चन्द्रग्रहण वाली रात इस परिवार पर लगा ऐसा ‘ग्रहण’ की सबकुछ हो गया तबाह, मामला जान रूह काँप उठेगी

कल बुधवार 31 जनवरी 2018 को पुरे 150 वर्ष बाद विशेष चंद्र ग्रहण का योग बना था. जहाँ एक तरफ इस दिन कई लोग चाँद के इस खबसूरत नज़ारे को निहार रहे थे तो वहीँ एक परिवार की खुशियों पर ऐसा ‘ग्रहण’ लगा कि उनके परिवार पर दुःख और मातम के बादल छा गए. दरअसल ये लोग नैनीताल में छुट्टियाँ मना के वापस आ रहे थे कि तभी रास्ते में रामनगर के बैलगढ़ के पास उनकी कार सिचाई विभाग की एक नहर में पलट गई. इस हादसे में एक ही परिवार के चार सदस्यों की मौत हो गई जबकि दो गंभीर रूप से घायल होकर अस्पताल पहुँच गए. आइए विस्तार से जाने क्या हैं पूरा मामला…

हाल ही में बनाया था नया घर

दरअसल तेजप्रकाश अरोरा (50) पुत्र दुलीचंद्र कृषि उत्पादन मंडी समिति में भोला ग्रेन एजेंसी नामक फर्म के मालिक हैं. वे काशीपुर के जाने माने राईस मिलर हैं. हाल ही में उन्होंने स्टेडियम स्थित मानपुर रोड कालोनी में नया मकान बनाया था. 27 फरवरी को इस मकान का गृह प्रवेश भी था. इस कार्यक्रम में अरोड़ा परिवार के कई रिश्तेदार और दोस्त भी शामिल हुए थे. सबने कार्यक्रम में खूब एन्जॉय भी किया. इस कार्यक्रम में तेजप्रकाश अरोरा की बहन किसनू सतरिया और जीजा डॉ. शांतिस्वरूप पुत्र रामजी दोसा भी गुजरात के नोडियार से आए हुए थे. दरअसल उन लोगो को काशीपुर में ही 3 फ़रवरी की एक शादी में भी शामिल होना था इसलिए वे भी इस कार्यक्रम में शामिल होने आ गए थे.

नैनीताल घुमने गए थे परिवार वाले

गृह प्रवेश के कार्यक्रम के बाद तेजप्रकाश अरोड़ा और उनकी पत्नी रश्मि अरोड़ा ने 28 फ़रवरी को रामनगर रोड स्थित एक होटल में शादी की सिल्वर जुबली भी मनाई थी. इस कार्यक्रम को भी बड़ी धूमधाम से मनाया गया. अपनी खुशियों को और सेलिब्रेट करने के लिए ये लोग दो गाड़ियों में परिवार सहित घुमने फिरने बुधवार (चन्द्र ग्रहण वाले दिन) नैनीताल गए. नैनीताल की खुबसूरत वादियों के मजे लेने के बाद ये लोग कार से ही रात में वापस घर के लिए लौट गए. लेकिन रास्ते में  उनकी कार (अर्टिगा, नंबर यूके18ई/7555) अचानक से रामनगर के बैलगढ़ के पास सिचाई विभाग की एक नाहर में पलट गई.

कार हादसे से हुआ पूरा परिवार तहस नहस

चन्द्र ग्रहण की रात हुए इस हादसे में तेजप्रकाश अरोरा, पत्नी रश्मि, बहन किसनू और जीजा शांतिस्वरूप की मौत हो गई. वहीँ बालकृष्ण और उनकी पत्नी चंचल काशीपुर के प्राइवेट अस्पताल में गंभीर रूप से घायल हैं. रिश्तेदारों की मौत की खबर जैसे ही उनके रिश्तेदारों को लगी पूरे परिवार में मातम छा गया. चन्द्र ग्रहण ने इस हस्ते खेलते परिवार की खुशियों पर भी ग्रहण लगा दिया. मौत की खबर सुन अरोड़ा परिवार से मिलने वाले लोग उनके नवनिर्मित घर पर एकत्रित होने लगे. इस हादसे ने पुरे परिवार को हिला के रख दिया हैं. मृत अरोड़ा दंपत्ति के दो बच्चे बेटा सागर (22) और बेटी सागरिका (19) हैं. बेटा सागर बिजनेस संभालता हैं जबकि बेटी सागरिका नोएडा एमएटी में बीबीए की स्टूडेंट हैं. इस हादसे की वजह से पुरे परिवार में शौक की लहर छाई हुई हैं. किसी ने ना सोचा था कि उनकी खुशियों पर इस तरह ग्रहण लग जाएगा.

 

You May Also Like

English News