगा, जीवनसाथी से कष्ट संभव है।
कुंभ : कार्य में सफलता मिलेगी, सुख प्राप्त होगा, शत्रु परास्त होगें, नए मित्र भी बनेंगें।
मीन: मीन राशि के लिए चंद्रग्रहण का प्रभाव मिला-जुला रहेगा। शारीरिक मानसिक चिंता रहेगी तो वहीं धन लाभ भी होगा।

You May Also Like

English News