जहां मन ना लगे वहां से हट जाना चाहिए : आशुतोष

आम आदमी पार्टी से पिछले दिनों बड़े नेता और पार्टी के प्रवक्ता आशुतोष ने इस्तीफा दे दिया था. अब  आशुतोष ने पार्टी से अलग होने के बाद पहली बार अपने कुछ अनुभव साँझा किये है. उन्होंने कहा पार्टी में आने के बाद भी वह अपनी पत्रकारीय आदतों को नहीं भूल पाए थे इसी कारण जब भी कोई पत्रकार उनसे सवाल पूछते थे तो कई बार उनको यह सवाल करना अच्‍छा नहीं लगता था.जहां मन ना लगे वहां से हट जाना चाहिए : आशुतोष

आशुतोष ने एक और बात का खुलासा करते हुए एक अखबार के इंटरव्यू में कहा ‘मेरी इस आदत के कारण शुरुआती डेढ़-दो महीनों के बाद पत्‍नी ने समझाया कि अब आप किसी न्यूज़ चैनल के संपादक नहीं हैं. इसलिए पत्रकारों के सवालों का बुरा मत माना कीजिए क्‍योंकि अगर सहन नहीं कर पा रहे हो तो ये सब छोड़ दीजिए. ‘

आशुतोष ने यह भी कहा कि जहां आपका मन न लगे, वहां से हट जाना चाहिए. पिछले दो-तीन महीनों से पार्टी से मेरा मन उचट गया था. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि आदमी को मूल स्‍वभाव के अनुसार ही अपना काम करना चाहिए. बता दें कि आशुतोष ने करीब करीब साढ़े चार साल तक आम आदमी पार्टी के साथ जुड़कर सक्रिय राजनीति में काम किया.

You May Also Like

English News