जर्मनी यात्रा के बाद मोदी भारत के लिए रवाना

यूरोप यात्रा के आखरी दौर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बर्लिन पहुंचकर जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल से मुलाकात की, जहा मोदी के स्वागत में रात्रिभोज का आयोजन किया गया. इस मुलाकात के बाद पीएम भारत के लिए रवाना हो गए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल से मुलाकात पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, ‘दोस्ती को और मजबूत करते हुएयूरोप यात्रा के आखरी दौर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बर्लिन पहुंचकर जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल से मुलाकात की, जहा मोदी के स्वागत में रात्रिभोज का आयोजन किया गया. इस मुलाकात के बाद पीएम भारत के लिए रवाना हो गए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल से मुलाकात पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, 'दोस्ती को और मजबूत करते हुए.  जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने द्विपक्षीय बैठक से पहले चांसलरी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का गर्मजोशी से स्वागत किया.' उन्होंने कहा कि दोनों नेताओं ने भारत और जर्मनी के बीच सहयोग को और प्रगाढ़ बनाने के तरीकों पर चर्चा की. इसमें आगे लिखा कि यह यात्रा रणनीतिक भागीदारी को मजबूत करने की भारत की पारस्परिक इच्छा को दिखाती है.  भारतीय विदेश मंत्रालय का कहना है कि मोदी की यह यात्रा दोनों देशों के बीच उच्च स्तर पर रिश्तों में बने गर्माहट को बनाए रखना है. मोदी की यह यात्रा पिछली महीने जर्मन राष्ट्रपति फ्रैंक-वाल्टर स्टैनमियर के भारत दौरे के बाद हो रही है. यूरोपियन यूनियन में शामिल देशों में जर्मनी भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझीदार है.गौरतलब है कि मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद विदेशों से भारत के संबंध प्रगाढ़ हो रहे है वही मोदी की असंख्य विदेश यात्रा पर विपक्ष सदा से सवाल उठाता रहा है. .

जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल ने द्विपक्षीय बैठक से पहले चांसलरी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का गर्मजोशी से स्वागत किया.’ उन्होंने कहा कि दोनों नेताओं ने भारत और जर्मनी के बीच सहयोग को और प्रगाढ़ बनाने के तरीकों पर चर्चा की. इसमें आगे लिखा कि यह यात्रा रणनीतिक भागीदारी को मजबूत करने की भारत की पारस्परिक इच्छा को दिखाती है.

भारतीय विदेश मंत्रालय का कहना है कि मोदी की यह यात्रा दोनों देशों के बीच उच्च स्तर पर रिश्तों में बने गर्माहट को बनाए रखना है. मोदी की यह यात्रा पिछली महीने जर्मन राष्ट्रपति फ्रैंक-वाल्टर स्टैनमियर के भारत दौरे के बाद हो रही है. यूरोपियन यूनियन में शामिल देशों में जर्मनी भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझीदार है.गौरतलब है कि मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद विदेशों से भारत के संबंध प्रगाढ़ हो रहे है वही मोदी की असंख्य विदेश यात्रा पर विपक्ष सदा से सवाल उठाता रहा है. 

You May Also Like

English News