जयंत सिन्हा बोले- नई अर्थव्यवस्था बना रहे हैं लंबे समय में दिखेगा फायदा

अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में वित्त मंत्री रहे बीजेपी के दिग्गज यशवंत सिन्हा के द्वारा अर्थव्यवस्था की स्थिति पर उठाए गए सवालों से केंद्र सरकार बैकफुट पर थी. अब, यशवंत सिन्हा को जवाब देने के लिए सरकार की ओर से कोई और नहीं बल्कि उनके ही बेटे जयंत सिन्हा मैदान में आए हैं. जयंत सिन्हा ने कहा कि हम एक नई मजबूत अर्थव्यवस्था बना रहे हैं, जो कि लंबे समय में न्यू इंडिया के लिए फायदेमंद होगी.

जयंत सिन्हा ने कहा है कि एक या दो क्वार्टर के डाटा को ना देखते हुए इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि हम अभी संरचनात्मक सुधार कर रहे हैं, जो कि लंबे समय के लिए हमारे लिए फायदेमंद होगा.

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया के लिए लिखे गए लेख में जयंत सिन्हा ने कहा है कि हाल ही के दिनों में अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर कई तरह के आर्टिकल लिखे गए हैं. उन्होंने लिखा कि सरकार जो बदलाव कर रही है वह न्यू इंडिया की जरूरत हैं. जो नई इकोनॉमी तैयार हो रही है वह ज्यादा ट्रांसपेरेंट होगी जिसमें लाखों लोगों को जॉब मिलेगी.

जयंत सिन्हा ने लिखा कि जीएसटी, नोटबंदी और डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा एक गेमचेंजिंग कोशिश हैं. जिसका असर लंबे समय में दिखेगा. हर मंत्रालय नई तरह की पॉलिसी बना रहा है अब कोयला की नीलामी भी सही तरीके से हो रही है. इस सरकार के कार्यकाल में एफडीआई के आंकड़ों में काफी बढ़ोतरी हुई है.

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एफडीआई में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. FY2014 में FBI 36 बिलियन डॉलर थी जो FY2017 में 60 बिलियन डॉलर तक पहुंच गई है. जनधन-आधार-मोबाइल (जैम) की सहायता से हम डायरेक्ट बेनेफिट ट्रांसफर कर रहे हैं जिससे पिछले तीन साल में 1.75 लाख करोड़ रुपए तक सीधा लोगों के खाते में जा रहे हैं. और लीकेज़ बंद हो रही है.

यशवंत ने किया था बड़ा वार

आपको बता दें कि पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने एक अंग्रेजी अखबार में लेख लिखा है. जिसमें उन्होंने नोटबंदी के फैसले पर भी सरकार को आड़े हाथों लिया, उन्होंने कहा कि नोटबंदी ने गिरती जीडीपी में आग में तेल डालने की तरह काम किया.

यशवंत सिन्हा ने तंज कसते हुए कहा कि पीएम मोदी कहते हैं कि उन्होंने गरीबी को काफी करीबी से देखा है. ऐसा लगता है कि उनके वित्तमंत्री इस तरह का काम कर रहे हैं कि वह सभी भारतीयों को गरीबी काफी पास से दिखाएं.

You May Also Like

English News