छत्तीसगढ़ और झारखंड में अब घरों में मिलेंगी बैंक की सेवाएं

‘बैंक आपके द्वार’ का नारा सोमवार को चरितार्थ हो गया। सोमवार को छत्तीसगढ़ के रायपुर व झारखंड के रांची से इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की शुरुआत हो गई। ये बैंक पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर आरंभ किए गए हैं। इस साल सितंबर तक देश के 650 जिला मुख्यालयों में पोस्ट पेमेंट्स बैंक की शाखाएं खोल दी जाएंगी। इसके बाद यह देश का सबसे बड़ा बैंक हो जाएगा।
छत्तीसगढ़ और झारखंड में अब घरों में मिलेंगी बैंक की सेवाएं
इंडिया पोस्ट के पास 1.55 लाख शाखाएं हैं और ये सभी शाखाएं पोस्ट पेमेंट्स बैंक से जुड़ जाएंगी। इन शाखाओं में काम करने वाले डाकिए घर-घर जाकर मोबाइल मशीन के जरिए बैंकिंग सेवाएं देंगे। वर्ष 2015 के बजट में इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की घोषणा की गई थी। एयरटेल, पेटीएम के बाद इंडिया पोस्ट तीसरा पेमेंट बैंक है।

इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की शुरुआत करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि इस बैंक के आरंभ होने से वित्तीय समावेश पर बहुत बड़ा फर्क पड़ेगा। उन्होंने कहा कि पेमेंट बैंक की कोई भौगोलिक सीमा नहीं होती है और ये बैंक अपने स्टोर व शाखाओं के जरिए वित्तीय समावेश का काम करेंगे। जेटली ने कहा कि आने वाले समय में पोस्ट पेमेंट्स बैंक छोटी जमा राशि के मामले में बड़े बैंक को चुनौती देंगे।

भंसाली के साथ मारपीट पर बोले लालू, ‘बिहार में ये होता तो मीडिया रायता फैला देता’

जेटली के साथ मौजूद संचार मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि डिजिटल भुगतान की जरूरत में इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की सक्रिय भागीदारी होगी। उन्होंने कहा कि पोस्ट पेमेंट बैंक का लक्ष्य केवल व्यवसाय करना नहीं है, हमारा उद्देश्य लोगों की सेवा करना भी है। उन्होंने कहा कि इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक अत्याधुनिक इंटरनेट व मोबाइल बैंकिंग प्लेटफॉर्म व डिजिटल वॉलेट से युक्त होगा।

PICS: हिमस्खलन में शहीद हुए सेना के जांबाजों को नम आंखों से दी गई विदाई

यहां खाता खोलने वाले इंटरनेट बैंकिंग भी कर सकेंगे। इस मौके पर डाक विभाग के सचिव बीवी सुधाकर ने बताया कि पोस्ट पेमेंट्स बैंक के पास 1.80 लाख डिलीवरी स्टाफ है, जो घर-घर जाकर बैंकिंग सेवा देंगे।

You May Also Like

English News