चीन की ओर से नई चुनौती, भारत बॉर्डर पर अब सिर्फ PLA के जवान होंगे तैनात

चीन लगातार ऐसे फैसले ले रहा है जिससे भारत समेत दुनिया के कई देशों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. चीन ने अपनी बॉर्डर सुरक्षा नीति में बड़ा बदलाव किया है. अब चीन के बॉर्डर इलाकों का पूरा कंट्रोल पीपल्स लिब्रेशन आर्मी (PLA) के पास रहेगा, इससे पहले ये जिम्मेदारी सीमा पुलिस के पास थी.चीन की ओर से नई चुनौती, भारत बॉर्डर पर अब सिर्फ PLA के जवान होंगे तैनात

साफ है कि चीन के इस फैसला का सीधा असर भारत पर पड़ेगा, इससे पहले भी बॉर्डर पर भारत और चीन के सैनिक कई बार आमने-सामने आते रहे हैं. ऐसे में चीन का ये फैसला भारत की चिंताओं को बढ़ा सकता है.

पिछले कई दिनों में चीन ने अपनी नीतियों में बड़े बदलाव किए हैं. चीनी संसद ने हाल में राष्ट्रपति पद के लिए किसी लिमिट को खत्म कर दिया है, जिससे शी जिनपिंग को उम्रभर राष्ट्रपति बने रहने में आसानी होगी.

दरअसल, पीएलए का सीधा नियंत्रण चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के हाथ में रहता है. और पिछले कुछ दिनों में जो भी रिफॉर्म किए हैं वो इसी प्रकार किए गए हैं जिससे सारी ताकत कम्युनिस्ट पार्टी के हाथ में आ जाए. शी जिनपिंग की अगुवाई में अब विदेश नीति, रक्षा नीति, सुरक्षा नीति समेत अहम फैसले कम्युनिस्ट पार्टी ही लेती है. बुधवार को चीन की संसद का आखिरी दिन था, इससे पहले सीमा पुलिस की जगह पीएलए को नियंत्रण देने का आदेश दिया गया. 

हालांकि, इससे पहले भी पीएलए बॉर्डर इलाकों में तैनात रहती थी, लेकिन सीमा पुलिस मुख्य रूप से पोर्ट, बॉर्डर प्वाइंट्स इलाकों में मौजूद रहती थी. इससे पहले सीमा पुलिस सीधे पब्लिक सिक्युरिटी मंत्रालय को रिपोर्ट करता था, लेकिन दिसंबर के बाद से सीमा पुलिस भी पीएलए को रिपोर्ट करने लगी. अब नए रिफॉर्म के तहत पीएलए को बॉर्डर का चार्ज पूरी तरह से मिल जाएगा.

आपको बता दें कि हाल ही में खबर आई थी कि डोकलाम इलाके में चीन फिर से सड़क और अन्य सैन्य जरूरत का बुनियादी ढांचा तैयार कर रहा है. यही नहीं, चीन की सेना पीएलए इस इलाके में एक मोड़दार सड़क बनाकर भारतीय चौकी से बचने की कोशिश कर रही है. सिक्किम-भूटान-तिब्बत के त्रिकोण पर डोकलाम इलाके के पास चीन जो बुनियादी ढांचा बना रहा है, वह भारतीय सुरक्षा प्रतिष्ठानों के लिए चिंता की बात है.

You May Also Like

English News