पाकिस्तान ने भारत को दी चुनौती, कहा- हमसे डरता है भारत, हिम्मत है तो द्विपक्षीय सीरीज खेलकर दिखाए

 

पाकिस्तान ने भारत को हराकर चैम्पियंस ट्राफी क्या जीती, पाक क्रिकेट के मैनेजर भारत के हाथों सालों तक मिली हार की जिल्लत को भूल गये। पाकिस्तान किक्रेट बोर्ड के चेयरमैन शहरयार खान ने चैम्पियंस ट्राफी की जीत के बाद भारत को चुनौती दी है और कहा है कि भारत की क्रिकेट टीम अब पाकिस्तान की टीम से खौफ खाती है।पाकिस्तान ने भारत को दी चुनौती, कहा- हमसे डरता है भारत, हिम्मत है तो द्विपक्षीय सीरीज खेलकर दिखाए

शहरयार खान ने कहा कि चैम्पियंस ट्राफी में पाकिस्तानी की जीत के बाद हम भारत को चैलेंज करते हैं कि वो हमारे साथ द्विपक्षीय सीरीज खेल कर देखें। शहरयार खान के मुताबिक वे हमलोगों के साथ नहीं खेलते हैं क्योंकि वो हमसे डरे हुए है, वे कहते हैं कि हम आपके साथ आईसीसी के मैच में हीं खेलेंगे लेकिन और दूसरे मुकाबलों में हमें टक्कर देने की हिम्मत उनके अंदर नहीं है। पाकिस्तान के क्रिकेट पोर्टल पाकपैशन के मुताबिक शहरयार खान ने ये बयान तब दिया जब पाकिस्तान के पीएम नवाज शरीफ एक कार्यक्रम में चैम्पियंस ट्राफी की विजेता पाकिस्तानी टीम को सम्मानित कर रहे थे।

 

ICC 

 

@ICC

Congratulations to @iamamirofficial, claiming the wicket of @imVkohli in the  final has been voted the @Nissan Play of the Tournament!

 

 

बता दें कि लंदन में 18 जून को खेले गये चैम्पियंस ट्राफी के फाइनल में पाकिस्तान ने भारत को 180 रनों से शिकस्त दी थी। इसके बाद क्रिकेट का जुनूनी पाकिस्तान जश्न में डूब गया था। भारत ने 2007 के बाद पाकिस्तान के साथ कोई भी द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेली है। साल 2007 में पाकिस्तान की टीम भारत आई थी। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड का कहना है कि टीम इंडिया पर पाकिस्तान का दो दौरा उधार है। पाकिस्तान का कहना है कि इस वजह से पीसीबी को हर साल करोड़ों डॉलर की हानि हो रही है। अंग्रेजी वेबसाइट एनडीटीवी के मुताबिक पाक क्रिकेट बोर्ड ने पाकिस्तान का दौरा ना करने के लिए बीसीसीआई को कानूनी नोटिस भेजा है और लगभग 387 करोड़ रुपये का हर्जाना मांगा है। पीसीबी का कहना है कि भारत और पाकिस्तान की क्रिकेट टीमों के बीच 2015-2023 के बीच 5 द्विपक्षीय सीरीज कराने का करार हुआ था लेकिन भारत ने इसका पालन नहीं किया।

बता दें कि आतंकी गतिविधियों में पाकिस्तान और पाकिस्तान समर्थित ताकतों की भागीदारी की वजह से बीसीसीआई ने पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय क्रिकेट ना खेलने का फैसला किया है। बीसीसीआई का ये फैसला भारत सरकार की नीति के मुताबिक है। भारत ही नहीं पाकिस्तान में रोज रोज होते आतंकी धमाकों की वजह से वहां कोई बहुत कम ही अंतर्राष्ट्रीय टीमें क्रिकेट खेलने जाती है। इस वजह से पीसीबी का आय का जरिया खत्म हो गया है।

 

You May Also Like

English News